Home समाचार पंजाब में AAP की सरकार बनने के बाद 14 किसानों ने की...

पंजाब में AAP की सरकार बनने के बाद 14 किसानों ने की आत्महत्या, केजरीवाल ने किया था वादा- 1 अप्रैल के बाद से पंजाब के अंदर किसी किसान को खुदकुशी नहीं करने देंगे

160
SHARE

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल बयान बहादुर हैं। जनता को गुमराह करने के लिए बड़े-बड़े वादे और दावे करने के लिए जाने जाते हैं। फिर उनका एक दावा खोखला साबित हुआ है। उन्होंने पंजाब में विधानसभा चुनाव के दौरान किसानों को भरोसा दिलाया था कि उनकी पार्टी की सरकार बनने के बाद पंजाब में कोई किसान अपनी जान नहीं देगा। लेकिन भगवंत मान के नेतृत्व में राज्य में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद भी किसानाें की आत्महत्याओं का दाैर जारी है।

कर्ज और गेहूं की उपज कम होने से किसान परेशान

विभिन्न स्रोतों से मिले आंकड़ों के मुताबिक 23 अप्रैल, 2022 तक 14 किसान खुदकुशी कर चुके हैं, जिसका कारण फसल कम होना है। खुदकुशी करने वाले ज्यादातर किसान वह हैं जिन पर कर्ज भी था। पिछले साल गुलाबी सुंडी ने कपास की फसल को पूरी तरह से नष्ट कर दिया था, जिससे किसान आर्थिक संकट में पड़ गया था। कपास की फसल में भारी नुकसान के बाद किसानों को गेहूं की बंपर फसल की उम्मीद थी। लेकिन कम उपज ने पहले से कर्ज में डूबे किसानों की चिंता बढ़ा दी। वहीं कर्ज वसूली के लिए 2000 किसानों को नोटिस ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। उन्हें आम आदमी पार्टी की सरकार से जो राहत की उम्मीद थी, वो भी खत्म हो गई। इसकी वजह से निराश किसान आत्महत्या के लिए मजबूर हुए।

आत्महत्या करने वाले किसान

1 अप्रैलः फिरोजपुर के गुरुहरसहाय के 68 वर्षीय सुखदेव ने खुदकुशी कर ली।
2 अप्रैलः मोगा के मांगेवाला गांव के अवतार सिंह और गुरदासपुर के बाबरी गांव के प्रभवीर सिंह
9 अप्रैलः मोगा जिले के भाबूर के 45 वर्षीय रणजीत सिंह
13 अप्रैलः जालंधर की गुरुहार किसान बस्ती में 44 वर्षीय अमृतपाल सिंह
14 अप्रैलः बरनाला के अमरजीत सिंह व फाजिल्का के सादिक गांव के किसान काला सिंह
17 अप्रैलः कपूरथला जिले के एक युवा किसान
18 अप्रैलः बठिंडा जिले के बजक गांव के 38 वर्षीय रमनदीप सिंह
19 अप्रैलः मानसा जिले के गांव भादरा के माखन सिंह और संगरूर के गुरबख्शपुरा गांव के सुखदेव सिंह
20 अप्रैलः बठिंडा जिले के मनसा खुर्द गांव के गुरदीप सिंह और माइसखाना गांव के जसपाल सिंह
21 अप्रैलः बठिंडा जिले के गांव भागी बंदर के किसान रणधीर सिंह
23 अप्रैलः होशियारपुर जिले के किसान मंजीत सिंह

‘वादा तेरा वादा, वादे पे तेरे मारा गया किसान’

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव प्रचार के वक्त AAP संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा था – ‘मार्च में नतीजे आ जाएंगे। 1 अप्रैल के बाद से पंजाब के अंदर किसी किसान को खुदकुशी नहीं करने देंगे। हमारी जिम्मेदारी है’। इसको लेकर अब विरोधी आप पर हमलावर हो गए हैं। किसान नेता बलबीर राजेवाल ने मुख्यमंत्री मान को चिट्‌ठी लिखी कि पुलिसकर्मियों की तर्ज पर मान सरकार किसानों के परिवार को एक करोड़ मुआवजा दे।

Leave a Reply