Home समाचार अर्नब की गिरफ्तारी के विरोध में ‘आपातकाल 2.0’ पोस्टरों से पटी दिल्ली...

अर्नब की गिरफ्तारी के विरोध में ‘आपातकाल 2.0’ पोस्टरों से पटी दिल्ली की सड़कें, इंदिरा के साथ उद्धव की तस्वीर

712
SHARE

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने जिस तरह सत्ता का दुरुपयोग किया है, उसकी चौतरफा निंदा हो रही है। मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को एक ऐसे मामले में गिरफ्तार किया, जिसे खुद उसी ने अर्नब को क्लीन चीट दी थी और मामले को बंद कर दिया था। लेकिन उद्धव सरकार ने बदले की भवान से कार्रवाई की, जिसका विरोध पूरे देश में दिखाई दे रहा है। दिल्ली में महाराष्ट्र सदन, कांग्रेस मुख्यालय सहित कई इलाकों  में ‘आपातकाल 2.0’ के पोस्टर्स लगाए गए हैं। 

इन पोस्टर्स में इंदिरा गांधी और उद्धव ठाकरे की तस्वरी को एक साथ देखा जा सकता है। इस तस्वीर के माध्यम से बताने की कोशिश की गई है, उद्धव ठाकरे इंदिरा गांधी के नक्शेकदम पर चल रहे हैं। पोस्टर में लिखा है, “आपातकाल 2.0 में आपका हार्दिक स्वागत है।” इस पोस्टर के माध्यम से जताने की कोशिश की गई कि अर्नब के खिलाफ कार्रवाई इंदिरा गाँधी के आपातकाल की याद दिलाती है। बीजेपी के युवा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने वीडियो ट्वीट कर लिखा यह ‘आपातकाल 2.0’ है। 

इस घटनाक्रम में वरिष्ठ अधिवक्ता विष्णु शंकर जैन का कहना है, “महाराष्ट्र में सत्ता और शक्ति का दुरुपयोग किया जा रहा है। राज्यपाल को प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए।”

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने अर्णब गोस्वामी को बीते दिन (4 नवंबर 2020) एक पुराने ‘बंद मामले’ में गिरफ्तार किया था। मुंबई पुलिस ने अर्नब की 14 दिन की पुलिस हिरासत में रखने के लिए अदालत में याचिका दायर की थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया। अदालत ने कहा कि हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरूरत नहीं है। आधी रात में चली सुनवाई के बाद अलीबाग न्यायालय ने अर्णब गोस्वामी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अदालत से बाहर निकलते हुए अर्नब ने कहा, “मुंबई पुलिस हार चुकी है।”

Leave a Reply