Home समाचार भ्रष्टाचार के वंशवाद से निपटना आज की सबसे बड़ी चुनौती है- प्रधानमंत्री...

भ्रष्टाचार के वंशवाद से निपटना आज की सबसे बड़ी चुनौती है- प्रधानमंत्री मोदी

171
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को सीबीआई की विजिलेंस एंड एंटी करप्शन विषय पर आयोजित तीन दिवसीय नेशनल कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन किया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार का वंशवाद आज की सबसे बड़ी चुनौती है। भ्रष्टाचार करने के बाद ढिलाई और पर्याप्त सजा नहीं मिलने पर अगली पीढ़ी को लगता है कि जब ऐसे लोगों को मामूली सजा के बाद छूट मिल जाती है तो उसका भी भ्रष्टाचार के लिए मन बढ़ता है। ये स्थिति भी काफी खतरनाक है, लिहाजा भ्रष्टाचार के वंशवाद पर प्रहार करना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते वर्षों में देश करप्शन पर जीरो टॉलरेंस की एप्रोच के साथ आगे बढ़ा है। वर्ष 2014 से अब तक देश की प्रशासनिक व्यवस्थाओं में, बैंकिंग प्रणाली में, हेल्थ सेक्टर में, एजुकेशन सेक्टर में, लेबर, एग्रीकल्चर, हर सेक्टर में रिफॉर्म हुए हैं। ये पूरा दौर बड़े सुधारों का रहा है। इन सुधारों को आधार बनाकर आज भारत, आत्मनिर्भर भारत के अभियान को सफल बनाने में पूरी शक्ति से जुटा हुआ है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि विकास के लिए जरूरी है कि हमारी जो प्रशासनिक व्यवस्थाएं हैं वो Transparent हों, Responsible हों, Accountable हों, जनता के प्रति जवाबदेह हों। इन सभी व्यवस्थाओं का सबसे बड़ा शत्रु भ्रष्टाचार है। भ्रष्टाचार केवल कुछ रुपयों की ही बात नहीं होती। एक तरफ, भ्रष्टाचार से देश के विकास को ठेस पहुंचती है तो साथ ही भ्रष्टाचार, सामाजिक संतुलन को भी बिगाड़ता है। इसलिए, भ्रष्टाचार का डटकर मुकाबला करना सिर्फ एक एजेंसी या संस्था का दायित्व नहीं बल्कि इससे निपटना एक सामूहिक जिम्मेदारी है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अब DBT के माध्यम से गरीबों की मिलने वाला लाभ 100 प्रतिशत गरीबों तक सीधे पहुंच रहा है। अकेले DBT की वजह से 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा गलत हाथों में जाने से बच रहे हैं। आज ये गर्व के साथ कहा जा सकता है कि घोटालों वाले उस दौर को देश पीछे छोड़ चुका है।

पीएम मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार की खबर तो मीडिया के माध्यम से पहुंचती है, लेकिन जब भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होती है, तो हमें ऐसे उदाहरणों को भी प्रमुखता से रखना चाहिए। इससे समाज का व्यवस्था में विश्वास बढ़ता है और भ्रष्टाचारियों में एक संदेश भी जाता है कि बचना मुश्किल है। श्री मोदी ने सभी देशवासियों से अपील की कि ‘भारत बनाम भ्रष्टाचार’ की लड़ाई में वो हमेशा की तरह भारत को मजबूत करते रहें और भ्रष्टाचार को परास्त करते रहें।

Leave a Reply