Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी ने की राष्ट्रपति पुतिन से बात, कहा- वैक्सीन से होगी...

प्रधानमंत्री मोदी ने की राष्ट्रपति पुतिन से बात, कहा- वैक्सीन से होगी मानवता की सेवा

421
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार शाम रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से टेलीफोन पर बात की। दोनों नेताओं ने कोरोना महामारी से पैदा हुए हालात पर चर्चा की। राष्ट्रपति पुतिन ने भारत के लोगों और सरकार के साथ एकजुटता व्यक्त करते हुए यह संदेश दिया कि रूस इस महामारी में हरसंभव सहयोग करेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन को धन्यवाद दिया और कहा कि रूस का भारत को शीघ्र सहयोग करना हमारी स्थायी साझेदारी का प्रतीक है।

प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति पुतिन ने वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए दोनों देशों के बीच जारी सहयोग पर चर्चा की। राष्ट्रपति पुतिन ने स्पूतनिक-वी वैक्सीन को भारत में आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दिए जाने की सराहना की। यह भी चर्चा हुई कि भारत, रूस और अन्य देशों में इस्तेमाल के लिए रूसी वैक्सीन भारत में बनाई जाएगी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि स्पुतनिक-वी वैक्सीन को लेकर हमारा सहयोग मानवता को मजबूत करेगा और कोरोना से जंग को आगे बढ़ाएगा।

दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय सहयोग को और मजबूत करने के महत्व पर जोर दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के गगनयान कार्यक्रम के लिए रूस से मिले सहयोग और चार गगनयान अंतरिक्ष यात्रियों के प्रशिक्षण का रूसी चरण पूरा होने की सराहना की। पीएम मोदी और व्लादिमीर पुतिन ने हाइड्रोजन अर्थव्यवस्था सहित नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की। दोनों देशों में टू-प्लस-टू मंत्रीस्तरीय संवाद स्थापित करने पर सहमति जताई, जिसमें विदेश और रक्षा मंत्री शामिल होंगे।

दोनों नेताओं ने सितंबर 2019 में व्लादिवोस्तोक में अपने आखिरी शिखर बैठक के दौरान लिए गए महत्वपूर्ण फैसलों को याद किया। प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि वह इस साल के आखिर में द्विपक्षीय सम्मेलन के लिए राष्ट्रपति पुतिन की भारत यात्रा को लेकर उत्सुक हैं, जो उनकी व्यक्तिगत और विश्वसनीय बातचीत को आगे बढ़ाने का अवसर प्रदान करेगा। राष्ट्रपति पुतिन ने आश्वासन दिया कि 2021 के दौरान ब्रिक्स की सफलतापूर्वक अध्यक्षता के लिए रूस भारत को पूरा सहयोग करेगा। दोनों नेता द्विपक्षीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर लगातार संपर्क में बने रहने पर सहमत हुए।

Leave a Reply