Home कोरोना वायरस कांग्रेस का नया प्रोपेगंडा, कहा कोवैक्सीन में बछड़े के सीरम का इस्तेमाल...

कांग्रेस का नया प्रोपेगंडा, कहा कोवैक्सीन में बछड़े के सीरम का इस्तेमाल हुआ, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दावे को बताया झूठा

489
SHARE

कांग्रेस पार्टी ने शुरुआत से ही कोरोना वैक्सीनेशन के रास्ते में रोड़े अटकाए हैं। शुरू से ही कांग्रेस के नेता भारत में बनी वैक्सीन पर सवाल उठाते रहे हैं। अब ताज विवादित बयान कांग्रेस पार्टी के नेता गौरव पांधी ने दिया है। कांग्रेस के नेशनल कम्युनिकेशन कॉर्डिनेटर गौरव पांधी ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को लेकर भ्रम फैलाने की कोशिश की है। पांधी ने एक RTI में मिले जवाब के हवाले से कहा है कि कोवैक्सीन को बनाने में गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी उम्र 20 दिन से भी कम होती है। कांग्रेस पार्टी ने इस विवाद के जरिए 21 जून से शुरू होने वाले राष्ट्रव्यापी वैक्सीनेशन अभियान को पटरी से उतारने की कोशिश की है।

गौरव पांधी ने आरटीआई के जवाब का स्क्रीनशॉट भी ट्विटर पर शेयर किया है। उन्होंने एक वीडियो मैसेज के जरिए केंद्र की बीजेपी सरकार पर लोगों की भावनाओं को आहत करने के आरोप लगाए हैं। पांधी ने कहा कि सरकार ने मान लिया है कि भारत बायोटेक की वैक्सीन में गाय के बछड़े का सीरम शामिल है। यह बहुत बुरा है। इस जानकारी पहले ही लोगों को दी जानी चाहिए थी।

कोवैक्सीन बनाने में गाय के बछड़े का सीरम इस्तेमाल करने के कॉन्ग्रेस के नेशनल कॉर्डिनेटर गौरव पांधी के दावे को स्वास्थ्य मंत्रालय में गलत बताया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा, “कोवैक्सीन बनाने के संबंध में कुछ सोशल मीडिया पोस्ट द्वारा बताया गया है कि इसमें नवजात बछड़े का सीरम होता है। इन पोस्ट में तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है।” स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अंतिम रूप से तैयार कोरोना के टीके में गाय का सीरम नहीं होता है और टीका निर्माण की अंतिम प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाले सामग्री में भी इसका प्रयोग नहीं होता है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि नवजात बछड़े के सीरम का इस्तेमाल केवल वायरो सेल्स के विकास एवं उसकी तैयारी में किया जाता है।वायरो सेल्स के विकास में दुनिया भर में अलग-अलग जानवरों के सीरम का इस्तेमाल किया जाता है। यह एक मानक रूप है। कोशिकाओं का जीवन बढ़ाने के लिए वायरो सेल्स का इस्तेमाल किया जाता है और वैक्सीन के उत्पादन में मदद मिलती है। इस पद्धति का इस्तेमाल पोलियो, रैबीज एवं इन्फ्लुएंजा के टीकों के निर्माण में होता आया है। कांग्रेस नेता गौरव पांधी के इस बयानबाजी के खिलाफ देश के लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है और लोगों ने भ्रम फैलाने के लिए गौरव पांधी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

Leave a Reply