Home चुनावी हलचल पश्चिम बंगाल में ममता पर बरसे पीएम मोदी, कहा 2 मई को...

पश्चिम बंगाल में ममता पर बरसे पीएम मोदी, कहा 2 मई को राज्य में बनेगी डबल इंजन वाली सरकार

104
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को पश्चिम बंगाल में ताबड़तोड़ चुनाव प्रचार किया। प्रधानमंत्री ने राज्य के तारकेश्वर और सोनारपुर में दो चुनावी रैलियों को संबोधित किया। रैलियों में उमड़े विशाल जनसमूह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “2 मई को यहां सिर्फ डबल इंजन की सरकार नहीं बनेगी, बल्कि डबल बेनिफिट, डायरेक्ट बेनिफिट देने वाली सरकार बनेगी।”

पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल में BJP सरकार आने के बाद सबसे पहला काम किसानों के हित में फैसला लेना होगा। पहली कैबिनेट में ही बंगाल में पीएम किसान सम्मान निधि को लागू करने का निर्णय लिया जाएगा। बंगाल के हर एक किसान को पिछला बकाया जोड़कर 18 हजार रुपये मिलेंगे। उन्होंने कहा कि बंगाल के गरीब किसानों के साथ दीदी ने अपनी विशेष नफरत दिखाई है। पूरे देश में 10 करोड़ से ज्यादा किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ मिल चुका है। देश भर में किसानों के बैंक खाते में सीधे सवा लाख करोड़ रुपए जमा कराए गए हैं। लेकिन ये लाभ बंगाल के किसानों को नहीं मिला।

पीएम मोदी ने कहा कि दीदी ने बंगाल के लाखों कृषकों को इससे वंचित रखा। केंद्र सरकार ने शहरों में काम करने आए रिक्शा, रेहड़ी, ठेला चलाने वाले साथियों के लिए बिना गारंटी का बैंक लोन देने की योजना शुरू की है, लेकिन दीदी की सरकार ने इसे सही से लागू नहीं किया। पूरे देश में आयुष्मान भारत के तहत गरीबों को 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है, लेकिन दीदी ने आयुष्मान भारत का लाभ किसी गरीब को मिलने नहीं दिया।

पीएम मोदी ने कहा, “हद तो इस बात की है, अब दीदी बंगाल की जनता के अपमान पर उतर आई हैं। दीदी ने कहा है कि बीजेपी की रैली में जो भीड़ जुटती है, वो पैसे के लिए जुटती है। दीदी ने यह कहकर बीजेपी और मोदी का नहीं, बल्कि बंगाल की जनता का अपमान किया है। अपनी बौखलाहट में आप मेरा अपमान कीजिए, लेकिन बंगाल की जनता, यहां की महिलाओं, यहां के गरीबों, यहां के हमारे भाइयों-बहनों का अपमान मत कीजिए।”

श्री मोदी ने कहा कि नेताजी सुभाष, ओडिशा में पैदा हुए, बंगाल ने उन्हें शिक्षा दी, उनका मार्गदर्शन किया। लेकिन उनकी पहचान, भारत मां के सपूत के तौर पर है। जब अंग्रेजों ने हमारी एकता में फूट डालने की कोशिश की थी तो नेताजी सुभाष ने कहा था- भारत एक है और हर भारतीय की आशाएं, आकांक्षाएं एक जैसी हैं। आज बहुत पीड़ा होती है, जब नेताजी की इस सोच के बजाय तृणमूल कांग्रेस और ममता दीदी बोहिरागोतो की बात करती हैं। यह नेताजी का भी अपमान है और देश के संविधान का भी अपमान है। त्रिपुरा में, असम में, मणिपुर में, भाजपा की सरकारें बनीं तो मुख्यमंत्री, मंत्री भी वहीं के बने। पश्चिम बंगाल में भी यही होगा। 2 मई को बीजेपी की ऐतिहासिक विजय के बाद, इसी धरती की संतान मुख्यमंत्री बनेगी। पीएम मोदी ने जोर के छाप कमल छाप का नारा बुलंद करते हुए कहा कि बंगाल में असल परिवर्तन के लिए अब सिर्फ 30 दिन का समय बचा है। उन्होंने राज्य में डबल इंजन की सरकार बनाने के लिए लोगों से रिकार्ड संख्या में मतदान करने की अपील की।

Leave a Reply