Home समाचार भारत का हर कार्यक्रम संपूर्ण विश्व को सशक्त करेगा: FII फोरम में...

भारत का हर कार्यक्रम संपूर्ण विश्व को सशक्त करेगा: FII फोरम में प्रधानमंत्री मोदी

1229
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सऊदी अरब के रियाद में फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव फोरम में कहा कि उनका लक्ष्य सबसे निर्धन व्यक्ति को सशक्त करना और उन्हें सम्मानजनक जीवन मिले ये सुनिश्चित कराना है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वो हमेशा इस बात पर विचार करते रहते हैं कि भारत, विश्व को बेहतर बनाने में कैसे योगदान कर सकता है। भारत में चल रहे हमारे कार्यक्रम विश्व भर में चल रहे ऐसे कार्यक्रमों को और मजबूती प्रदान करेंगे। उदाहरण के लिए विश्व से वर्ष 2030 तक टीबी को खत्म करने के लक्ष्य के मुकाबले हमारा लक्ष्य 2025 तक भारत को टीबी से मुक्त करना है। जब भारत इसमें सफल होगा तो संपूर्ण विश्व अधिक स्वस्थ बनेगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा किफ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव फोरम बिजनेस वर्ल्ड के कैलेंडर का महत्वपूर्ण भाग बन गया है। सिर्फ तीन साल के कम समय में ही इस फोरम ने लंबा सफर तय किया है। मेरे मित्र और भाई क्राउन प्रिंस इस सफलता के लिए बहुत बधाई के पात्र हैं। उनके इस फोरम को Davos of the Desert कहा जाता है। पिछली शतब्दी में सउदी अरब के लोगो की मेहनत और कुदरत की नेमत ने डेसर्ट के रेत को सोना बना दिया। अगर चाहता तो सऊदी अरब का नेतृत्व आराम से बैठ सकता था, मगर आपने आने वाली कई पीढ़ीओ के बारे में सोचा, भविष्य की चिंता की, पूरी मानवता का ख्याल किया।

उन्होंने कहा कि हमारा सऊदी अरब से नाता हजारों वर्षों का रहा है। ऐसी दोस्ती रही है, जैसे आप कहते हैं – सदकतुम, कि एक दुसरे के वहां हमें अपनापन लगता है। हमारे ऐतिहासिक संबंधों और संपर्कों ने हमारी रणनीतिक भागीदारी की मजबूत बुनियाद भी रखी है। और आज हमने क्राउन प्रिंस के साथ बातचीत में Strategic Partnership Council की स्थापना करके अपने संबंधों को नई ऊंचाई प्रदान की है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘भारत ने अगले पांच साल में अपनी अर्थव्यवस्था को दुगुनी करके 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। आज जब भारत में हम विकास को गति देना चाहते है तो हमें उभरते हुए ट्रेंड्स को अच्छी तरह समझना होगा।इसलिए, आज मैं आपसे ग्लोबल को प्रभावित करने वाले पांच बड़े ट्रेंड्स के बारे में बात करना चाहूंगा। पहला ट्रेंड है – Technology और Innovation का प्रभाव, दूसरा- Global Growth के लिए Infrastructure की Importance, तीसरा- human resource और future of work में आ रहा बदलाव, चौथा- compassion for environment और पांचवा Trend- business friendly governance.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम बन गया है। भारत के टीयर 2 और टीयर 3 शहरों में भी start-ups उभरकर आये हैं। भारत में 1 billion यूएस डॉलर से ज्यादा valuation वाले unicorns की संख्या बढ़ती जा रही है। हमारे कई start-ups वैश्विक स्तर पर निवेश करने लगे हैं। इसलिए, विश्व के सभी निवेशकों, खासकर वेंचर फंड्स से मेरा अनुरोध है कि आप हमारे स्टार्टअप इकोसिस्टम का लाभ उठाएं। मुझे पूरा भरोसा है कि भारत में इनोवेशन में किया गया निवेश सबसे ज्यादा रिटर्न देगा। और ये रिटर्न सिर्फ भौतिक नहीं होंगे, बल्कि युवाओं को इमपॉवर करेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में हमने अगले कुछ सालों में इंफ्रास्ट्रक्चर में $1.5 trillion के निवेश का लक्ष्य रखा है। हमने हर भारतीय को घर देने का, और हर घर तक बिजली और नल-जल पहुँचाने का लक्ष्य रखा है। भारत के skilled human resources को दुनिया भर में आदर और प्रतिष्ठा मिले हैं। भारतीय टेलेंट ने यहां सऊदी अरबिया में अनुशासित, कानून का पालन करने वाले, परिश्रमी और कुशल कार्यबल के रूप में अपनी अनूठी पहचान बनाई है। भारत में स्किल का विकास करने के लिए हमने एक comprehensive vision तैयार किया है और उस पर लगातार काम कर रहे हैं। भारत में निवेश करने वाली कम्पनीज को इससे assured skilled manpower मिलेगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले चार-पांच साल में 35 करोड़ से ज्यादा लोगों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा गया हैं। भारत में आज लगभग हर नागरिक के पास unique ID, मोबाइल फोन और बैंक अकाउंट हैं। इस व्यवस्था के कारण Direct Benifit Transfer में पारदर्शिता से 20 बिलियन डॉलर से अधिक का लीकेज बंद किया जा सका। दुनिया का सबसे बड़ा सरकारी हेल्त केयर प्रोग्राम आयुष्मान भारत 500 मिलियन यानी America, Canada और Mexico की कुल आबादी से ज़्यादा लोगों को हेल्थ कवर देता है। यही नहीं, इस योजना के कारण भारत में हेल्थ कवर में निवेश की अपार संभावनाएं बढ़ गयी हैं।

उन्होंने कहा कि भारत की स्वतंत्रता को 2022 में 75 साल पूरे होंगे। हमने उस समय तक ‘न्यू इंडिया’ बनाने का लक्ष्य अपने सामने रखा है। उस NEW INDIA में हर भारतीय की आंखों में नये सपने होंगे, दिल में नया सम्बल होगा और कदमों में नई उर्जा होगी। उस नये भारत में नया सामर्थ्य और नई क्षमता होगी। भारत ने अपनी क्षमता और उपलब्धियों का पूरी दुनिया के साथ बांटा है। क्योंकि हमने पूरी दुनिया को एक परिवार माना है- ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’। नये भारत में शक्ति नयी होगी, लेकिन उसके चिंतन में वही सनातन आत्मा झलकेगी। हमारा विकास विश्व में विश्वास पैदा करेगा। हमारी प्रगति परस्पर प्रेम बढ़ायेगी। विश्व कल्याण के इस सफर में भारत के साथ पार्टनरशिप करने के लिए, मैं आपको, पूरे विश्व के बिजनेस को आमंत्रित करता हूं। मैं और मेरी टीम सदैव आपकी सहायता के लिए तत्पर है।

Leave a Reply