Home समाचार आउटलुक के संपादक ने किया अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला, आईएएनएस की...

आउटलुक के संपादक ने किया अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला, आईएएनएस की सदस्यता रद्द करने की दी धमकी

264
SHARE

एक तरफ मीडिया अभिव्यक्ति की आजादी की वकालत करती है, वहीं इसका एक धड़ा राजनीतिक चाटुकारिता की वजह से दूसरों की आवाज दबाने की कोशिश में लगा है। आउटलुक अंग्रेजी के संपादक रुबेन बनर्जी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के हवाले से आईएएनएस की एक खबर को फर्जी करार देते हुए उसकी सदस्यता रद्द करने की धमकी दी।

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी की एक ट्वीट ने आउटलुक की एजेंडा पत्रकारिता की पोल खोल कर रख दी और आईएएनएस की रिपोर्ट की पुष्टि की। प्रियंका के एक ट्विट का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि उनके पास एक कांग्रेस नेता का फोन आया था, जिन्होंने बंगले के एक्सटेंशन के लिए अनुरोध किया था। पुरी ने लिखा, “तथ्य खुद बोलते हैं! कांग्रेस में बहुत शक्तिशाली नेता ने मुझे 4 जुलाई 2020 को दोपहर 12:05 बजे यह अनुरोध करने के लिए फोन किया था कि 35, लोधी एस्टेट को एक अन्य कांग्रेस सांसद को आवंटित किया जाए ताकि प्रियंका वाड्रा रह सकें।’

दरअसल केंद्रीय मंत्री पुरी ने यह टिप्पणी उस ट्विट के जवाब में की थी जिसमें कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को समाचार एजेंसी आईएएनएस की एक रिपोर्ट को ” फर्जी ” करार दिया। इसमें दावा किया गया था कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बंगला खाली करने के लिए कुछ और दिन की मोहलत मांगी है। प्रियंका गांधी ने इसे ‘फेक न्यूज’ बताया। प्रियंका ने ट्वीट में कहा, “यह फर्जी खबर है। मैंने सरकार से ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है। 1 जुलाई को मुझे सौंपे गए पत्र के अनुसार, मैं 35, लोधी एस्टेट में 1 अगस्त तक सरकारी आवास खाली कर दूंगी।”

आउटलुक पर प्रकाशित खबर को फर्जी करार दिए जाने के बाद आउटलुक ने कांग्रेस और उसकी महासचिव को खुश करने की कोशिश की। आउटलुक ने अपनी खबर पर सफाई प्रकाशित करते हुए कहा कि आईएएनएस का यह समाचार एक ऑटोमेटेड न्यूज फीड के माध्यम से लगा था। आउटलुक के संपादक रुबेन बनर्जी ने खबर के सभी पहलू को जाने बिना आईएएनएस की खबर पर ही सवाल उठा दिया और उसकी सदस्यता खत्म करने की धमकी देकर अभिव्यक्ति की आजादी का गला घोंटने की कोशिश की। इससे पहले भी रुबने बनर्जी आईएएनएस के खिलाफ ट्विट कर चुके हैं।

इसके अलावा आप देख सकते हैं रुबेन बनर्जी कांग्रेस की खबरों में खास दिलचस्पी लेते रहे हैं और उन्हें ट्विट और रीट्विट करते रहे हैं।

Leave a Reply