Home विपक्ष विशेष पंजाब की जनता से धोखा: आप और कांग्रेस के पूर्व मंत्री लोगों...

पंजाब की जनता से धोखा: आप और कांग्रेस के पूर्व मंत्री लोगों की सेवा करने के बजाए भ्रष्टाचार, हत्या व ड्रग्स तस्करी के आरोप में जेलों में बंद

331
SHARE

जनता इस विश्वास के साथ अपने जनप्रतिनिधियों को चुनती है कि वो सत्ता में रहते हुए जनता की भलाई और विकास के काम करेंगे। लेकिन पंजाब में कहानी बिल्कुल इसके विपरीत है। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के नेता चुनाव में लुभावने नारों से जनता को बरगलाते हैं। उन्हें विकास के सपने दिखाते हैं और हकीकत में चुनाव जीतने के बाद भ्रष्ट तरीकों से सिर्फ अपने ही आर्थिक विकास में लग जाते हैं। कांग्रेस और आप के नेताओं को जनता की नहीं, बल्कि अपनी कमाई की फिक्र रहती है। इतना ही नहीं इस कमाई के लिए कई नेता को गलत रास्ता पकड़ने से भी नहीं चूकते।

दो पर भ्रष्टाचार और एक पर ड्रग तस्करी जैसे संगीन अपराध में संलिप्त होने के आरोप
यही वजह है कि पंजाब के चार पूर्व मंत्री इन दिनों अपनी के कारण जेल की सलाखों के पीछे हैं। इनमें से दो पर भ्रष्टाचार और एक पर ड्रग तस्करी में संलिप्त होने के आरोप हैं. जबकि एक अन्य रोड रेज केस में हत्या का दोषी पाए जाने के लिए एक साल की सजा काट रहा है। चारों मंत्री इस साल हुए विधानसभा चुनाव के बाद से जेल में हैं। बीते बुधवार को बिक्रम मजीठिया की सुरक्षा को लेकर उनकी बहन व पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने पंजाब के राज्यपाल से मुलाकात भी की। इस दौरान हरसिमरत कौर बादल ने एडीजीपी पर गंभीर आरोप लगाए थे।

आप मंत्री विजय सिंगला पर टेंडर में कमीशन खाने का आरोप
पंजाब में आप की सरकार बनते ही उसके नेताओं की करतूतें सामने आने लगी हैं। केजरवाल ने पंजाब की जनता को कई सपने दिखाए थे, जो अब खोखले साबित हो रहे हैं। पंजाब की जनता को अफसरशाही और अन्य सोर्स से भ्रष्टाचार से मुक्त करना दूर की बात है, आप के मंत्री ही भ्रष्टाचार में रंग रहे हैं। भगवंत मान सरकार में स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला पर भ्रष्टाचरण के आरोप हैं। उन पर स्वास्थ्य विभाग में उपकरणों की खरीद के लिए हुए टेंडरों में गड़बड़ करने के आरोप हैं और वह अभी भी जेल में बंद हैं।

कांग्रेसी सरकार में मंत्री रहे साधू सिंह धर्मसोत ने तबादलों में करोड़ों डकारे
आम आदमी के बाद बारी कांग्रेस के बड़े नेताओं की है। लोगों को रिश्वत ने लेने का पाठ पढ़ाते-पढ़ाते ये नेता खुद ही रिश्वत खाने लगे हैं। पंजाब के विजलेंस ब्यूरो ने कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार के समय में वन मंत्री रहे साधू सिंह धर्मसोत के खिलाफ रिश्वत लेने का मामला दर्ज किया है। उन पर आरोप है कि उन्होंने खैर के पेड़ों की कटाई और विभागीय तबादलों में करोड़ों की रिश्वत ली है। धर्मसोत को भी गिरफ्तारी के बाद जेल में रखा गया है।

बड़बोले नवजोत सिद्धू 34 साल पुराने रोड रेज केस में एक साल के लिए जेल गए
कांग्रेस के बड़बोले नेता नवजोत सिंह सिद्धू कभी मंत्री बने थे, लेकिन बाद में उन्होंने गुटबाजी करके कैप्टन अमरिंदर सिंह को ही कुर्सी से हटवा दिया। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के यह फैसला चारों खाने चित्त हो गया। कांग्रेस में पंजाब में बुरी तरह की हार मिली। पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के बुरे दिन यहीं खत्म नहीं हुए। सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में सिद्धू को 34 साल पुराने रोड रेज केस में एक साल की सजा सुनाई है। जिसके बाद उन्हें जेल में रखा गया है। जेल में पिछले दिनों सिद्धू की तबियत भी खराब हो गई थी।

ड्रग के संगीन आरोप में पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया भी जेल में बंद
पंजाब सरकार में मंत्री रहे शिरोमणि अकाली दल नेता बिक्रम सिंह मजीठिया पर विधानसभा चुनाव से पहले पूर्व कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में ड्रग के पुराने मामले में एफआईआर दर्ज की गई थी वह तब से जेल में ही हैं। इस बीच उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ अमृतसर पूर्वी से चुनाव भी लड़ा था। चुनाव हारने के बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के मुताबिक उन्होंने फरवरी माह में सरेंडर कर दिया। वह कई बार कोर्ट में जमानत याचिका दायर कर चुके हैं, लेकिन संगीन ड्रग केस के चलते उन्हें अभी जमानत नहीं मिली है। कुल मिलाकर पंजाब के चार पूर्व मंत्री अभी जेल में बंद हैं।

 

Leave a Reply