Home समाचार कैंसर के इलाज के लिए असम कैंसर केयर फाउंडेशन के रूप में...

कैंसर के इलाज के लिए असम कैंसर केयर फाउंडेशन के रूप में तैयार नेटवर्क मानवता की बहुत बड़ी सेवा : पीएम मोदी

303
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानि गुरुवार को अपने एक दिन के दौरे पर गए असम के डिब्रूगढ में सात नए कैंसर अस्पतालों का लोकार्पण किया। इसके साथ ही उन्होंने सात नए कैंसर अस्पतालों का शिलान्यास भी किया। इस अबसर पर डिब्रूगढ़ के ऐतिहासिक खनिकर मैदान में एक जनसभा को भी संबोधित किया। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि आज समय बदल गया है। आज एक दिन में सात अस्पताल खुल भी रहे हैं और सात अस्पतालों का शिलान्यास भी किया गया है। पीएम मोदी ने कहा कि असम कैंसर केयर फाउंडेशन के रूप में तैयार किया गया इतना बड़ा नेटवर्क मानवता की बहुत बड़ी सेवा है।

कैंसर अस्पताल बनने से गरीबों को मिलेगी राहत

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि असम ही नहीं नॉर्थ ईस्ट में कैंसर एक बहुत बड़ी समस्या रही है। इससे सबसे अधिक प्रभावित गरीब होता है, मध्यम वर्ग का परिवार होता है। कैंसर के इलाज के लिए कुछ साल पहले तक मरीज़ों को बड़े-बड़े शहरों में जाना पड़ता था। इससे एक बहुत बड़ा आर्थिक बोझ गरीब और मिडिल क्लास परिवारों पर पड़ता था। गरीब और मिडिल क्लास की इस परेशानी को दूर करने के लिए ही यह कदम उठाया गया है। असम कैंसर केयर फाउंडेशन के रूप में कैंसर के सस्ते और प्रभावी इलाज का इतना बड़ा नेटवर्क अब यहां तैयार है।

सरकार का स्वास्थ्य के सप्तऋषियों पर फोकस

कैंसर जैसी गंभीर बीमारियां एक परिवार के रूप में और एक समाज के रूप में हमें भावनात्मक रूप से और आर्थिक रूप से, कमज़ोर करती हैं। इसलिए बीते 7-8 साल से देश में स्वास्थ्य को लेकर बहुत बड़े और व्यापक रूप से काम किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने सात चीजों- या स्वास्थ के सप्तऋषियों पर बहुत फोकस किया है।

केंद्र की योजनाओं से कैंसर का इलाज हुआ सुलभ

केंद्र सरकार की योजनाएं देश में कैंसर के इलाज को सुलभ और सस्ता बना रही है। बीते सालों में कैंसर की सैकड़ों ऐसी ज़रूरी दवाएं हैं, जिनकी कीमतें लगभग आधी हो गई हैं। इससे हर साल कैंसर मरीज़ों के लगभग 1 हज़ार करोड़ रुपए बच रहे हैं। प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्रों के माध्यम से 900 से ज्यादा सस्ती दवाएं आज उपलब्ध हैं, जिनमें से अनेकों दवाएं कैंसर के इलाज से जुड़ी हैं। यही नहीं, आयुष्मान भारत योजना के तहत लाभ पाने वालों में बहुत बड़ी संख्या में कैंसर के मरीज हैं। पीएम मोदी ने कहा कि असम सहित पूरे देश में जो हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर खुल रहे हैं, उनमें 15 करोड़ से अधिक साथियों की कैंसर से जुड़ी जांच हो चुकी है। इससे बीमारी को गंभीर बनने से रोका जा सकता है।

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply