Home विपक्ष विशेष राज ठाकरे की आर-पार: यूपी में लाउडस्पीकर बंद हो सकते हैं तो...

राज ठाकरे की आर-पार: यूपी में लाउडस्पीकर बंद हो सकते हैं तो महाराष्ट्र में क्यों नहीं? ईद के बाद मस्जिदों पर लाउडस्पीकर बजे तो दोगुनी स्पीड से होगी हनुमान चालीसा

204
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा से पहले नारा दिया था-यूपी प्लस योगी…हैं उपयोगी। उत्तर प्रदेश का दूसरी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने उसे साबित भी कर दिखाया है कि पीएम मोदी उन्हें क्यों उपयोगी कहते हैं। योगी के उत्तर प्रदेश मॉडल के चर्चे देशभर में हो रहे हैं। वे जिस दिशा में कदम उठा रहे हैं, वे देश के अलग-अलग राज्यों में मुद्दे बन रहे हैं। योगी ने सबसे पहले यूपी में लाउडस्पीकर का मुद्दा उठाया और इस पर सख्ती से रोक लगाकर, हजारों लाउडस्पीकर उतरवाकर साबित किया कि सरकार चाहे और सही नीयत के काम करे तो असंभव काम को भी संभव बना सकती है। अब लाउडस्पीकर का मुद्दा महाराष्ट्र से लेकर राजस्थान तक गूंजने लगा है।चार मई के बाद लाउडस्पीकर नहीं हटे तो हम किसी की नहीं सुनेंगे, होगा हनुमान चालीसा
लाउडस्पीकर को लेकर महाराष्ट्र में सियासत सरगर्म हो गई है। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे लाउडस्पीकर पर अजान का विरोध कर रहे हैं। महाराष्ट्र में औरंगाबाद के सांस्कृतिक मैदान में मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा कि हमने मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के लिए 3 मई तक के लिए अल्टीमेटम दिया है। लेकिन 3 मई को ईद है। मैं इस उत्सव को खराब करना नहीं चाहता। हम सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह हमारी मांग पूरी करे, नहीं तो 4 मई के बाद हम किसी की नहीं सुनेंगे।

अगर यूपी में लाउडस्पीकर हट सकता है तो महाराष्ट्र में क्यों नहीं हट सकता?
उत्तर प्रदेश का उदाहरण देते हुए राज ठाकरे ने कहा कि अगर यूपी में लाउडस्पीकर हट सकता है तो महाराष्ट्र में क्यों नहीं हट सकता? पूरे देश से लाउडस्पीकर हटाए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर बातों से नहीं समझेंगे तो हम ताकत दिखाएंगे। महाराष्ट्र में दंगा कराने का हमारा कोई इरादा नहीं है लेकिन लाउडस्पीकर से अजान होगी तो हम हनुमान चालीसा बजाएंगे और दोगुनी स्पीड से बजाएंगे। फिर यदि किसी ने लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा का विरोध किया तो उसकी एक नहीं सुनी जाएगी, चाहे इसके जो भी परिणाम हों।

लाउडस्पीकर हटाने का मुद्दा धार्मिक नहीं, ये सामाजिक बदलाव का मुद्दा है
ठाकरे ने कहा कि अकेले औरंगाबाद संभाजी नगर में 600 मस्जिदें हैं, नियम सबके लिए समान होने चाहिए। मैं दोहराता हूं कि मस्जिदों पर लगे सभी लाउडस्पीकर अवैध हैं। लाउडस्पीकर के मुद्दे पर किसी ने पूछा, अचानक, मैंने कहा अचानक नहीं है। मैंने सिर्फ उसे पर्याय दिया है कि अगर लाउडस्पीकर नहीं हटे तो हम हनुमान चालीसा पढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि हमें महाराष्ट्र में कोई दंगा नहीं कराना, लेकिन नासिक के एक पत्रकार ने मुझे कहा कि लाउडस्पीकर पर अजान से मेरे बच्चे को परेशानी होती है। ये सामाजिक मुद्दा है, धार्मिक नहीं। लाउडस्पीकर के विरोध में ठाकरे ने कहा कि रैली को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे थे। पुलिस ने 15 हजार लोगों की मौजूदगी की मंजूरी दी थी, रैली में 50 हजार से ज्यादा लोग पहुंचे हैं।

शरद पवार नास्तिक, महाराष्ट्र में फैला रहे हैं जातिवाद का जहर
एनसीपी प्रमुख शरद पवार पर भी राज ठाकरे ने निशाना साधा। उन्होंने कहा कि शरद पवार ने कुछ दिन पहले मुझ पर आरोप लगाया था कि मेरे भाषण समाज को बांट रहे हैं, लेकिन मैं शरद पवार से कहना चाहता हूं कि मैं नहीं शरद पवार जातिवाद का जहर फैला रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैंने जिस दिन कहा, उस दिन से शरद पवार भगवान के साथ फोटो डाल रहे हैं। उनकी बेटी ने खुद लोकसभा में कहा कि उनके पिता नास्तिक हैं। उन्हें हिंदू शब्द से एलर्जी है। एनसीपी के आने के बाद ही महाराष्ट्र में जातिवाद का जहर फैला है।

तुष्टिकरण के लिए लाउडस्पीकर को बढ़ावा दे रही है गहलोत सरकार
एक ओर देशभर में ध्वनि-प्रदूषण करने वाले लाउडस्पीकरों के विरोध में लोग और नेता लामबंद हो रहे हैं। दूसरी ओर सम्प्रदाय विशेष के तुष्टिकरण के लिए गहलोत सरकार लाउडस्पीकरों को बढ़ावा देने में लगी हुई है। कुछ दिन पहले ही जयपुर में ही सौ से ज्यादा लाउडस्पीकर लगवाकर जुमे की नमाज अता कराई गई थी। लोगों के कहना है कि ऐसे समय में जबकि बच्चो की परीक्षाएं चल रही हैं, सरकार की जिम्मेदारी थी कि वो लाउडस्पीकरों पर रोक लगाए, लेकिन सरकार शोर-गुल रोकने के बजाए उसके बढ़ावा देने में लगी हुई है।

सत्ता में आने पर राजस्थान से लाउडस्पीकर हटवाएगी सरकार- पूनियां
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने कहा कि बीजेपी की सरकार आने पर लाउडस्पीकर हटाए जाएंगे। पूनियां ने कहा कि प्रदेश में लगातार साम्प्रदायिक तरीके से कांग्रेस ने वोट बैंक तुष्टिकरण करने का काम किया है। बातचीत में पूनिया ने कहा कि प्रदेश में रामनवमी के जुलूस पर पाबंदी लगाई गई और शुक्रवार को जयपुर के जौहरी बाजार में बड़ी संख्या में लोगों को नमाज पढ़ने की इजाजत दी गई। पहली बार 30 माइक लगाए गए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बहादुरशाह जफर साबित होंगे ।

 

Leave a Reply