Home समाचार मतदान से ठीक पहले तेजस्वी यादव ने दिलायी ‘भूरा बाल’ साफ करो...

मतदान से ठीक पहले तेजस्वी यादव ने दिलायी ‘भूरा बाल’ साफ करो की याद, रोहतास की जनसभा में उछाला जातिवाद का कार्ड

738
SHARE

बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग से ठीक पहले महागठबंधन के मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने जाति कार्ड खेलना शुरू कर दिया है। रोहतास में एक चुनावी जनसभा के दौरान उन्होंने अपने पिता के ‘भूरा बाल’ साफ करो के नारे की याद दिला दी। उन्होंने कहा कि जब लालू यादव का राज था तो गरीब सीना तान के राजपूतों के सामने चलते थे। तेजस्वी के इस बयान पर जनसभा में लोगों ने जमकर तालियां बजायीं।

तेजस्वी यादव के इस बयान ने डिहरी विधानसभा क्षेत्र के साथ ही पूरे बिहार के चुनावी तपमान को बढ़ा दिया है। तेजस्वी के भाषण में सवर्णों का विरोध साफ दिखाई पड़ता है। इस बयान को पिछड़ों की राजनीति से जोड़कर देखा जा रहा है। जिस तरह से मंडल कमीशन के बाद लालू यादव ने पिछड़ों को लामबंद किया, उसी तरह तेजस्वी भी लालू यादव के राज की याद दिलाकर उनके भावनाओं को भुनाने की कोशिश करते दिखाई दे रहे हैं। 

बता दें कि बिहार का मुख्यमंत्री बनने के बाद लालू यादव ने पिछड़ी जातियों को अपने पाले में लामबंद करने लिए अगड़ी जातियों के खिलाफ खुलकर बयान दिया। उन्होंने ‘भूरा बाल’ साफ करो, यानि भूमिहार, राजपूत ,ब्राह्मण, लाला को खत्म करो का नारा दिया था। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए पिछड़ों का ध्रवीकरण करने की कोशिश कर रहे हैं। 

बिहार में तेजस्वी के इस धुव्रीकरण का असर भी दिखाई दे रहा है। आरजेडी के समर्थकों ने सवर्णों को अपने निशाने पर लेना शुरू कर दिया है। वैशाली में इसी तरह का एक मामला सामना आया, जिसमें आरजेडी समर्थकों ने एक पुरोहित से जबरन ‘तेजस्वी जिंदाबाद’ के नारे लगवाने की कोशिश की। यहां तक की गले में पार्टी का पट्टा डालकर बदसलूकी की। इस मामले से संबंधित वीडियो वायरल हो रहा है, जिसने आरजेडी के सियासी मंशा को उजगार कर भविष्य के बिहार के बार में पहले से सावधान कर दिया है।

इसी तरह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चुनावी सभाओं में आरजेडी समर्थक गुंडागर्दी करते दिखाई दे रहे हैं। नीतीश कुमार के भाषण के दौरान लालू यादव जिंदाबाद का नारा लगाना हो, या नीतीश कुमार के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करना हो, या फिर चुनावी जनसभा में हंगामा करना हो, आरजेडी समर्थक 15 साल पहले के लालू राज के आने का संकेत दे रहे हैं।

 

 

 

Leave a Reply