Home नरेंद्र मोदी विशेष देश के पहले पीएम नेहरू की गलती को सुधारने और आतंकवाद की...

देश के पहले पीएम नेहरू की गलती को सुधारने और आतंकवाद की कमर तोड़ने के लिए भारतीय सेना PoK में कार्रवाई को तैयार, लांच पैड पीर पंजाल में छिपे बैठे हैं 160 आतंकी

352
SHARE

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की एक गलती का दंश आज 75 साल के बाद भी देश भुगत रहा है। नेहरू के गलती पीओके के रूप में देश के सामने है, जिसकों आतंकियों का लांचिंग पैड बनाकर पाकिस्तान हमारे देश में उनकी घुसपैठ कराता है। दरअसल, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) भारत का ही वह हिस्सा है,जो पाकिस्तान के साथ लगता है। 1947 में बंटवारे के बाद पाकिस्तान ने कबीलाई विद्रोहियों की मदद से जम्मू-कश्मीर के इस हिस्से पर कब्जा कर लिया था। तब भारतीय फौज इस हिस्से को वापस लेने के लिए दमदार तरीके से लड़ रही थी। भारतीय सेना के जांबाज अफसर तभी पीओके को अपने कब्जे में ले लेते, मगर उसी समय भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू कश्मीर के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र संघ (UN) में चले गए। संयुक्त राष्ट्र ने दखल देकर दोनों देशों के बीच युद्ध विराम करवा दिया और ‘जो जहां था, वहीं काबिज हो गया।’कश्मीर में अनुच्छेद 370 के खात्मे के बाद PoK के लिए भी देश की उम्मीदें और जवां
पहले प्रधानमंत्री की इसी गलती का नतीजा है कि उसी समय से दोनों देशों की फौजें इंटरनेशनल सरहद की जगह लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) के दोनों तरफ डटी हैं। LoC दोनों मुल्कों के बीच खींची गई 840 किलोमीटर लंबी सीमा रेखा है। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार आने के बाद से ये उम्मीद जगी है कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर, जो वास्तविक रूप से भारत का ही वह हिस्सा है, वह फिर से भारत में शामिल हो जाएगा। इसी हिस्से में प्राचीन शक्तिपीठों में से एक शारदा शक्तिपीठ भी है, जो पाकिस्तान सरकार की अनदेखी के चलते अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रही है। मोदी सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के खात्मे के फैसले के बाद
देश की उम्मीदें और जवां हो गई हैं। इसके बाद ही PoK को वापस लेने की मांग जोर-शोर से उठती रही है।प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने कहा- PoK पर कार्रवाई के लिए सेना तैयार
भारतवासियों को आशा को सेना के एक बयान के और बल मिला है। उत्तरी कमांड के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने पुरजोर अंदाज में ऐलान किया है कि सेना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर पर कार्रवाई करने करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि PoK के विषय पर संसद में प्रस्ताव पास हो चुका है। भारतीय सेना सरकार के हर आदेश के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि सरकार जब भी आदेश देगी सेना अपनी पूरी तैयारी के साथ आगे बढ़ेगी।भारत में घुसपैठ के लिए पाकिस्तानी लॉन्चपैड पर करीब 160 आतंकवादी मौजूद
दरअसल, पीओको में कार्रवाई इसलिए भी जरूरी हो गई है, क्योंकि पाकिस्तानी आका और आईएसआई भारत में घुसपैठ के लिए इसे लॉंचपैड के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। उत्तरी कमांड के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने बताया कि भारत में घुसपैठ के लिए पाकिस्तानी लॉन्चपैड पर करीब 160 आतंकवादी बैठे हैं, जिनमें पीर पंजाल के उत्तर में 130 और पीर पंजाल के दक्षिण में 30 आतंकी मौजूद हैं। पूरे भीतरी इलाकों में कुल 82 पाकिस्तानी आतंकवादी और 53 स्थानीय आतंकवादी बैठे हैं। इसके अलावा पाकिस्तान लगातार ड्रग्स भेजने की कोशिश कर रहा है। हाल ही में ही हमने करोड़ों रुपए की ड्रग्स पकड़ी है। यहां तक कि हम जो आतंकी बॉर्डर पर मार रहे हैं उनको भी यह लोग कहते हैं कि आप स्मगलर मार रहे हो। इसका मतलब साफ है कि पाकिस्तान ड्रग्स बेचने के प्रयास आए दिन कर रहा है। हम पाक के मंसूबे कामयाब नहीं होने देंगे।हर भारतीय की आस पीओके अब भारत में चाहिए, पाकिस्तान ने इसे दो हिस्सों में बांटा
काबिले जिक्र है कि इसी माह तीन नवंबर को हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एक रैली को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान भीड़ में से लोगों ने कहा- PoK भी अब भारत में चाहिए। इस पर रक्षा मंत्री ने कहा…धैर्य रखिए, धैर्य रखिए। राजनाथ हिमाचल के वीर जवानों को लेकर बात कर रहे थे। इस दौरान रैली में मौजूद लोगों ने PoK चाहिए के नारे लगा दिए। पाकिस्तान, PoK को छोड़ने के लिए तैयार नहीं है और उसे आजाद कश्मीर बताता है। मौजूदा समय में पाकिस्तान ने PoK को गिलगिट और बाल्टिस्तान, दो हिस्सों में बांट रखा है। भारत सरकार समय-समय पर PoK को वापस लेने की बात कहती रही है।पाकिस्तान और आईएसआई की साजिश के चलते 20 साल से कम उम्र 35 पर्सेंट आतंकी
उत्तरी कमांड के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने कहा पाकिस्तान और आईएसआई 35 पर्सेंट ऐसे युवाओं को आतंकी बना रहा है, जिनकी आयु 20 साल से कम हैं। 55 प्रतिशत जो युवा हैं, वो 20-30 साल के बीच में आतंकी बनाए जा रहे हैं। मोदी सरकार अब युवाओं को एजुकेटेड बना रही है और सेना भी हर प्रयास कर रही है ताकि युवा रेडिकलाइज ना हो सकें। पुंछ में लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने कहा कि आतंकवाद को हमने बहुत हद तक कंट्रोल किया है। पाकिस्तान की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि हमारा पड़ोसी पिस्टल को यहां लाने, ड्रग्स बेचने और ग्रेनेड को भेजने की कोशिश कर रहा है। लेकिन हम पीओके के आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई करके उसके नापाक मंसूबों को पूरा नहीं होने देंगे।अनुच्छेद 370 हटने से जम्मू-कश्मीर में काफी बदलाव आया, आतंकवादी इससे बौखलाए
लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने जम्मू-कश्मीर में हो रही टार्गेट किलिंग पर कहा कि राज्य में आतंकवाद को रोकने के लिए काफी काम किया गया है। इससे बौखलाए आतंकियों की तरफ से कभी पिस्टल कभी हथियार इस तरह भेजने के प्रयास किए जाते हैं और निहत्थे लोगों को टारगेट किया जाता है, लेकिन आतंकी अपने मंसूबों में कभी कामयाब नहीं हो पाएंगे। उन्होंने दावा किया कि धारा अनुच्छेद हटने के बाद से जम्मू-कश्मीर में काफी बदलाव आया है। राज्य में आतंकवाद पर लगाम लगी है।

 

 

 

Leave a Reply