Home समाचार अफगानिस्तान में भूख से तड़प रहे लोगों के लिए देवदूत बने पीएम...

अफगानिस्तान में भूख से तड़प रहे लोगों के लिए देवदूत बने पीएम मोदी, 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं भेजकर भरेंगे पेट

960
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत आज जिस नम्रता और कर्त्तव्यभाव से मानवता की सेवा कर रहा है, इससे भारत की साख और पहचान निरंतर नई ऊंचाई पर पहुंच रही है। अफगानिस्तान में संकट के समय प्रधानमंत्री मोदी ने फिर एक बड़ी पहल कर मानवता की मिसाल पेश की है। जहां पाकिस्तान तालिबान की मदद के लिए अपने सैनिक, गोला-बारूद और हथियार भेज रहा है, वहीं भारत भूख से तड़प रहे अफगानों का पेट भरने के लिए 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं भेजने जा रहा है। इसके अलावा दवाइयों की खेप भी पहुंचाई जाएगी। आज वहां तालिबानी राज में अव्यवस्था के कारण खाद्य संकट उत्पन्न हो गया है और करोड़ों लोग भुखमरी के कगार पर आ गए हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी देवदूत बनकर फिर मानवीय मदद के लिए आगे आए हैं।

मोदी सरकार अफगानिस्तान में समाज के हर वर्ग को बिना किसी भेदभाव के समान सहायता पहुंचने की कोशिश में लगी है। गौरतलब है कि भारत पिछले 10 वर्षों में 10 लाख मीट्रिक टन से भी ज्यादा गेहूं अफगानिस्तान को दे चुका है। तालिबान शासन आने के बाद अफगानिस्तान से जान बचाकर भारत आने वाले अफगानियों के लिए भारत ने वीजा नीति में बदलाव कर Emergency X-Misc Visa कैटेगरी की शुरुआत की। यही वजह है कि आज दुनिया में कहीं भी कोई संकट आने पर भारत से मदद की उम्मीद की जाती है।

त्वरित मानवीय मदद पहुंचाने पर जोर

प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले हफ्ते अपने G-20 संबोधन में अफगान नागरिकों तक त्वरित मानवीय मदद पहुंचाने की जरूरत पर जोर दिया था। साथ ही कहा था कि तालिबान के साथ रिश्ते से इतर अफगान के लोगों से भारत का पारंपरिक मित्रवत संबंध आगे भी कायम रहेगा। भारत द्वारा अगले महीने दिल्ली में अफगानिस्तान पर प्रस्तावित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में भी खाद्य सहायता समेत तमाम मानवीय मदद का मुद्दा शीर्ष पर होगा। भारत इस सम्मेलन में अन्य देशों के साथ-साथ रूस, चीन और पाकिस्तान को भी आमंत्रित करेगा।

दुनिया के लिए संकटमोचक बने पीएम मोदी

  • ‘वैक्सीन मैत्री’ के तहत 100 देशों को वैक्सीन भेजकर मदद की।
  • मालदीव के आर्थिक संकट में 25 करोड़ डॉलर की सहायता दी।
  • मोजांबिक में चक्रवाती तूफान से 192 से ज्यादा लोगों को बचाया।
  • इंडोनेशिया में सुनामी के दौरान ऑपरेशन ‘समुद्र मैत्री’ शुरू किया।
  • थाईलैंड में थैल लुआंग गुफा में फंसे फुटबाल खिलाड़ियों को बचाया।
  • यमन गृहयुद्ध के दौरान 25 देशों के 232 लोगों की जान बचायी।
  • मालदीव में पेयजल संकट के दौरान पानी भेजकर प्यास बुझाई।
  • नेपाल भूकंप के दौरान राहत व बचाव का अद्भुत मिसाल पेश की।
  • श्रीलंका ईंधन संकट के दौरान अतिरिक्त ईंधन भेज कर मदद की।

Leave a Reply