Home समाचार पंजाब के बाद अब तेलंगाना में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रेड्डी ने किया...

पंजाब के बाद अब तेलंगाना में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रेड्डी ने किया बिहार के लोगों का अपमान, DNA पर ही उठा दिया सवाल

345
SHARE

कांग्रेस के नेताओं के मन में बिहार के लोगों के प्रति काफी जहर भरा हुआ है। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी द्वारा बिहारियों को लेकर की गयी विवादित टिप्पणी पर सियासी बवाल अभी शांत भी नहीं हुआ था कि तेलंगाना कांग्रेस के अध्यक्ष रेवंत रेड्डी ने बिहार को लेकर जहरीला बयान दे दिया। क्षेत्रवाद की भावना से ग्रसित रेड्डी ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर पर निशाना साधते हुए बिहार के लोगों के डीएनए पर सवाल उठा दिया। 

बिहारी अधिकारियों से पद छोड़ने की अपील

कांग्रेस नेता रेवंत रेड्डी ने कहा कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव का डीएनए बिहारी हो गया है। उनके पूर्वज बिहार से दक्षिणी राज्य में आकर बसे थे। राज्य को बिहारी अधिकारी ही चला रहे हैं। दरअसल राज्य के मुख्य सचिव सोमेश कुमार और प्रभारी डीजीपी अंजनी कुमार बिहार से हैं। नगर प्रशासन के प्रमुख सचिव अरविंद कुमार और संदीप कुमार सुल्तानिया सहित अधिकारियों का एक बड़ा हिस्सा बिहार से है। रेवंत रेड्डी ने तेलंगाना के बिहारी आइएएस और आइपीएस अधिकारियों से अपने पद छोड़ने की भी अपील की। 

बिहार की राजनीति पर साधा निशाना

रेवंत रेड्डी ने बिहार की राजनीति पर भी निशाना साधते हुए कहा कि बिहार की राजनीति तलवार के दम पर चलती है वहां चुनाव में हिंसा होती है। महिलाएं रात में आजादी से नहीं घूम सकतीं है। बिहार में कानून व्यवस्था बहुत खराब है। इसके साथ ही कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि केसीआर पहले चुनाव जीतने के लिए अपनी कल्याणकारी योजनाओं पर निर्भर रहते थे। लेकिन अब बिहार से आने वाले चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की मदद लेकर फैसले ले रहे हैं।

एनडीए ने जतायी आपत्ति, बिहार कांग्रेस ने किया बचाव

बिहार के एनडीए नेताओं ने रेड्डी के इस बयान पर कड़ी आपत्ति जतायी है। डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि कांग्रेस को बिहार के लोगों से क्या परेशानी है। पहले पंजाब में और अब तेलंगाना में बिहार के लोगों को अपमानित कर रहे हैं। उन्हें यह बंद करना होगा, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वहीं, कांग्रेस के सहयोगी दल राजद ने भी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने रेड्डी से माफी की मांग की। हालांकि, बिहार कांग्रेस के नेताओं ने अपनी पार्टी का बचाव किया। 

क्षेत्र विशेष के प्रति कांग्रेस नेता की नफरत और घृणा

बिहार सरकार में सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री संजय कुमार झा ने रेड्डी के बयान पर कहा कि यह एक ऐसे क्षेत्र विशेष के प्रति कांग्रेस नेता की नफरत और घृणा को दर्शाता है, जिसने नौकरशाही और राष्ट्र निर्माण में व्यापक योगदान दिया है। बिहारी मूल के लोगों से नफरत करने वाले रेवंत रेड्डी भूल जाते हैं कि इसी बिहारी डीएनए ने बुद्ध, गुरु गोबिंद सिंह, सम्राट अशोक व चंद्रगुप्त मौर्य जैसे युग पुरुषों को जन्म दिया है। बिहार लोकतंत्र की भी जननी है। यह बिहारी डीएनए ही है, जिसने भारत को पहला राष्ट्रपति व नालंदा विवि के रूप में पहला वैश्विक ज्ञान केंद्र दिया।

आइए देखते हैं कब-कब कांग्रेस के नेताओं ने बिहार के लोगों को अपमानित करने का काम किया है…

बिहार के लोगों को गाली देते रहे चन्नी, हंसती रहीं प्रियंका गांधी

15 फरवरी, 2022 को पंजाब के रूपनगर में प्रियंका गांधी वाड्रा ने मुख्यमंत्री चन्नी के सामने कहा कि पंजाब पंजाबियों का है। यहां पर कोई नई राजनीति नहीं मिलेगी। ये जो बाहर से आते हैं उन्हें पंजाबियत सिखाइए। यूपी के, बिहार के दिल्ली के भैया यहां आकर राज नहीं कर सकते। यूपी के भैया को पंजाब में फटकने नहीं देना है। चन्नी माइक पर यूपी-बिहार वालों को भइया कहकर गाली देते रहे और इस दौरान प्रियंका वाड्रा हंसती और ताली बजाती रही। इतना ही नहीं प्रियंका वाड्रा मुस्कुराते हुए लोगों के साथ मिलकर नारे भी लगाती रहीं। 

सलमान खुर्शीद ने किया बिहार की जनता का अपमान

बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बन गई है। इससे सत्ता में वापसी के सपना संजोए कांग्रेस को गहरा आघात लगा। महागठबंधन में शामिल पार्टियों में सबसे खराब प्रदर्शन कांग्रेस का रहा। इसको लेकर कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने फेसबुक पोस्ट किया, जिसमें आखिरी मुगल सम्राट के उदार मूल्यों के आधार पर कांग्रेस के असंतुष्ट नेताओं को समझाने की कोशिश की, वहीं कांग्रेस की फजिहत के लिए बिहार की जनता को ही जिम्मेदार बताकर अपमान किया। सलमान खुर्शीद ने बिहार की जनता पर आरोप लगाया कि उन्हें उदारवादी मूल्यों की कदर नहीं है। उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, “अगर मतदाता का मूड उन लिबरल वैल्यू को स्वीकारने का नहीं है, जिनका हम समर्थन करते हैं या जिन्हें हम पोषित करते हैं तो हमें सत्ता में लौटने के लिए छोटे रास्तों पर फोकस करने की बजाए लंबा संघर्ष करना होगा।”

गरीब बिहारी मुफ्त वैक्सीन के लालच में आ गए-अर्चना डालमिया

बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना में एनडीए की बढ़त को देखकर कांग्रेस के नेताओं के सुर बदल गए। कोई ईवीएम हैक होने की बात कहने लगा, तो कोई जनता को लालच दिए जाने की बात कर रहा था। लेकिन कांग्रेस के नेता अपने बयानों से बिहार के जनादेश को स्वीकार करने की जगह उसे अपमानित करने का काम करते रहे। कांग्रेस नेता अर्चना डालमिया ने ट्वीट कर कहा कि लगता है गरीब बिहारी मुफ्त वैक्सीन के लालच में आ गए।

सुशांत सिंह राजपूत मौत ममाले में कांग्रेस ने खेला क्षेत्रीय कार्ड

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने ड्रग्स केस में आरोपी रिया चक्रवर्ती का समर्थन किया था। जिस पर बिहार के उपमुख्यमंत्री रहे सुशील कुमार मोदी ने उनपर निशाना साधा था। उन्होंने कहा कि अधीर रंजन चौधरी ने रिया को बेकसूर बताकर बिहार की जनता और सुशांत के लाखों प्रशंसकों का अपमान किया। इससे पहले पश्चिम बंगाल कांग्रेस ने कोलकाता में सुशांत सिंह राजपूत केस से जुड़े ड्रग मामले में गिरफ्तार हुईं रिया चक्रवर्ती के समर्थन रैली निकाली थी।

कांग्रेस ने बिहार के सीताराम केसरी का किया अपमान

सीताराम केसरी बिहार के पिछड़े वर्ग से थे और 1996 से 1998 तक कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। अब पार्टी वेबसाइट में पूर्व अध्यक्षों की लिस्ट में उनका नाम नहीं है। दरअसल, राजीव गांधी के निधन के बाद पूर्व पीएम पीवी नरसिम्हा राव कांग्रेस के अध्यक्ष बने। सितंबर 1996 में नरसिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ा तो सीताराम केसरी अध्यक्ष बने। 9 मार्च 1998 को केसरी ने अपने इस्तीफे की मंशा जाहिर की, हालांकि बाद में उन्होंने अपना मन बदल लिया था। इसके बाद सीडब्ल्यूसी की बैठक हुई, और प्रणब मुखर्जी ने पार्टी प्रमुख के रूप में उनकी सेवाओं के लिए उन्हें धन्यवाद दिया और सोनिया गांधी को पद संभालने का प्रस्ताव पेश किया। इसी दिन औपचारिक रूप से अध्यक्ष की कुर्सी सोनिया को दे दी गई और आनन-फानन में केसरी की नेमप्लेट हटा दी गई और इसे कूड़ेदान में फेंक दिया गया। इसके बाद यूथ कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने उनकी धोती खींचने की भी कोशिश की।

Leave a Reply