Home समाचार भारत-लक्जमबर्ग के बीच आर्थिक सहयोग को और आगे ले जाने की अपार...

भारत-लक्जमबर्ग के बीच आर्थिक सहयोग को और आगे ले जाने की अपार संभावनाएं- प्रधानमंत्री मोदी

398
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि भारत और लक्जमबर्ग के बीच आर्थिक सहयोग को और आगे ले जाने की अपार संभावनाएं हैं। गुरुवार, 19 नवंबर को प्रधानमंत्री मोदी ने लक्जमबर्ग के प्रधानमंत्री जेवियर बेट्टेल के साथ वर्चुअल तरीके से एक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन का आयोजन किया। शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज जब विश्व कोरोना महामारी की आर्थिक और स्वास्थ्य चुनौतियों से जूझ रहा है, भारत-लक्जमबर्ग साझेदारी दोनों देशों के साथ-साथ दोनों क्षेत्रों की रिकवरी के लिए उपयोगी हो सकती है। हमारे बीच अभी भी अच्छा सहयोग है, किंतु इसे और आगे ले जाने की अपार संभावनाएं हैं।

दोनों प्रधानमंत्रियों ने कोविड के बाद की दुनिया में भारत और लक्जमबर्ग के बीच संबंध को मजबूत करने पर विचारों का आदान-प्रदान किया, विशेष रूप से वित्‍तीय प्रौद्योगिकी, ग्रीन फाइनैंसिंग, अंतरिक्ष अनुप्रयोग, डिजिटल नवाचार और स्टार्टअप के क्षेत्रों में। उन्होंने दोनों देशों के बीच हुए विभिन्न समझौतों का स्वागत किया जिसमें वित्तीय बाजार नियामकों, स्टॉक एक्सचेंजों और नवाचार एजेंसियों के बीच हुए समझौते शामिल हैं।

प्रधानमंत्री मोदी और पीएम जेवियर बेट्टेल ने प्रभावी बहुपक्षवाद को साकार करने और कोरोना महामारी, आतंकवाद एवं जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए सहयोग को मजबूती देने पर सहमति जताई। प्रधानमंत्री मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) में शामिल होने की लक्जमबर्ग की घोषणा का स्वागत किया और उसे आपदा रोधी बुनियादी ढांचे के लिए गठबंधन (सीडीआरआई) में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया।

प्रधानमंत्री ने कोरोना महामारी के कारण लक्जमबर्ग में हुई लोगों की मृत्‍यु पर संवेदना व्‍यक्‍त की और इस संकट से निपटने में उनके नेतृत्‍व की सराहना की। प्रधानमंत्री ने कोविड-19 की स्थिति में सुधार होने के बाद लक्जमबर्ग के ग्रैंड ड्यूक के साथ-साथ प्रधानमंत्री बेट्टेल को भारत में अगवानी करने उम्‍मीद जताई। प्रधानमंत्री बेट्टेल ने भी प्रधानमंत्री मोदी को अपनी सुविधानुसार लक्जमबर्ग की यात्रा करने के लिए आमंत्रित किया।

देखिए वीडियो-

Leave a Reply