Home समाचार कश्मीरी पत्थरबाजों के बाद अब डॉक्टरों पर पत्थर फेंकने वालों के समर्थन...

कश्मीरी पत्थरबाजों के बाद अब डॉक्टरों पर पत्थर फेंकने वालों के समर्थन में उतरीं अरुंधति!

6289
SHARE

भारत में कोरोना को फैलाने में तबलीगी जमात के लोगों की भूमिका स्पष्ट तौर पर सामने आई है। देश भर में कोरोना मरीजों की कुल संख्या के 30 प्रतिशत का जुड़ाव तबलीगी जमात से है। उत्तर प्रदेश और दिल्ली में तो यह आंकड़ा 60 प्रतिशत तक पहुंच चुका है। लेकिन, संकट के इस दौर में लोगों की मदद करने की बजाय अरुंधति रॉय जैसी कथित बुद्धिजीवी अपने जहरीले बयानों से एक खास वर्ग को उकसाने के काम में जुटी हैं। और भी दुखदायी यह है कि अरुंधती जैसे लोग यह काम अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कर रहे हैं। ये वही लोग हैं जो कोरोना का इलाज कर रहे डॉक्टरों पर होने वाले हमलों पर चुप्पी साधे रखते हैं। जर्मन न्यूज एजेंसी नेटवर्क डॉचे वेले को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा है कि कोरोना संकट से निपटने की सरकार की रणनीति भारत में मुस्लिमों के खिलाफ नरसंहार के हालात पैदा कर रही है। अरुंधती के इस बयान को पाकिस्तान के पीटीवी ने प्रमुखता से दिखाया और इसे भारत के खिलाफ इस्तेमाल करने में जुटा है। यह पहला मौका नहीं है जब अरुंधती ने देश के खिलाफ विषवमन किया हो। कश्मीरी पत्थरबाजों से लेकर अफजल गुरु और एनपीआर तक पर अरुंधती का रुख देश के खिलाफ रहा है।

देश को धता बताते अरुंधती के बोल

  • NPR पर जानकारी मांगी जाए तो अपना नाम रंगा-बिल्ला बताइए
  • कश्मीर समस्या का एकमात्र हल कश्मीर की आजादी है
  • 70 लाख भारतीय सैनिक मिलकर ‘आजादी गैंग’ को हरा नहीं पाते
  • अफजल गुरु के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं थे
  • 1998 में अटल सरकार का परमाणु परीक्षण करना गलत था

4 COMMENTS

  1. इस चुड़ेल को गालियों से तो असर होता नहीं पत्थर मारे जायें तो शायद अकल आ जाये

  2. इस हरामजादी को पाकिस्तान क्यों नही भेज देते।

  3. उम्र के साथ मैच्युरिटी की कमी यह दर्शाता है कि इस बुढ़िया को प्रोटीन की जरूरत है।

Leave a Reply