Home समाचार हिन्दुओं और जय श्रीराम के जयघोष को बदनाम करने के लिए मुस्लिम...

हिन्दुओं और जय श्रीराम के जयघोष को बदनाम करने के लिए मुस्लिम युवकों ने रची साजिश, मुस्लिम बुजुर्ग को पीटा-दाढ़ी काटी, बुलवाया जय श्री राम

912
SHARE

हिन्दुओं के साथ ही बीजेपी की केंद्र और राज्य सरकारोंं को बदनाम करने के लिए साजिशें रची जाती हैं। इसमें सोशल मीडिया उस साजिश में अहम भूमिका निभाती है। क्योंकि साजिशकर्ता इसके माध्यम से प्रोपेगैंडा फैलाने की कोशिश करते हैं। इसी कड़ी में एक और साजिश सामने आई है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसके आधार पर आरोप लगाया गया कि उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक मुस्लिम बुजुर्ग व्यक्ति से जबरदस्ती ‘जय श्री राम’ बुलवाया गया और उसके साथ मारपीट की गई।

मुस्लिम बुजुर्ग ने 4 अज्ञात लोगों पर पिटाई और जबरन दाढ़ी शेव कराने का आरोप लगाया। उक्त बुजुर्ग ने दावा किया कि उसका अपहरण कर के एक सुनसान इलाके में स्थित घर में ले जाया गया और वहीं ‘जय श्री राम’ बुलवाया गया। पीड़ित व्यक्ति के इस आरोप के बाद पहले की तरह इस बार भी AIMIM के असदुद्दीन ओवैसी और AltNews के जुबैर ने इस मामले को तूल देने का कोई मौका नहीं गंवाया। ओवैसी ने कहा कि हिंदुत्व में बुजुर्गों और बच्चों पर हमला करना ही वीरता कहलाती है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को टैग करते हुए उन्होंने प्रतिक्रिया की मांग की।

इसी तरह AltNews के ज़ुबैर ने भी इस खबर को शेयर कर झूठ फैलाया। लेकिन, पुलिस की जांच में हैरान करने वाली सच्चाई सामने आई। इस घटना को मुस्लिम युवकों द्वारा अंजाम दिया गया था। इस मामले में पुलिस ने कल्लू और आदिल नाम के आरोपितों को गिरफ्तार किया है। लेकिन ज़ुबैर ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और सिर्फ इसे ‘गाजियाबाद पुलिस से ताज़ा अपडेट’ करार दिया। लेकिन, आरिफ और मुशाहिद का नाम छिपा लिया।

गाजियाबाद पुलिस के मुताबिक ये घटना 5 जून, 2021 की है, जिसके बारे में पुलिस के समक्ष 2 दिन बाद रिपोर्ट दर्ज कराई गई। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो की जब पुलिस ने जांच की तो पाया कि पीड़ित अब्दुल समद बुलंदशहर से लोनी बॉर्डर स्थित बेहटा आया था। वो एक अन्य व्यक्ति के साथ मुख्य आरोपित परवेश गुज्जर के घर बंथना गया था। वहीं पर कल्लू, पोली, आरिफ, आदिल और मुशाहिद आ गए। वहां पर बुजुर्ग के साथ मारपीट शुरू कर दी गई।

गौरतलब है कि अब्दुल समद ताबीज बनाने का काम करता है। आरोपितों का कहना है उसके ताबीज से उनके परिवार पर बुरा असर पड़ा। अब्दुल समद गांव में कई लोगों को ताबीज दे चुका था। आरोपित उसे पहले से ही जानते थे। पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपित पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। कल्लू और आदिल भी गिरफ्तार कर लिए गए। अन्य अभियुक्तों की जल्द गिरफ़्तारी का आश्वासन भी पुलिस ने दिया है।

Leave a Reply