Home समाचार पाकिस्तानियों के इशारे पर फर्जी किसानों ने किया तांडव, देश विरोधी ताकतों...

पाकिस्तानियों के इशारे पर फर्जी किसानों ने किया तांडव, देश विरोधी ताकतों ने शराब और पैसे का किया खुलकर इस्तेमाल

1357
SHARE

पहले से आशंका जताई जा रही थी कि किसान आंदोलन की आड़ में देश विरोधी ताकतें अपना मकसद पूरा करना चाहती है, वो सही साबित हो रही है। ‘किसान आंदोलन’ के माध्यम से राजधानी दिल्ली में हिंसा फैलाने की साजिश लंबे समय से रची जा रही थीं। दिल्ली में ट्रैक्टर रैली के नाम पर तिरंगे का अपमान, पत्थरबाजी, आगजनी और गुंडागर्दी की गई। देश विरोधी ताकतों, वामपंथियों और कांग्रेसियों के इन कारनामों को देखकर पाकिस्तान में खुशी जाहिर की जा रही है।

गणतंत्र दिवस पर लाल किले पर ‘खालिस्तानी झंडा’ फहराने को लेकर ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (APML) काफी खुश है। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ द्वारा स्थापित पाकिस्तानी राजनीतिक पार्टी ने इसे ‘ऐतिहासिक क्षण’ बताया है।

पाकिस्तानी राजनैतिक दल इसे भारतीय गणतंत्र के लिए ‘काला दिवस’ बता रहा है। विरोध करने वाली भीड़ की कार्रवाइयों से भारत को भारी शर्मिंदगी हुई है। हालाँकि, कांग्रेस पार्टी राष्ट्रीय राजधानी में व्यापक अराजकता का जश्न मना रही है। कांग्रेस पार्टी ने इसे ‘रिपब्लिक की शक्ति’ नाम दिया है।

जिस तरह किसान आंदोलन की आड़ में देश विरोधी ताकतों ने अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया, उससे देश के साथ ही पूरी दुनिया ने देखा। प्रदर्शन में शामिल निहंगों ने खुलेआम तलवारें भाजीं और पुलिस पर हमला करने का प्रयास किया। इन प्रदर्शनकारियों को न तो पुलिस का डर था और न ही कानून का। ये प्रदर्शनकारी अपनी मनमानी करने पर उतारू है।

इस बीच पुलिस ने शराब से भरे एक ट्रैक्टर को सीज किया है। सामने आए फोटो में देखा जा सकता है कि पूरा ट्रैक्टर शराब से भरा हुआ है। यानि कि शराब के नशे में ट्रैक्टरों को चलाया जा रहा है। देशी और विदेशी शराब से भरे इस ट्रैक्टर में नमकीन के पैकेट्स भी हैं। जबकि ट्रैक्टर रैली के लिए जारी की गई गाइडलाइन में साफ तौर पर लिखा था कि इस दौरान किसी भी तरह के नशीले पदार्थों का सेवन वर्जित होगा। ये तस्वीरें सवाल उठाती है कि क्या वाकई ये आंदोलनकारी किसान हैं? 

वहीं आंदोलन कर रहे किसानों का दिल्ली पुलिस के साथ टकराव हो गया। कई किसानों का पुलिस के साथ आमना-सामना भी हुआ। कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों के राष्ट्रीय राजधानी के आईटीओ पहुँचने के बाद दिल्ली में आगे की ओर बढ़ने की कोशिश पर पुलिस के साथ भिड़ंत हुई। पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए लाठीचार्ज किया और आँसू गैस के गोले दागे।

 

Leave a Reply