Home विपक्ष विशेष मालेगांव केस में कर्नल पुरोहित को जमानत, कांग्रेसी सोच को एक और...

मालेगांव केस में कर्नल पुरोहित को जमानत, कांग्रेसी सोच को एक और झटका

3180
SHARE

भगवा आतंक का नारा देने वाले कांग्रेसियों को तगड़ा झटका लगा है। मालेगांव ब्लास्ट केस में सुप्रीम कोर्ट ने नौ साल से जेल में बंद कर्नल श्रीकांत पुरोहित को जमानत दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को पलटते हुए यह जमानत दी है। इससे पहले इसी साल 25 अप्रैल को बॉम्बे हाई कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका ठुकरा दी थी, जबकि इस मामले में साध्वी प्रज्ञा को जमानत दे दी थी। इसके बाद कर्नल पुरोहित ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत की अर्जी दी। इस मामले की जांच पहले एटीएस के पास थी, फिर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंप दी गई।

कर्नल पुरोहित को जमानत दिलाने में पूरी मदद की है वकील हरीश साल्वे ने। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव का केस लड़ने वाले हरीश साल्वे ने एनआईए पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया। साल्वे का कहना था कि कर्नल पुरोहित का बम धमाके से कोई लिंक नहीं मिला है और उन्हें राजनीतिक खेल का शिकार बनाया गया। इसके साथ ही पुरोहित ने एटीएस पर उन्हें गलत तरीके से फंसाने का आरोप भी लगाया।

कर्नल पुरोहित का कहना है कि एक राजनीति के तहत उसे बलि का बकरा बनाया गया। कर्नल पुरोहित ने मामले में खुद के शामिल होने से साफ इनकार करते हुए कहा कि अगर यह मान भी लिया जाए कि उस पर लगाया गया बम आपूर्ति करने का आरोप सही है तो भी उसे जेल से बाहर होना चाहिए क्योंकि इस अपराध की भी अधिकतम सजा सात साल है जो वह पहले ही काट चुका है।

महाराष्ट्र के मालेगांव में 29 सितंबर, 2008 को हुए ब्लास्ट में सात लोग मारे गए थे। इस मामले में एटीएस अभी तक कोई ठोस सबूत पेश नहीं कर पाई। अब कर्नल पुरोहित को जमानत मिलने से उम्मीद की जा रही है कि जल्दी ही उन लोगों के नाम आम हो जाएंगे जिन्होंने उन्हें एक आतंकी की तरह पेश करने की कोशिश की। हालांकि देश की जनता इस बारे में सब जानती है।

यथावत की खबर के अनुसार पुरोहित सेना के खुफिया विभाग में एक मिशन के तहत काम कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें पता चला कि जाली नोटों के व्यापार में देश के कुछ बड़े नेता भी शामिल हैं। यदि यह बात सार्वजनिक हो जाती तो कई नेताओं का राजनीतिक जीवन बर्बाद हो जाता, क्योंकि मामला सीधा देशद्रोह का बनता।

इससे बचने का एक ही रास्ता था। वह यह कि कर्नल पुरोहित को बीच से हटाना। उसी के तहत ‘जेहादी आतंक’ की तर्ज पर ‘हिन्दू आतंक’ का तानाबाना बुना गया’। कांग्रेस हमेशा ही देश की 20 करोड़ की आबादी को खुश करने के लिए 100 करोड़ हिंदुओं की भावनाओं से खिलवाड़ करती रही है। आइए जानने की कोशिश करते हैं कि हिंदू विरोध में कांग्रेस क्या-क्या करती आई है-

कांग्रेस ने ‘हिंदू आतंकवाद’ के नाम पर प्रज्ञा सिंह ठाकुर को फंसाया
महाराष्ट्र एटीएस ने अपनी जांच में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया था। राज्य एटीएस ने इस मामले में 12 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी। बाद में जांच एनआईए को दे दी गई। साध्वी प्रज्ञा के क्लीनचिट मिलने के बाद अब सबूत सामने आ रहे हैं कि कांग्रेस ने प्रज्ञा को फंसाया और उन्हीं के माथे देश-दुनिया में हिन्दू आंतकवाद का नई परिभाषा गढ़ दी थी।

कांग्रेस की हिंदू आतंकवाद की थ्योरी ने ले लिये असीमानंद के 10 साल
हाल में ही खुलासा हुआ है कि 18 फरवरी 2007 को समझौता एक्सप्रैस में ब्लास्ट में पाकिस्तानी मुसलमानों को किस तरह बचाया गया और हिंदू को फंसाया गया। दरअसल समझौता ब्लास्ट केस के बहाने ‘हिन्दू आतंकवाद’ नाम का शब्द गढ़ा गया। हालांकि इस केस में पाकिस्तानी आतंकवादी पकड़ा गया था, उसने अपना गुनाह भी कबूल किया था, लेकिन महज 14 दिनों में उसे चुपचाप छोड़ दिया। इसके बाद इस केस में स्वामी असीमानंद को फंसाया गया ताकि भगवा आतंकवाद या हिन्दू आतंकवाद को अमली जामा पहनाया जा सके। बड़ा सवाल ये है कि पाकिस्तानी आतंकवादी को छोड़ने का आदेश देने वाला कौन था? किसने पाकिस्तानी आतंकवादी को छोड़ने के लिए कहा? वो कौन है जिसके दिमाग में भगवा आतंकवाद का खतरनाक आइडिया आया?

मुंबई हमले का दोष हिंदुओं के मत्थे मढ़ना चाहती थी कांग्रेस
26/11 मुंम्बई हमले के बाद भी कांग्रेस ने मुस्लिम आतंकियों के कुकृत्य को छिपाने और हिंदुओं को फंसाने का षडयंत्र किया था। कहा जा रहा है कि तत्कालीन यूपीए सरकार ने इस बात का खाका तैयार कर लिया था कि इस साजिश में कैसे हिंदुओं को फंसाया जाय। मुंबई हमले के बाद कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने इसके पीछे हिंदू संगठनों की साजिश का दावा किया था। दिग्विजय के इस बयान का पाकिस्तान ने खूब इस्तेमाल किया और आज भी जब इस हमले का जिक्र होता है तो पाकिस्तानी सरकार दिग्विजय के हवाले से यही साबित करती है कि हमले के पीछे आरएएस का हाथ है। अगर अजमल कसाब को जिन्दा न पकड़ा गया होता, तो आज तक सैंकड़ों हिन्दू जेलों में बन्द किए जा चुके होते।

इंद्रेश कुमार और असीमानंद को कांग्रेस ने साजिश के तहत फंसाया
11 अक्टूबर 2007 अजमेर में हुए बम धमाके में तीन लोगों की मौत हो गयी थी जबकि 17 से अधिक लोग घायल हो गए थे। 2011 में इस केस को एनआईए को सौंप दिया गया था। उसके बाद एनआईए ने आरोप पत्र दाखिल किया था, जिसमें असीमानंद को मास्टरमाइंड बताया गया था और आरएसएस के इंद्रेश कुमार सहित आठ लोगों को आरोपी बनाया था। लेकिन 08 मार्च, 2017 को एनआईए के स्पेशल कोर्ट ने अजमेर दरगाह ब्लास्ट मामले में RSS नेता इंद्रेश कुमार और स्वामी असीमानंद को भी बरी कर दिया। जाहिर तौर पर ‘हिंदू आतंकवाद’ के नाम पर ये कांग्रेस की साजिश का ही हिस्सा है।

मोहन भागवत को आतंकवादी साबित करना चाहती थी कांग्रेस
संघ प्रमुख मोहन भागवत को लेकर हुई एक बहुत बड़ी साजिश से भी पर्दा हट गया है। एक न्यूज चैनल ने खुलासा किया है कि कांग्रेस भागवत को ‘हिंदू आतंकवाद’ के जाल में फंसाना चाहती थी। दरअसल यूपीए सरकार ने अजमेर और मालेगांव ब्लास्ट के बाद हिंदू आतंकवाद थ्योरी पेश की थी। इस दौरान कांग्रेस ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी पर दबाव बनाया ताकि मोहन भागवत को एक रणनीति के तहत फंसाया जा सके। कहा जा रहा है कि तत्कालीन गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे भी इस रणनीति में शामिल थे और भागवत को पूछताछ के लिए हिरासत में लेना चाहते थे।

मोहन भागवत को हिरासत में लेने की कांग्रेस की थी तैयारी
दरअसल समझौता ब्लास्ट के आरोपी स्वामी असीमानंद के इंटरव्यू के आधार पर भागवत को आतंकी हमलों का मुख्य प्रेरक बताया गया था। इसी के आधार पर कांग्रेस ने जांच एजेंसियों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया था। कांग्रेस नेतृत्व में यूपीए की सरकार चाहती थी कि भागवत से जुड़ी टेप की फॉरेंसिक जांच हो। लेकिन जांच एंजेसी के प्रमुख शरद यादव ने साथ नहीं दिया, जिसके बाद एनआइए ने इस मामले से किनारा कर फाइल बंद कर दी। दरअसल राष्ट्रवाद संघ की सबसे बड़ी ताकत रही है, और आतंकवाद से जुड़ाव का यह आरोप संघ की इसी विशेषता पर हमला करने की कुत्सित कोशिश है।

विकीलीक्स के खुलासे में भी आई थी हिंदू विरोध की बात
17 दिसंबर, 2010… विकीलीक्स ने राहुल गांधी की अमेरिकी राजदूत टिमोथी रोमर से 20 जुलाई, 2009 को हुई बातचीत का एक ब्योरा दिया। राहुल गांधी की जो बात सार्वजनिक हुई उसने देश के 100 करोड़ हिंदुओं के बारे में राहुल गांधी और पूरी कांग्रेस पार्टी की सोच को सबके सामने ला दिया। राहुल ने अमेरिकी राजदूत से कहा था, ”भारत विरोधी मुस्लिम आतंकवादियों और वामपंथी आतंकवादियों से बड़ा खतरा देश के हिन्दू हैं।” जाहिर तौर पर राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी हिंदुओं को कठघरे में खड़ा करने का कोई मौका नहीं चूकती। अमेरिकी राजदूत के सामने दिया गया उनका ये बयान कांग्रेस की बुनियादी सोच को ही दर्शाता है।

हिंदुओं पर ड्रोन हमले करवाना चाहती थी कांग्रेस
राहुल गांधी और टिमोथी रोमर की बातचीत के मायने निकालें तो ये साफ है कि राहुल गांधी अमेरिका से हिंदुओं के खिलाफ मदद मांग रहे थे। वे हिंदुओं को एक आतंकी समुदाय की तरह दुनिया की नजरों में स्थापित करना चाह रहे थे। मतलब यह कि जिस तरह से पाकिस्तान में आतंकियों के खिलाफ अमेरिका ड्रोन हमले करवाता है, उसी तरह भारत में भी हिंदुओं पर ड्रोन हमले करवाना चाहती थी।

राहुल ने कहा था- मंदिर जाने वाले ही लड़कियां छेड़ते हैं
कांग्रेस या राहुल गांधी की हिंदू विरोधी मानसिकता एक दिन में पैदा नहीं हुई है। विचारों की अभिव्यक्ति के नाम पर नित्य नया ज्ञान देने वाली पार्टी ‘द सैटेनिक वर्सेज’ पर तो रोक लगा देती है। लेकिन हिंदुओं को अपमानित करने का कोई मौका नहीं छोड़ती। यही राहुल गांधी हैं, जो कहते हैं कि मंदिरों में मत्था टेकने वाले ही, बसों में लड़कियों को छेड़ते हैं। अब राहुल को ये दिव्य ज्ञान कहां से मिला कि छेड़खानी करने वाला हर लड़का हिंदू ही होता है ? वो लड़की छेड़ने से पहले मंदिर में दर्शन करने के लिए जरूर जाता है ? ये जानबूझकर हिंदुओं और हिंदू धर्म को नीचा दिखाने की मानसिकता नहीं है तो क्या है ? राहुल ये क्यों नहीं बताते कि अभी ही हाल में यूपी के रामपुर में 15-16 गुंडों ने एक लड़की के साथ जो सरेआम अश्लील हरकतें कीं और उसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाला, वो किस मंदिर से दर्शन करके आए थे ?

कांग्रेस ने भगवान राम की तुलना तीन तलाक और हलाला से की
16 मई, 2016 को तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही थी। बहस सामान्य थी कि ट्रिपल तलाक और हलाला मुस्लिम महिलाओं के लिए कितना अमानवीय है। लेकिन सुनवाई के दौरान कांग्रेस नेता और AIMPLB के वकील कपिल सिब्बल ने तीन तलाक और हलाला की तुलना राम के अयोध्या में जन्म से कर डाली। कपिल सिब्बल ने दलील दी है जिस तरह से राम हिंदुओं के लिए आस्था का सवाल हैं उसी तरह तीन तलाक मुसलमानों की आस्था का मसला है। साफ है कि भगवान राम की तुलना, तीन तलाक और हलाला जैसी घटिया परंपराओं से करना कांग्रेस और उसके नेतृत्व की हिंदुओं की प्रति उनकी सोच को ही दर्शाता है।

वंदेमातरम का भी विरोध करती रही है कांग्रेस
आजादी के बाद यह तय था कि वंदे मातरम राष्ट्रगान होगा। लेकिन जवाहरलाल नेहरू ने इसका विरोध किया और कहा कि वंदे मातरम से मुसलमानों के दिल को ठेस पहुंचेगी। जबकि इससे पहले तक तमाम मुस्लिम नेता वंदे मातरम गाते थे। नेहरू ने ये रुख लेकर मुस्लिम कट्टरपंथियों को शह दे दी। जिसका नतीजा देश आज भी भुगत रहा है। आज तो स्थिति यह है कि वंदेमातरम को जगह-जगह अपमानित करने की कोशिश होती है। जहां भी इसका गायन होता है कट्टरपंथी मुसलमान बड़ी शान से बायकॉट करते हैं।

सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण और बीएचयू में हिंदू शब्द पर कांग्रेस को एतराज
हिंदुओं के सबसे अहम मंदिरों में से एक सोमनाथ मंदिर को दोबारा बनाने का जवाहरलाल नेहरू ने विरोध किया था। उन्होंने कहा था कि सरकारी खजाने का पैसा मंदिरों पर खर्च नहीं होना चाहिए। ऐसे ही नेहरू को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में हिंदू शब्द पर आपत्ति थी। वे चाहते थे कि इसे हटा दिया जाए। इसके लिए उन्होंने महामना मदनमोहन मालवीय पर दबाव भी बनाया था। जबकि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के नाम से दोनों को ही कोई एतराज नहीं था।

एंटनी ने भी माना था हिंदुओं की उपेक्षा की बात
2014 में करारी हाल मिलने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ए के एंटनी ने भी पहली बार स्वीकार किया था कि पार्टी को हिंदू विरोधी छवि के चलते नुकसान हुआ है। तब ये बात सामने आई थी कि हर मुद्दे पर कांग्रेस जिस तरह से तुष्टिकरण की लाइन लेती है, वो बात अब आम जनता भी महसूस करने लगी है। बहुसंख्यक हिंदू समझ चुके हैं कि कांग्रेस सिर्फ और सिर्फ मुसलमानों के लिए सोचती है।

कांग्रेस करती आई है हिंदुओं का विरोध
कांग्रेस धर्मनिरपेक्षता का ढोंग सिर्फ हिंदुओं के लिए ही करती रही है। वो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे देशभक्त संगठन पर सांप्रदायिकता का लांछन लगाने में नहीं चूकती। लेकिन जाकिर नाइक जैसी खतरनाक सोच वालों पर सवाल उठाने तक की हिम्मत नहीं जुटा पाती। यही वजह है कि जाकिर नाइक जैसा अपराधी राजीव गांधी फाउंडेशन को चंदा देकर आराम से अपने गुनाहों पर पर्दा डाल लेता है। हिंदू कोड बिल लेकर आने वाली कांग्रेस ने हमेशा कॉमन सिविल कोड का विरोध किया और ट्रिपल तलाक के मसले को साजिश ठहराने की कोशिश की। 2012 में तो तत्कालीन मनमोहन सिंह के चेहरे वाली सोनिया की सरकार ने मुस्लिम आरक्षण विधेयक लाकर अपना असली चेहरा सार्वजनिक कर दिया था।

Leave a Reply