Home समाचार रोहित सरदाना के निधन पर जिहादी मना रहे जश्न, कहा- वाह !...

रोहित सरदाना के निधन पर जिहादी मना रहे जश्न, कहा- वाह ! ये एक बहुत ही अच्छी खबर है

1162
SHARE

वरिष्ठ पत्रकार और ‘आज तक’ के एंकर रोहित सरदाना के निधन से पूरा पत्रकार जगत शोक में डूबा हुआ है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से लेकर तमाम दिग्गज हस्ती उनके निधन पर संवेदना प्रकट कर रहे हैं। लेकिन देश में मौजूद जिहादियों का एक समूह जश्न मना रहा है और सोशल मीडिया में उनके खिलाफ अमर्यादित, अमानवीय और अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल कर रहा है। 

रोहित सरदाना के निधन की खबर जैसे ही सोशल मीडिया पर आई जिहादियों का एक ग्रुप सक्रिय हो गया और जहर उगलने लगा। ‘इंडिया टुडे’ के पत्रकार राजदीप सरदेसाई के ट्वीट को कोट करते हुए खुद को मुस्लिम और एक्टिविस्ट बताने वाले शरजील उस्मानी ने लिखा, “मनोरोगी। मनोविकारी झूठा। नरसंहार को बढ़ावा देने वाला। उसे कभी भी एक पत्रकार के रूप में याद नहीं रखा जा सकता।” 

इरफ़ान बसीर वानी ने फेसबुक पर लिखा, “वो मुस्लिमों के प्रति घृणा फैला रहे थे। पिछले साल वो तबलीगी जमातियों के खिलाफ भौंक रहे थे। बंगाल की रैली और कुंभ ज़रूरी नहीं थी, जो कोरोना फैला रहे थे। इसीलिए, अल्लाह ने योजना बनाई और उन्हें नरक के लिए चुना।”

जिहादियों के नफरत फैलाने का सिलसिला जारी रहा। वसीम नाम के एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “एक घृणा फैलाने वाले का चैप्टर क्लोज हो गया।” अक्स नामक के हैंडल ने लिखा, “मुस्लिमों को पाकिस्तान भेजते-भेजते खुद जहन्नुम चले गए। वो ज़रूर नरक में खास जगह पर मजे कर रहे होंगे।” तारिक इदरसी ने लिखा, “मुझ पर यकीन कीजिए मैं ये सुन कर जरा भी दुःखी नहीं हूं। कोई सहानुभूति नहीं।” इरम खान ने लिखा, “इसमें दिल टूटने की क्या बात है? वो सांप्रदायिक घृणा फैलाते हुए दिल तोड़ रहे थे।”

गौरतलब है कि कि रोहित सरदाना कोरोना से संक्रमित होने के बाद मेट्रो अस्पताल नोएडा में भर्ती थे। डाक्टरों की देखरेख में उनका इलाज चल रहा था। अचानक इसी दौरान इन्हें हार्ट अटैक आ गया, जिसके बाद उनकी मौत हो गई। रोहित के निधन की सूचना मिलते ही आजतक चैनल में मातम फैल गया है। किसी को उनकी मौत को लेकर यकीन ही नहीं हो रहा है। लंबे समय से टीवी पत्रकारिता का चर्चित चेहरा रहे रोहित सरदाना वर्तमान में आजतक न्यूज चैनल पर दंगल शो में एकरिंग करते थे। 2018 में ही रोहित सरदाना को गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

Leave a Reply