Home समाचार पीएम मोदी के ‘मन की बात’ से मालामाल आकाशवाणी

पीएम मोदी के ‘मन की बात’ से मालामाल आकाशवाणी

2618
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ ने आकाशवाणी (ऑल इंडिया रेडियो) को मालामाल कर दिया है। इस लोकप्रिय मासिक कार्यक्रम से आकाशवाणी की कमाई में काफी इजाफा हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ से आकाशवाणी ने पिछले दो वर्ष में लगभग 10 करोड़ रुपए कमाए हैं।

सूचना और प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने बुधवार 19 जुलाई को लोकसभा में एक लिखित प्रश्न के उत्तर में इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पिछले ‘मन की बात’ कार्यक्रम से दो साल में नौ करोड़, 97 लाख, 22 हजार, 480 रुपए की आय हुई है। उन्होंने बताया कि ‘मन की बात’ कार्यक्रम से आकाशवाणी को पिछले वर्ष 2015-16 में चार करोड़, 78 लाख, 22 हजार, 480 रुपए और वर्ष 2016-17 में पांच करोड़, 19 लाख रुपए राजस्व की प्राप्ति हुई।

‘मन की बात’ कार्यक्रम का हिंदी के साथ अन्य 18 भाषाओं और 33 बोलियों में भी प्रसारण किया जाता है। हिंदी के मूल प्रसारण का क्षेत्रीय भाषाओं में अनुवाद आकाशवाणी के स्थानीय केन्द्रों से वहां की क्षेत्रीय भाषाओं में किया जाता है। इसके साथ ही आकाशवाणी दिल्ली ‘मन की बात’ का अंग्रेजी और संस्कृत भाषा में भी प्रसारण करती है। सारे निजी चैनल भी मन की बात कार्यक्रम का प्रसारण करते हैं।

‘मन के बात’ कार्यक्रम के क्षेत्रीय भाषाओं में अनुवाद की भी काफी डिमांड है। क्षेत्रीय भाषाओं में 240 रेडियो स्टेशनों से इसका प्रसारण होता है। आकाशवाणी इन स्लॉट्स के लिए रीजनल विज्ञापनदाताओं पर फोकस कर रही है। इस रणनीति का भी काफी फायदा हुआ है। इसकी वजह से दूर-दराज के छोटे रेडियो स्टेशन भी सरकारी खजाने में फायदा भेजने लगे हैं।

मोदी के कार्यक्रम की लोकप्रियता को भांपकर आकाशवाणी ने इस स्लॉट में एड रेट्स बढ़ा दिए हैं। मार्केटिंग कंपनियों को रेडियो की ताकत का एहसास है। देश के दूर-दराज ग्रामीण इलाकों में सिर्फ आकाशवाणी की पहुंच है। ये वो क्षेत्र हैं जहां प्रिंट और टीवी विज्ञापनों की पहुंच लगभग न के बराबर है। चूंकि ‘मन की बात’ के बहाने महीने में एक रविवार के दिन श्रोताओं की संख्या करोड़ों में होती है। इसलिए यह विज्ञापन देने के लिए भी बेहतरीन मौका होता है।

Leave a Reply