Home समाचार राहुल गांधी की विभाजनकारी राजनीति पर बढ़ा विवाद, विदेश मंत्री जयशंकर ने...

राहुल गांधी की विभाजनकारी राजनीति पर बढ़ा विवाद, विदेश मंत्री जयशंकर ने ली जमकर क्लास

510
SHARE

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की नजर में उत्तर भारतीय कम समझदार लगते हैं। मंगलवार को त्रिवेंद्रम में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने  दक्षिण और उत्तर भारत में अंतर को लेकर जो बात कही, उससे सियासी बवाल खड़ा हो गया है। विदेश मंत्री एस जयशंकर सहित बीजेपी के तमाम नेताओं ने उनकी जमकर क्लास लगाते हुए विभाजनकारी मानसिकता वाला व्यक्ति करार दिया।

दरअसल केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीतला के नेतृत्व में आयोजित ‘ऐश्वर्य यात्रा’ के समापन पर राहुल गांधी मंगलवार को केरल में थे और एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘पहले 15 साल तक मैं उत्तर में एक सांसद था। मुझे एक अलग तरह की राजनीति की आदत हो गई थी। मेरे लिए केरल आना बहुत नया था क्योंकि मुझे अचानक लगा कि यहां के लोग मुद्दों पर दिलचस्पी रखते हैं और न केवल सतही रूप से बल्कि मुद्दों को विस्तार से जानने वाले हैं।’

राहुल के इस बयान पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने तीखा हमला करते हुए नॉर्थ और साउथ का भूगोल समझा डाला। उन्होंने राहुल गांधी का नाम लिए बिना ट्वीट किया, “मैं दक्षिण से ताल्लुक रखता हूं। मैं पश्चिमी राज्य से एक सांसद हूं। मैं नॉर्थ में पैदा हुआ, पला बढ़ा, वहीं पर शिक्षा हासिल की और वहीं पर काम भी किया। मैंने विश्व के समक्ष पूरे भारत का प्रतिनिधित्व किया। भारत एक है, इसको रीजन में कहकर डाउन मत करिए, इसे कभी मत बांटिए।”

उधर केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राहुल पर निशाना साधते हुए लिखा, “वो आदमी जो अपनी लोकसभा सीट बचाने के लिए केरल भाग गया, वो उत्तर भारतीयों की बुद्धि पर सवाल उठा रहा है, साथ ही उन लोगों पर भी जिन्होंने पीढ़ियों तक उसके परिवार को वोट दिया। तथ्य ये है कि काम न करने और विकास के अभाव में उसे भागने के लिए मजबूर होना पड़ा।”

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि अपनी असफलता स्वीकार करने के लिए बजाय वह मतदाताओं की बुद्धिमानी पर सवाल उठाने की कोशिश कर रहा है! ये अहंकार और स्वार्थ का गठजोड़ ही जिम्मेदार है, जिसकी वजह से कांग्रेस की दुर्गति हुई है।

इन नेताओं के अलावा अमेठी से राहुल गांधी को 2019 के लोकसभा चुनाव में धूल चटाने वाली केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, “एहसान फरामोश! इनके बारे में तो दुनिया कहती है- थोथा चना बाजे घना।” 

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने मंगलवार को राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह “ट्रैक्टर पर अभिनेता” बनने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने चुनावी राज्य के दो विरोधी मोर्चों सत्ताधारी माकपा के नेतृत्व वाले एलडीएफ और विपक्षी कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ पर निशाना साधते हुए कहा कि वे केरल में “कुश्ती लड़” रहे हैं, लेकिन “दिल्ली में दोस्ती” है। उन्होंने इसे “पाखंड” करार दिया। बीजेपी के केरल विधानसभा चुनाव के प्रभारी जोशी ने कहा, “राहुल गांधी ट्रैक्टर पर एक अभिनेता बनने की कोशिश कर रहे हैं।”

केंद्रीय मंत्रियों के अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा, “कुछ दिन पहले ये उत्तर पूर्व में थे और पश्चिमी भारत के बारे में जहर उगल रहे थे। आज दक्षिण में उत्तर के खिलाफ जहर बो रहे हैं। बांटों और राज करो की नीति नहीं चलेगी राहुल गांधी जी! जनता ने इस राजनीति को खारिज किया है। देखिए गुजरात में क्या हुआ है।”

इसके बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी राहुल गांधी के इस बयान पर हमला बोला। उन्होंने कहा, ‘श्रीमान राहुल जी, श्रद्धेय अटल जी ने कहा था कि ‘भारत जमीन का टुकड़ा नहीं, जीता जागता राष्ट्रपुरुष है।’ कृपया आप इसे अपनी ओछी राजनीति की पूर्ति के लिए ‘क्षेत्रवाद’ की तलवार से काटने का कुत्सित प्रयास न करें। भारत एक था, एक है, एक ही रहेगा। भारत माता की जय।’

गौरतलब है कि 2019 में राहुल गांधी केरल के वायनाड से सांसद चुने गए थे। राहुल गांधी ने दो जगह से चुनाव लड़ा था मगर अमेठी जो उनकी पुश्तैनी सीट है वहां से स्मृति ईरानी ने उनको हरा दिया था। राहुल गांधी अमेठी लोकसभा क्षेत्र का 2004 से प्रतिनिधित्व कर रहे थे।  

Leave a Reply