Home समाचार पश्चिम बंगाल में गुंडाराज, टीएमसी विधायक ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर किया हमला,...

पश्चिम बंगाल में गुंडाराज, टीएमसी विधायक ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर किया हमला, लोकतंत्र के ठेकेदार मौन

259
SHARE

पश्चिम बंगाल के ममता बनर्जी सरकार में टीएमसी विधायकों और उसके गुंडों का आतंक है। टीएमसी के गुंडे खुलेआम लोकतंत्र की धज्जियां उड़ा रहे हैं। टीएमसी के चुंचुड़ा के विधायक असित मजूमदार ने अपने समर्थकों के साथ मिलकर बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला कर दिया। उन्होंने बीजेपी का प्रचार कर रहे कार्यकर्ताओं को खुद लाठी लेकर दौड़ाया और उनपर लाठियों से प्रहार किया। एक विधायक होकर असित मजूमदार खुलेआम गुंडागर्दी करते रहे, लेकिन उन्हें रोकने वाला कोई नहीं था। बीच सड़क पर हुई लोकतंत्र के इस चीरहरण पर लोकतंत्र के सभी ठेकेदार मौन है। 

दरअसल सोशल मीडिया पर टीएमसी विधायक असित मजूमदार का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें विधायक अपने समर्थकों से कह रहे हैं कि मेरी गाड़ी पर बीजेपी वालों ने अटैक कर दिया। जुलूस निकालो। बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला बोल दो। मोबाइल फोन पर असित मजूमदार निर्देश दे रहे हैं कि जहां से मन करता है, जुलूस निकालो। चारों ओर जुलूस निकालो। वहीं बीजेपी के विधायक और विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने असित मजूमदार के दावे को निराधार बताते हुए ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट में एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि पश्चिम बंगाल में ‘कानून का शासन नहीं, शासक का कानून’ है।

हावड़ा जिला के चुंचुड़ा के खदीना मोड़ में शुक्रवार (05 अगस्त, 2022) को बीजेपी की रैली के दौरान तनाव भड़क उठा। तृणमूल विधायक असित मजूमदार के नेतृत्व में बीजेपी कार्यकर्ताओं को पीटा गया। बीजेपी की ओर से विधायक पर आरोप लगाया गया कि उनके नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों ने बीजेपी की रैली पर हमला किया गया। घटना के बाद तनाव फैल गया। सूचना पाकर पुलिस खदीना मोड़ पहुंची और परिस्थिति को नियंत्रित किया।

प्रदेश बीजेपी के मुख्य प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने कहा कि एक विधायक डंडा लेकर राजनीतिक विरोधियों के जुलूस पर हमला कर रहा है। इससे राज्य में हालात की गंभीरता का अंदाजा लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि असित मजुमदार पुराने राजनीतिज्ञ हैं। वह इतनी जल्द कैसे आपा खो बैठे।
आइए देखते हैं ममता बनर्जी के गुंडाराज में किस तरह पश्चिम बंगाल हिंसा की आग में जल रहा है… 

विधानसभा में जनप्रतिनिधि सुरक्षित नहीं, बीजेपी विधायकों पर हमला

पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तानाशाही बढ़ती ही जा रही है। राज्य में कानून-व्यवस्था का हाल यह है कि आम लोगों की बात तो छोड़िए चुनाव से चुनकर आए प्रतिनिधि भी सुरक्षित नहीं हैं। बीरभूम में दस लोग जिंदा जला दिए गए। बीरभूम नरसंहार के मामले को 28 मार्च, 2022 को जब बीजेपी विधायकों ने विधानसभा में उठाने की कोशिश की तो उनके साथ हाथापाई की गई और कपड़े तक फाड़ दिए गए। विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने स्पीकर से पूछा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बीरभूम नरसंहार को लेकर सरकारी मदद की घोषणा विधानसभा से बाहर क्यों कर रही हैं? जबकि नियम यह है कि सत्र जारी रहने पर सरकारी फैसलों की जानकारी पहले सदन को देनी होती है। इसके साथ ही बीजेपी विधायक बीरभूम नरसंहार को लेकर परिचर्चा और ममता बनर्जी से बयान की मांग कर रहे थे। इस पर ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी के विधायकों ने विरोध करते हुए बीजेपी विधायकों के साथ हाथापाई शुरू कर दी। 

टीएमसी के गुंडों ने 10 लोगों को जिंदा जलाकर मार डाला

21 मार्च, 2022 को बंगाल के बीरभूम जिले के रामपुरहाट में 10 लोगों को जिंदा जलाकर मार डाला गया। बारशल ग्राम पंचायत के उप-प्रधान और टीएमसी नेता भादू शेख की हत्या के बाद टीएमसी के समर्थकों की हिंसक भीड़ ने 10 से 12 घरों में आग लगा कर बाहर से ताला लगा दिया, जिससे लोग जिंदा जलकर मर गए। टीएमसी के गुंडे इतने जालिम हो गए हैं कि उन्होंने जलते हुए लोगों को बचाने की कोशिश को भी नाकाम कर दिया। फायर ब्रिगेड के एक कर्मचारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर बताया कि उन्होंने कम से कम 10 घरों को आग से बर्बाद पाया। उन्होंने कहा, ‘हमें कुछ स्थानीय लोगों ने आग बुझाने से भी रोका। अब तक हमें एक घर से 7 शव मिल चुके हैं। वह इतनी बुरी तरह से जले हैं कि यह भी नहीं पहचान हो पाई कि मरने वाले पुरुष थे, महिला थे या फिर नाबालिग हैं।’

निकाय चुनाव में टीएमसी के गुंडों द्वारा हिंसा व धांधली

पूरे देश के लोगों ने फरवरी 2022 में पश्चिम बंगाल के निकाय चुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की गु़ंडागर्दी व आतंक को देखा। निकाय चुनावों में हिंसा और बूथ लूट को कवर करने के दौरान विभिन्न मीडिया हाउस के कम से कम नौ पत्रकारों को पीटा गया। कोन्नगर के वार्ड 10 के बीजेपी प्रत्याशी और पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष कृष्णा भट्टाचार्य पर हमला किया गया। बीजेपी का आरोप है कि उम्मीदवार को सड़क पर पीटा गया, जिससे उनके पैर में गंभीर चोट आई है। उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। 

Leave a Reply