Home समाचार AAP विधायक गुलाब सिंह यादव ने कहा- बीजेपी के इशारे पर की...

AAP विधायक गुलाब सिंह यादव ने कहा- बीजेपी के इशारे पर की गई मारपीट, AAP के नेता ने ही खोल दी विधायक के झूठ की पोल

164
SHARE

दिल्ली के लोगों से झूठे वादे करके सत्ता पर काबिज होने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के झूठ पोल अब दिन-ब-दिन खुलती जा रही है। दिल्ली की जनता तो ठगा महसूस कर ही रही है अब तो आलम यह हो गई है कि AAP के कार्यकर्ता भी ठगा महसूस कर रहे हैं और यही वजह है कि उनके सब्र का बांध टूटने लगा है। जिन कार्यकर्ताओं ने पूरी ईमानदारी के साथ केजरीवाल का साथ दिया, आज वही कार्यकर्ता अपने साथ हो रहे विश्वासघात से आहत है। आज आम आदमी पार्टी एक ऐसी भ्रष्टचार की मंडी बनकर रह गई है, जिसमें दिल्ली नगर निगम चुनाव को लेकर खुलेआम टिकटों की खरीद-बिक्री हो रही है। इससे आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने अपना गुस्सा AAP के मटियाला से विधायक औऱ गुजरात के प्रभारी रहे गुलाब सिंह यादव पर निकाला और उन्हें दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इसके बाद गुलाब सिंह यादव ने अपनी पार्टी की छवि का बचाव करते हुए एक बयान दिया कि उन पर हमले के पीछे बीजेपी के लोग थे। लेकिन अब उनके झूठ की पोल पार्टी के नेता ने ही खोल दी है। मटियाला विधानसभा के आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष रघुविंदर वर्मा ने कहा कि हमला करने वाले AAP के कार्यकर्ता थे। उन्होंने नाम गिनाकर कहा कि गुलाब सिंह ने जिनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दी है वे सभी AAP के कार्यकर्ता हैं।

गुलाब सिंह यादव ने कहा- भाजपा के बहकावे में आकर किया गया हमला

विधायक गुलाब सिंह यादव ने कहा कि हमेशा मैं अकेला चलता हूं। कभी अपने आगे-पीछे गाड़ी नहीं रखता हूं। क्योंकि मैंने जीवन में कभी किसी के साथ कुछ किया ही नहीं। एक शऱीफ परिवार से हूं। गांधीवादी सोच रखने वाला हूं। कल भाजपा के उम्मीदवार पवन शर्मा के इशारे पर और उनके बहकावे में आकर हमारे भाई सुमित शौकीन ने ये हरकत की।

ये हमारे लोग हैं, अन्ना आंदोलन से हमारे साथ काम किया हैः रघुविंदर वर्मा

मटियाला विधानसभा के AAP अध्यक्ष अध्यक्ष रघुविंदर वर्मा ने कहा कि मैंने विधायक जी के वीडियो देखे। उसमें विधायक जी द्वारा कहा गया कि ये बीजेपी द्वारा षडयंत्र रचा गया है। विधायक जी ने जो ये बात बोली है गलत बोली है मैं इसका कतई खंडन करता हूं। विधायक जी बोल रहे हैं वहां पर बीजेपी से प्रायोजित लोग थे। वहां बीजेपी के कौन लोग थे बताओ न भाई। वहां दो-दो वार्ड अध्यक्ष मौजूद थे, विधानसभा के उपाध्यक्ष मौजूद थे। संगठन के पुराने वार्ड अध्यक्ष मौजूद थे। वार्ड का पूर्व अध्यक्ष और पूर्व प्रत्याशी ने आपके ऊपर आरोप लगाया, उसके ऊपर बात करो आप। आपने जाकर एफआईआर करा दी विकास राय के नाम पर, सुमित के नाम पर, सुमित की पत्नी ज्योति के नाम पर, नवीन के नाम पर…तो ये लोग बीजेपी के लोग हैं? शर्म आनी चाहिए। मैं कहता हूं कि ये हमारे कार्यकर्ता हैं। मेरे वार्ड अध्यक्ष हैं, मेरे पूर्व प्रत्याशी हैं। हमारे साथ इन लोगों ने अन्ना आंदोलन से काम किया है।

दिल्ली में टिकट बेचने के आरोप में AAP के विधायक की पिटाई

दरअसल AAP के विधायक गुलाब सिंह यादव सोमवार रात करीब 8 बजे दिल्ली के श्याम विहार में अपने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे थे। इस दौरान कार्यकर्ता टिकट बेचने को लेकर अचानक आक्रोशित हो गए और हंगामा शुरू कर दिया। कार्यकर्ता विधायक पर टूट पड़े और उनका कॉलर पकड़कर धक्का-मुक्की करने लगे। कार्यकर्ताओं से बचने के लिए विधायक बाहर निकलकर भागने की कोशिश करने लगे तो कार्यकर्ता उनका पीछा करते हुए उन्हें मुक्के मारते रहे। पहले कार्यकर्ताओं ने गुलाब सिंह को कार्यालय में मारा इसके बाद पीटते हुए कार्यालय से बाहर लेकर आए। आखिरकार विधायक को अपनी जान बचाकर वहां से भागना पड़ा। इस घटना का वीडियो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

‘मारो-मारो, चोर-चोर’ की आवाज के बीच जान बचाकर भागे विधायक

इस वीडियो में साफ तौर पर सुना और देखा जा सकता है कि कार्यकर्ता मारो-मारो, चोर-चोर की आवाज लगा रहे हैं और विधायक जान बचाकर भाग रहे हैं। लेकिन अभी तक आम आदमी पार्टी की ओर से इस घटना पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अभी तक इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं की है। पुलिस उपायुक्त (द्वारका) एम हर्षवर्धन ने बताया कि टिकट वितरण के मुद्दे पर कहासुनी हुई जिसके बाद कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं ने गुलाब सिंह के साथ धक्कामुक्की की। उन्होंने कहा, ”उनका मेडिकल टेस्ट किया गया है लेकिन कोई अंदरूनी चोट नहीं मिली। बयान के आधार पर कानूनी कार्रवाई की जा रही है।’’

‘केजरीवाल जी, आप के सभी भ्रष्ट विधायकों की बारी ऐसे आएगी’

गुलाब सिंह के पिटाई के बाद बीजेपी भी आम आदमी पार्टी और केजरीवाल पर हमलावर हो गई है। दिल्ली बीजेपी ने ट्वीट किया, “आप विधायक की पिटाई! आम आदमी पार्टी के विधायक गुलाब सिंह यादव को टिकट बेचने के आरोप में आप कार्यकर्ताओं ने पीटा। केजरीवाल जी, आप के सभी भ्रष्ट विधायकों की बारी ऐसे आएगी।” बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी कटाक्ष किया और कहा कि आप का भ्रष्टाचार ऐसा है कि उसके सदस्य भी अपने विधायकों को नहीं छोड़ रहे हैं। उन्होंने ट्वीट किया, “जो आए थे भ्रष्टाचार के खिलाफ “लड़ाई” लड़ने, आज उनकी भ्रष्टाचार के लिए “पिटाई” हो रही है। ये वही लोग है जो कभी देश के भ्रष्टतम लोगों का नाम जारी करते थे बाद में उन्हीं लोगों के साथ जाकर गलबहियां करने लग गए। आज अरविंद केजरीवाल और उनकी पूरी पार्टी भ्रष्टाचार की पर्याय बन चुकी है।”

एमसीडी चुनाव में ‘आप’ के हथियार से ‘आप’ पर हमला

दिल्ली नगर निगम का चुनाव काफी दिलचस्प हो गया है। आम आदमी पार्टी जिस भ्रष्टाचार के हथियार से विरोधियों पर हमले कर रही थी, अब वो हथियार उसके खिलाफ ही इस्तेमाल होने लगा है। सबसे हैरानी की बात यह है कि उस हथियार का इस्तेमाल कोई विरोधी नहीं कर रहे हैं, बल्कि उसके कार्यकर्ता ही कर रहे हैं। पार्टी के विधायकों पर एमसीडी चुनाव में टिकट के बदले रिश्वत लेने का खुलासा खुद पार्टी के कार्यकर्ता कर रहे हैं। नया-नया स्टिंग वीडियो जारी कर केजरीवाल के कट्टर ईमानदारी के दावे की धज्जियां उड़ा रहे हैं। आप के कार्यकर्ता बिंदु श्रीराम से टिकट के बदले 80 लाख रुपये मांगे गए। वार्ड नंबर-54 सीट के बदले ये पैसे मांगे गए। एक स्टिंग ऑपरेशन में 110 सीटों की बुकिंग होने की बात सामने आई है।

जबरन वसूली के आरोप में गिरफ्तार हुए थे गुलाब सिंह यादव

इससे पहले 2016 में गुलाब सिंह पर जबरन वसूली के आरोप लगे थे। तब वह आम आदमी पार्टी के गुजरात के प्रभारी थे। दिल्ली में दर्ज हुए मामले में गुलाब सिंह यादव को गुजरात से गिरफ्तार कर यहां लाया गया था। गुलाब सिंह और उनके सहयोगियों के खिलाफ धमकी और वसूली मामले में गैर-जमानती वॉरंट जारी किया गया था। बिल्डरों ने आरोप लगाया था कि आप विधायक के कार्यालय में काम करने वाले सतीश और देविंदर और एक सहयोगी जगदीश ने उनसे धन की मांग की थी और धमकी दी थी कि अगर पैसे का भुगतान नहीं किया गया तो वे उस भवन को ध्वस्त करा देंगे।

केजरीवाल चुनावों में करते हैं टिकट बेचने का धंधा

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल किस तरह चुनाव दर चुनाव टिकट बेचने का गोरखधंधा चला रहे हैं यह अब किसी से छिपा नहीं है। आम आदमी पार्टी में पैसे लेकर टिकट बेचने की रीत पुरानी हो गई है। दिल्ली, उत्तराखंड, पंजाब, गुजरात और अब एमसीडी चुनाव हर जगह कहानी एक सी है। पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान जब बड़े पैमाने टिकट बेचे जाने के आरोप लगे तो उस वक्त दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया था कि यदि आरोप साबित हो गया तो भ्रष्टाचार करने वाले को वो जेल भेज कर रहेंगे। अगर राजनीति में यू टर्न को लेकर कोई अवॉर्ड होता तो निश्चित तौर पर ये सम्मान आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ही मिलता। सच्चाई तो यही है कि आरोप लगाकर राजनीति में एंट्री करने वाले अरविंद केजरीवाल अब खुद पर आरोप लगने पर सबूतों की दुहाई दे रहे हैं। सवाल ये है कि क्या आरोपों की राजनीति करने वाले केजरीवाल अपने ही जाल में फंस गए हैं? क्या अब सबूतों की सियासत करके केजरीवाल आरोपों से बचना चाहते हैं।

पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान वायरल वीडियो में कहा गया- केजरीवाल पैसे खाता है, सिसोदिया पैसे खाता है

पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता और दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवालने पार्टी टिकट बेचे जाने के आरोपों पर प्रतिक्रिया दी थी। उन्‍होंने कहा कि 1947 से लेकर आजतक की सबसे ईमानदार पार्टी AAP है। हमने एक भी टिकट नहीं बेची। अगर कोई साबित कर दे कि टिकट बेची तो बेचने और खरीदने वाले को तुरंत पार्टी से निकालूंगा। यहीं नहीं, उनका जहन्नुम तक पीछा नहीं छोडूंगा। आजकल कीचड़ उछालने का फैशन है। कीचड़ हम पर उछाला जा रहा है। अगर किसी ने ऊलजुलूल आरोप लगाया तो उसको भी नहीं छेड़ेंगे। केजरीवाल ने कहा, ‘राजेवाल साहब की बहुत इज्जत करता हूं। वे मेरे घर आए थे। उन्होंने एक ऑडियो क्लिप दी, उसमें दो लोग बात कर रहे हैं कि केजरीवाल पैसे खाता है, सिसोदिया पैसे खाता है, राघव चड्ढा 5 स्टार होटल जाता है। यह तो सबूत नहीं हुआ न, राजेवाल साहब भोले आदमी हैं, उन्हें गुमराह किया जा रहा है।

इन 6 घटनाओं से जानिए सच्चाई कि केजरीवाल किस तरह टिकट बेचने का गोरखधंधा करते हैं-

मई 2019 – आप प्रत्याशी के बेटे का दावा- पिता ने टिकट के लिए केजरीवाल को 6 करोड़ रु. दिए

2019 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान पश्चिम दिल्ली सीट से आप प्रत्याशी बलबीर जाखड़ के बेटे ने दावा किया है कि उनके पिता ने टिकट के बदले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को 6 करोड़ रुपए दिए हैं। जाखड़ के बेटे उदय ने कहा, “उनके पास इसके विश्वसनीय सबूत भी हैं।” उदय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया, ”मेरे पिता बलबीर जाखड़ कभी अन्ना आंदोलन या आप से नहीं जुड़े। वे जनवरी में ही राजनीति में आए। उन्होंने मुझे बताया कि उन्हें लोकसभा चुनाव में टिकट मिल रहा है। इसके लिए उन्होंने 6 करोड़ रुपए केजरीवाल और गोपाल राय को दिए। उदय ने बताया था कि जब मैंने अपने पिता से कहा था कि पढ़ाई के लिए पैसों की जरूरत है, तो उन्‍होंने मना कर दिया। उन्होंने सोचा कि वे इस पैसे का इस्तेमाल चुनाव में कर पाएंगे। इस खुलासे के बाद मुझे नहीं पता मेरा क्या होगा? मेरा परिवार मुझे अपनाएगा या नहीं। मुझे नहीं पता। उल्लेखनीय है कि पश्चिमी दिल्ली से आप ने बलबीर जाखड़, कांग्रेस ने महाबल मिश्रा और भाजपा ने मौजूदा सांसद प्रवेश वर्मा को टिकट दिया था।

जनवरी 2020- AAP विधायक ने केजरीवाल पर लगाया टिकट बेचने का आरोप, बताया देश की सबसे भ्रष्ट पार्टी

दिल्ली के बदरपुर से कांग्रेस के पूर्व विधायक राम सिंह नेताजी को टिकट दिए जाने से नाराज आप विधायक एनडी शर्मा ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद उन्होंने प्रेसवार्ता कर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पर कई आरोप लगाते हुए निशाना साधा। एनडी शर्मा ने आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री ने बदरपुर विधानसभा का टिकट 21 करोड़ रुपये में राम सिंह नेता जी को बेचा है। शर्मा ने कहा था कि मनीष सिसोदिया जी ने अपने घर पर बुलाकर कहा- ”आपके यहां से 21 करोड़ रुपये देकर राम सिंह नेताजी टिकट चाह रह है। आप पार्टी की फाइनेंसली कितनी मदद करेंगे। तो मैंने कहा कि जहां करोड़ों में बात हो रही है तो मैं तो सोच भी नहीं सकता।” एनडी शर्मा ने कहा कि बदरपुर में आप को कोई नहीं जानता था, तब तमाम कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर उन्होंने गली-गली पोस्टर लगाए और घर-घर जाकर पार्टी की पहचान बनाई और इस मुकाम तक पहुंचाया। विधायक ने पार्टी को देश की सबसे भ्रष्ट पार्टी करार दिया।

जनवरी 2020- केजरीवाल ने द्वारका का टिकट 10 करोड़ में बेचाः आदर्श शास्त्री

द्वारका से आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक आदर्श शास्त्री ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर 10 से 20 करोड़ रुपए लेकर दिल्ली विधानसभा चुनाव टिकट बेचने का गंभीर आरोप लगाया। आदर्श शास्त्री ने कहा कि सीएम केजरीवाल ने विधानसभा चुनाव का टिकट 10 करोड़ रुपये में बेचा। टिकट कटने से नाराज़ आम आदमी पार्टी से द्वारका के विधायक आदर्श शास्त्री कांग्रेस में शामिल हो गए। केजरीवाल ने आदर्श शास्त्री की जगह कांग्रेस छोड़कर ‘आप’ में आए विनय कुमार मिश्रा को टिकट दे दिया था। विनय मिश्रा कांग्रेस के पूर्व सांसद महाबल मिश्रा के बेटे हैं। विनय मिश्रा को पार्टी जॉइन करने के अगले दिन ही टिकट मिल गया था। इस बात से आदर्श शास्त्री नाराज चल रहे थे कि एक ‘बाहरी’ को टिकट दे दिया गया। कांग्रेस में शामिल होने के बाद आदर्श शास्त्री ने कहा कि बहुत कुछ सोचकर आम आदमी पार्टी में शामिल हुआ था, लेकिन यहां भ्रष्टाचार देखकर मन क्षुब्ध हुआ। उन्होंने सीएम केजरीवाल को तानाशाह करार दिया। आदर्श शास्त्री ने कहा कि केजरीवाल विधायकों को मिलने का समय नहीं देते। ऐसे में कोई भी अपना स्वाभिमान बेचकर वहां नहीं रह सकता। वह ईमानदारी का ढोंग करते हैं। जिस महाबल मिश्रा को 70 हजार वोट से हराया था, उसी के बेटे को 10 करोड़ में टिकट बेच दिया। विधानसभा चुनाव से पहले एमसीडी चुनाव में भी टिकटें बेची गई थीं।

जनवरी 2022 –पंजाब में टिकट बेचने के आरोपों में घिरी AAP

पंजाब विधानसभा चुनाव में पैसे लेकर टिकट बेचने के आरोप के बाद आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया था कि यदि आरोप साबित हो गया तो भ्रष्टाचार करने वाले को वो जेल भेज कर रहेंगे। पंजाब में आम आदमी पार्टी AAP पर उसके ही यूथ विंग के अध्यक्ष ने टिकट बेचने का संगीन आरोप लगाया था। इन्हीं आरोपों की वजह से दिल्ली में आप के विधायक राघव चड्ढा को चंडीगढ़ में विरोध का सामना करना पड़ा और प्रेस कॉन्फ्रेंस छोड़कर भागने की नौबत आई। उसके बाद अरविंद केजरीवाल इन आरोपों से खुद को पाक साफ दिखाने के लिए तमाम तिकड़म में जुट गए। केजरीवाल ने पार्टी टिकट के बदले पैसे लिये जाने के आरोपों को खारिज कर दिया और कहा कि आप में ऐसा नहीं होता। उन्होंने कहा, ”यदि कोई यह साबित कर देता है कि किसी ने टिकट बेचे और किसी ने उन्हें खरीदा तो मैं 24 घंटे के अंदर उन्हें पार्टी से बाहर निकाल दूंगा। मैं कुछ भी बर्दाश्त कर सकता हूं, लेकिन भ्रष्टाचार को नहीं।” राघव चड्ढा ने अपनी सफाई में कहा, ”आप ईमानदार पार्टी है। वोट खरीदने के लिए पैसे नहीं देती, न ही शराब बांटती है। एक पर्चा आप ने बांटा है जिस पर लिखा है कि सारी पार्टियों से पैसे लो पर वोट झाड़ू को दो। अकाली दल कांग्रेस और बाकी पार्टियों ने इस पर आपत्ति जाहिर की है। ये पर्चा हमने (आप) नहीं छपवाया। ये पर्चा पंजाब के लोग छपवा रहे हैं और बांट रहे हैं।

नवंबर 2022- नहीं मिला टिकट तो टावर पर चढ़ गए AAP नेता, कहा- 3 करोड़ में बिका है टिकट

दिल्ली नगर निगम का टिकट न मिलने से नाराज हसीब उल हसन शास्त्री पार्क इलाके में टावर पर चढ़ गए। काफी देर तक चले हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद उनको नीचे उतारा गया। उनका कहना था कि आम आदमी पार्टी ने उनसे सभी जरूरी ओरिजनल दस्तावेज जमा करवाए, लेकिन दिल्ली नगर निगम चुनाव में उन्हें टिकट नहीं दिया। हसीब-उल-हसन आप के पूर्व पार्षद रह चुके हैं। हालांकि तब आप की तरफ से उसे मनोनीत किया गया था। हसन को उम्मीद थी कि इस बार के चुनाव में पार्टी उसे टिकट देगी, लेकिन जब टिकट की लिस्ट में उसका नाम नहीं दिखा तो वो आम आदमी पार्टी पर आग बबूला हो गया। वो शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन के पास पहुंचा और एक ट्रांसमिशन टावर पर चढ़ गया। आप नेता ने पार्टी पर आरोप लगाया कि टिकट के तीन करोड़ रुपये मांगे गए थे, जो उसके पास नहीं थे, इसलिए उसे टिकट नहीं मिला। उसकी जगह पर इलाके के माफिया को टिकट दिया गया है।

नवंबर 2022- AAP विधायक के रिश्तेदार ने 90 लाख रुपये में टिकट बेचे

अब आप के माननीय विधायक एक महिला को नगर निगम चुनाव में पार्षद की टिकट दिलाने के नाम पर लाखों रुपये हजम करते सुर्खियों में आए हैं। एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने आप विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी के साले, पीए समेत तीन लोगों को 55 लाख रूपये टिकट दिलाने के नाम पर लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। तीनों पर रुपये लेकर पार्षद का टिकट नहीं दिलाने का आरोप है। महिला ने आरोप लगाया है कि लाखों रुपये आप विधायक के नाम पर ही दिए हैं। ब्यूरो की टीम रिश्वत के इस मामले में आप विधायक की भूमिका की जांच कर रही है। दिल्ली की एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने बड़ी कार्रवाई की है। एंटी करप्शन ब्यूरो ने आप विधायक के पीए विशाल पांडेय और रिश्तेदार शिव शंकर पांडेय व ओम सिंह को गिरफ्तार किया है। इन तीनों पर एक महिला से पार्षद का टिकट दिलाने के लिए 90 लाख रुपये मांगने का आरोप है।

Leave a Reply