Home चुनावी हलचल अब देश एक स्थिर सरकार चाहता है, 2014 से भी बड़ी जीत...

अब देश एक स्थिर सरकार चाहता है, 2014 से भी बड़ी जीत मिलेगी- प्रधानमंत्री मोदी

1412
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि देश अब एक स्थिर सरकार चाहता है और बीजेपी को 2014 से भी बड़ी जीत मिलेगी। रिपब्लिक भारत न्यूज चैनल के साथ एक इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार फिर केंद्र में एनडीए की पूर्ण बहुमत वाली सरकार आने का विश्वास जताया। न्यूज चैनल के चीफ एडिटर अर्नब गोस्वामी से बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 30 साल की अस्थिरता वाली सरकार का दौर जनता ने देखा है। उन्होंने कहा कि देश की जनता गठबंधन के खिलाफ नहीं है, लेकिन वो ऐसी सरकार चाहती है जिसमें सबसे बड़ी पार्टी को पूर्ण बहुमत मिले। प्रधानमंत्री ने कहा कि पांच साल में हम जो भी अच्छा कर पाएं हैं उसके पीछे जनता का हाथ है, जिसने हमें पूर्ण बहुमत देकर भरोसा जताया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दुनिया के किसी भी नेता से मिलता हूं तो पूर्ण बहुमत सरकार का नेता होने के नाते उनके नजरिया में भी बदलाव आता है। उन्होंने कहा कि पिछली बार (2014 के लोकसभा चुनाव में) चुनाव में जब भी मैं एनडीए की पूर्ण बहुमत की सरकार का आने का दावा करता था तब भी विपक्ष कहता था कि मोदी हवा में है, उन्हें गुजरात से बहार कोई ज्ञान नहीं है, लेकिन देश की जनता ने पूर्ण बहुमत वाली सरकार का बहुमत वाली सरकार दी। उन्होंने कहा कि अब जनता ने भी मन बना लिया है कि अब जो सरकार बनेगी वो पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनेगी। अब लोगों को पता है कि मोदी ने सुरक्षा, गरीबी जैसे विषयों पर क्या- क्या किया है। इसलिए इस चुनाव में मुझे विश्वास है कि पहले से भी ज्यादा सीटों के साथ और पूर्ण बहुमत के साथ बीजेपी सरकार में आएगी और एनडीए के घटक दलों को भी पहले से ज्यादा सीटें मिलेगी। कुछ जगह ऐसी हैं जहां से हमें प्रतिनिधित्व नहीं मिलता था, लेकिन इस बार जनता हमें वहां से चुन कर भेजेगी।

A-SAT पर कांग्रेस में प्राथमिक ज्ञान का अभाव
‘मिशन शक्‍ति’ की कामयाबी पर देशवासियों को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इसपर कांग्रेस में प्राथमिक ज्ञान का अभाव है। A-SAT टेस्ट से पहले लंबी ग्लोबल प्लानिंग चाहिए होती है। उन्होंने कहा कि विपक्ष में कोई छोटा दल करें तो समझा जा सकता है, लेकिन कांग्रेस जैसी पार्टी जो कि लंबे अरसे तक देश में शासन किया है और काफी अनुभवी नेता उनके पास हैं। तो ऐसे में कांग्रेस को यह समझना चाहिए कि यह विषय क्या है। किसी भी विषय पर बोलने के लिए जो प्राथमिक ज्ञान चाहिए, उसका कांग्रेस में अभाव दिखाई देता है।

मिशन शक्ति की टाइमिंग पर सवाल उठाने पर पीएम मोदी ने कहा कि जब दुनिया से तालमेल करके आपको समय मिलता है तभी आपको परीक्षण का समय मिलता है। और जहां तक चुनाव आयोग की आचार संहिता का सवाल है तो अगर मान लीजिए कि कहीं प्राकृतिक आपदा तो सरकार ये कहकर थोड़ी रूक जाएगी कि अभी चुनाव आचार संहिता लागू है हम कुछ नहीं कर सकते। ऐसा तो हो नहीं सकता है। कई बार ऐसा हुआ है कि चुनाव आयोग आचार संहिता लागू होने के बावजूद राज्य सरकार अपना जरूरी काम करती हैं।

बालाकोट एयरस्ट्राइक- मिशन में पूरी तरह से शामिल था
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस तरह का प्लान बनने का काम प्रधानमंत्री का नहीं होता, बल्कि विषय से संबंधित लोग, संस्था इस तरह की रणनीति बनाती हैं। लेकिन प्रधानमंत्री की भूमिका यह थी कि लोगों की भावनाओं के अनुसार काम होना चाहिए। इसलिए मैंने सार्वजनिक मंच पर कहा था कि इस विषय से संबंधित लोगों को मैंने खुली छूट दे रखी है, मेरी तरफ से खुली छूट है। उन्होंने कहा कि मेरा ऐसा स्वभाव है जब ऐसे प्लान बनते हैं जिसमें देश के जवानों की जिंदगी खतरे में होती है। तो मैं अपने आप को अलग नहीं कर पाता हूं और इसलिए मैं इस मिशन में पूरी तरह से शामिल था।

Leave a Reply