Home पोल खोल राजदीप चुप क्यों हैं, कुछ बोलते क्यों नहीं हैं?

राजदीप चुप क्यों हैं, कुछ बोलते क्यों नहीं हैं?

1472
SHARE

दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने माना है कि दिल्ली दंगों के आरोपी ताहिर हुसैन के भड़काने पर एक समुदाय के लोग हिंसक हुए थे और दूसरे समुदाय के लोगों पर पथराव शुरू कर दिया था। कड़कड़डूमा कोर्ट ने कहा कि दंगे सुनियोजित तरीके से हुए और इसके लिए तैयारी की गई थी। ताहिर हुसैन आम आदमी पार्टी का पूर्व पार्षद है। दिल्ली दंगों में नाम आने के बाद उसे पार्टी निलंबित कर चुकी है। लेकिन इसी ताहिर हुसैन को आरोपी बनाए जाने पर खुद को लिबरल और सेकुलर बताने वाले कथित पक्षकार राजदीप सरदेसाई ने हो-हल्ला मचाया था। लेकिन अब राजदीप की जुबान खुल नहीं रही है। वे कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। सोशल मीडिया पर लोग पूछ रहे हैं राजदीप आप चुप क्यों हैं, कुछ बोलते क्यों नहीं?

हमेशा मुस्लिम पक्ष में खड़े होने वाले और खुद को सेकुलर बताने वाले जावेद अख्तर, रोहिणी सिंह और रवीश जैसे लोगों ने भी ट्विटर पर विधवा विलाप किया था। लेकिन कोर्ट के फैसले के बाद ये लोग चुप्पी साधे हुए हैं।

इतना ही नहीं दिल्ली दंगों की साजिश में गिरफ्तार खालिद सैफी कर चुका है राजदीप, अभिसार और रवीश जैसे पत्रकारों से मुलाकात
ताहिर हुसैन के साथ दिल्ली के चांद बाग हिंसा में खालिद सैफी को भी गिरफ्तार किया गया था। खालिद सैफी पर चांद बाग में हुई हिंसा की साजिश में शामिल होने का आरोप है। बताया जाता है कि सैफी ने ही दिल्ली दंगों के पहले शाहीनबाग में उमर खालिद और ताहिर हुसैन के बीच मीटिंग करवाई थी। शाहीनबाग में 8 जनवरी को हुई बैठक में उमर खालिद, ताहिर हुसैन के साथ खालिद सैफी भी मौजूद था। खालिद सैफी यूनाइटेड अगेंस्ट हेट नाम का संगठन चलाता है और वह जगतपुरी दंगों में भी गिरफ्तार हो चुका है।

खालिद सैफी के गिरफ्तार होने के बाद सोशल मीडिया पर उसकी कुछ एजेंडा पत्रकारों के साथ मुलाकात की तस्वीरें वायरल हुई थी। जिन पक्षकारों के साथ खालिद की तस्वीरें वायरल हुई उनमें इंडिया टुडे के राजदीप सरदेसाई, एनडीटीवी के रवीश कुमार, द वॉयर के सिद्धार्थ वरदराजन के साथ अभिसार शर्मा और अरफा खानम शामिल हैं। 

Leave a Reply