Home समाचार छत्रपति शिवाजी के वंशज उदयन राजे भोसले भाजपा में हुए शामिल

छत्रपति शिवाजी के वंशज उदयन राजे भोसले भाजपा में हुए शामिल

212
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में देश के लोगों के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों का भी विश्वास लगातार बढ़ रहा है। नरेंद्र मोदी सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से प्रभावित होकर लोग भारी संख्या में भारतीय जनता पार्टी से जुड़ रहे हैं। विश्व की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा के सदस्यों की संख्या बढ़कर 18 करोड़ से ज्यादा हो गई है।

इसी कड़ी में महाराष्ट्र के सतारा से नेशनलिस्ट पार्टी के सांसद उदयनराजे भोसले ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली है। वे छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज हैं। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और महाराष्ट्र सीएम देवेंद्र फडणवीस की मौजूदगी में उन्होंने पार्टी की सदस्यता ली।

चार बार सांसद रहे भोसले छत्रपति शिवाजी के वंशज हैं। काफी दिन से उनके बीजेपी में शामिल होने की अटकलें थीं। इससे पहले शनिवार को ही उन्होंने लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला को अपना इस्तीफा सौंपा। 

भोसले बीजेपी-सेना की सरकार में 1995-1999 तक वाणिज्य राज्यमंत्री रह चुके हैं। 2009 के बाद से वह सतारा से लोकसभा सांसद रहे हैं। 2019 में उन्होंने शिवसेना के नरेंद्र पाटिल को हराया था। अब वहां होने वाले उपचुनाव में शिवसेना को बीजेपी के लिए सीट छोड़नी पड़ेगी। 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार 130 करोड़ भारतीयों के कल्याण के लिए कृतसंकल्पित है। पिछले पांच वर्षों के दौरान हर क्षेत्र में तरक्की हुई है। एक नज़र उन योजनाओं पर डालते हैं, जिससे देश के सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन हुए हैं।

गरीबों के लिए वरदान बनी आयुष्मान भारत योजना
130 करोड़ भारतीयों के बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए महत्वकांक्षी आयुष्मान भारत योजना को देशभर में लागू किया गया है। इस योजना के अंतर्गत अब तक 40.93 लाख से अधिक मरीज लाभान्वित हो चुके हैैं और 9.74 करोड़ से अधिक ई-कार्ड्स वितरित किए गए हैं। बीमार लोगों के इलाज के लिए आयुष्मान भारत योजना के तहत देशभर में 15,968 अस्पतालों को शामिल किया गया है और लोग इसका फायदा उठा रहे हैं। 

2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार 2022 तक किसानों की आय बढ़ाने के संकल्प के साथ तेजी से आगे बढ़ रही है। इसके तहत नई तकनीकों के उपयोग को बढ़ाने, फसल चक्र में परिवर्तन करने और कम लागत में खेती की जानकारी समेत कई प्रकार की जानाकरियां किसानों को दी जा रही है। सरकार ने लक्ष्य रखा है कि 2022 तक किसानों की आय को दोगुनी की जाए। इस संकल्प के साथ कई आधारभूत योजनाओं को जमीन पर उतारा गया है जो खेती-किसानी में सहायक सिद्ध हो रहा है।

समय से पहले 8 करोड़ एलपीजी कनेक्शन का लक्ष्य हासिल

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत गरीब परिवारों की महिलाओं को मुफ्त में एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराया जाता है। आज इसी योजना का असर है कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना ने एक नया कीर्तिमान स्‍थापित कर दिया है। स्वच्छ रसोई ईंधन उपलब्ध कराने की योजना के तहत प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना ने समय से सात माह पहले 8 करोड़ एलपीजी कनेक्शन का लक्ष्य हासिल कर लिया है। 

35 करोड़ से ज्यादा गरीबों के खुले जनधन खाते

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में गरीबों को बैंकों से जोड़ने के लिए जन धन योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत न सिर्फ 36 करोड़ 79 लाख से ज्यादा गरीबों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा गया, बल्कि 102,415 करोड़ रुपये से अधिक की राशि इन जनधन खातों में जमा है।

खुले में शौच से मुक्ति

स्वच्छ भारत मिशन के तहत 2 अक्टूबर, 2014 के बाद से देशभर में 9 सितंबर, 2019 तक 10,01,21,762 घरों में शौचालय बनाए जा चुके हैं। 5,99,772 गांवों को खुले में शौच से मुक्ति मिल चुकी है। 34 राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों को खुले में शौच से मुक्ति मिल चुकी है।

गरीबों के लिए पक्के मकान

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत गरीबों के लिए एक करोड़ पक्के मकान बनाए जा चुके हैं। मोदी सरकार 2022 तक हर नागरिक के सिर पर पक्की छत देने का लक्ष्य निर्धारित की है। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना से दलित,पिछड़े और आदिवासियों को ही इसका फायदा मिलेगा।

गांवों में दूर हुआ अंधेरा

आजादी के 67 वर्ष के बाद भी देश के करीब 18, 452 गांवों में में बिजली नहीं पहुंची थी। 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से ही इस दिशा में प्रयास शुरू किए गए और देश का हर गांव में बिजली पहुंच चुकी है। दलित-आदिवासी और पिछड़े जो अब तक अंधेरे में रहने को मजबूर थे,उन्हें रोशनी मिल गयी है। 

ग्रामीण युवाओं को रोजगार के अवसर

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना ग्रामीण युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया करवाया जा रहा है। इसके तहत 18 साल से 35 साल के ग्रामीण युवाओं को रोजगार के अवसर दिए जाने के लिए कौशल प्रशिक्षण का इंतजाम किया गया है। इस योजना के तहत इस साल 30 जून तक 655 केंद्रों में 329 ट्रेड के लिये 38,057 युवा प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं, इनमें से 24,103 युवाओं को रोजगार भी मिल चुका है। वहीं पिछले साल कुल 84,900 युवाओं को प्रशिक्षण मिलने के बाद रोजगार प्राप्त हो गया था।

स्टैंड अप इंडिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस कदम से देशभर में रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं। इस योजना के अंतर्गत 10 लाख रुपये से 100 लाख रुपये तक की सीमा में ऋणों के लिए अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति और महिलाओं के बीच उद्यमशीलता को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। हर बैंक को कहा गया है कि वह यह सुनिश्चित करे कि दलित, पिछड़े और महिलाओ को खोज कर इस स्कीम से उन्हें जोड़ें।

अटल पेंशन योजना

अटल पेंशन योजना सरकार की एक अहम योजना है। इससे किसी भी नागरिक को बीमारी, दुर्घटना या वृद्धावस्था में अभाव की चिंता नहीं करनी पड़ेगी। इस योजना का उद्देश्य असंगठित क्षेत्र के 18 से 40 साल के लोगों को पेंशन फायदों के दायरे में लाना है। इससे उन्हें हर महीने न्यूनतम भागीदारी के साथ सामाजिक सुरक्षा का लाभ उठाने की अनुमति मिलेगी। इस योजना के तहत अबतक 1 करोड़ 56 लाख लोगों का पंजीकरण हो चुका है।

प्रधानमंत्री जीवन ज्‍योति बीमा योजना

यह सरकार के सहयोग से चलने वाली जीवन बीमा योजना है। इसमें 18 साल से 50 साल तक के भारतीय नागरिक को 2 लाख रुपये का बीमा कवर सिर्फ 330 रुपये के सलाना प्रीमियम पर उपलब्‍ध है। इस योजना के तहत अब तक 5 करोड़ 98 लाख लोग पंजीकरण करा चुके हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 

इस योजना के तहत किसान अपनी फसल का बीमा करवा सकते हैं। यदि मौसम के प्रकोप से या किसी अन्‍य कारण से फसल को नुकसान पहुंचता है तो यह योजना किसानों की मदद करती है। अब तक 14 करोड़ 24 लाख किसान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत पंजीकरण करा चुके हैं।

 

Leave a Reply