Home समाचार सीएजी बनाम सरकार की मानसिकता बदल गई है, आज ऑडिट को वैल्यू...

सीएजी बनाम सरकार की मानसिकता बदल गई है, आज ऑडिट को वैल्यू एडिशन का अहम हिस्सा माना जा रहा है- प्रधानमंत्री मोदी

184
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 16 नवंबर को पहले लेखा-परीक्षण दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में कार्यक्रम को संबोधित करने के साथ सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का अनावरण भी किया। इस कार्यक्रम में भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक गिरीश चंद्र मुर्मू भी उपस्थित थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि एक समय था, जब देश में लेखा-परीक्षण को आशंका और भय के साथ देखा जाता था। ‘सीएजी बनाम सरकार,’ यह हमारी व्यवस्था की सामान्य सोच बन गई थी। लेकिन, आज ये मानसिकता बदली है और ऑडिट को वैल्यू एडिशन का अहम हिस्सा माना जा रहा है।

सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सीएजी न केवल राष्ट्र के लेखा-खातों पर नजर रखता है, बल्कि उत्पादकता और दक्षता में मूल्यवर्धन भी करता है, इसलिए लेखा-परीक्षण दिवस पर विचार-विमर्श और संबंधित कार्यक्रम हमारे सुधार व आवश्यक बदलाव का हिस्सा हैं। सीएजी एक ऐसी संस्था है, जिसका महत्व बढ़ गया है और इसने समय बीतने के साथ एक विरासत को विकसित किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले देश में बैंकिंग सेक्टर में पारदर्शिता की कमी के चलते तरह-तरह के गलत कामकाज होते थे। इसके परिणामस्वरूप बैंकों के फंसे कर्जे बढ़ते गये। उन्होंने कहा, “आपको अच्छी तरह पता है कि अतीत में फंसे हुए कर्जों को दरी के नीचे कवर करने का कार्य किया जाता था। बहरहाल, हमने पूरी ईमानदारी के साथ पिछली सरकारों का सच देश के सामने रखा। हम समस्याओं को पहचानेंगे, तभी तो समाधान तलाश कर पायेंगे।”

उन्होंने कहा, “आज हम ऐसी व्यवस्था बना रहे हैं, जिसमें ‘सरकार सर्वम्’ की सोच, यानी सरकार का दखल भी कम हो रहा है और आपका काम भी आसान हो रहा है।” उन्होंने लेखा-परीक्षकों को बताया, “यह मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस के अनुसार किया जा रहा। संपर्क रहित प्रक्रिया, स्वचालित नवीनीकरण, व्यक्ति की उपस्थिति के बिना मूल्यांकन, सेवाओं के लिये ऑनलाइन आवेदन – इन सभी सुधारों ने सरकार की अनावश्यक दखलंदाजी को खत्म कर दिया है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि सीएजी ने सरकारी फाइलों और बहीखातों के बीच माथापच्ची करने वाली संस्था की छवि से मुक्ति पा ली है। उन्होंने कहा, “सीएजी आधुनिक प्रक्रियाओं को अपनाकर तेजी से बदल रही है। आज, आप उन्नत विश्लेषण उपकरण, जियो-स्पेशल आंकड़ों और सेटेलाइट इमेजरी का इस्तेमाल कर रहे हैं।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि पुराने समय में सूचनाएं, कहानियों के जरिये प्रसारित होती थीं। कहानियों के जरिए ही इतिहास लिखा जाता था। उन्होंने कहा कि आज 21वीं सदी में डेटा ही सूचना हैं और आने वाले समय में हमारा इतिहास भी डेटा के जरिए ही देखा और समझा जाएगा। प्रधानमंत्री ने आखिर में कहा कि भविष्य में आंकड़े ही इतिहास को दिशा दिखाएंगे।

देखिए वीडियो-

Leave a Reply