Home समाचार TV पर पढ़ाई को लेकर ‘ऑल्ट न्यूज़’ के जुबैर ने किया गुमराह,...

TV पर पढ़ाई को लेकर ‘ऑल्ट न्यूज़’ के जुबैर ने किया गुमराह, लोगों ने खोली फैक्ट चेकर की झूठ की पोल

464
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बदनाम करने के लिए एजेंडा पत्रकार किसी भी स्तर तक गिरने को तैयार है। झूठी खबरों और मनगढ़ंत आरोपों के जरिए लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। इसी तरह ‘ऑल्ट न्यूज़’ का फैक्ट चेकर मुहम्मद जुबैर ने रविवार को प्रसारित रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में कमी निकाल कर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा। उसने TV पर पढ़ाई को लेकर मोदी सरकार की कोशिशों और दूरदर्शन के कार्यक्रमों की जानकारी लिए बिना ही लोगों को गुमराह करने के लिए जबरदस्ती प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना की।

दरअसल, जुबैर ने बीबीसी की एक खबर शेयर की, जिसमें बताया गया है कि मेक्सिको ने टीवी के जरिए ही बच्चों को पढ़ाने का निर्णय लिया है। इस खबर में बताया गया है कि इस कदम से बच्चे बिना इंटरनेट के ही सीधे टीवी पर अपनी पढ़ाई से संबंधित लेक्चर देख सकेंगे। साथ ही तस्वीरों के जरिए बताया गया है कि कैसे मेक्सिको में टीवी के जरिए छात्रों ने पढ़ाई शुरू कर दी है। 

इसके लिए जुबैर ने प्रधानमंत्री मोदी की ‘मन की बात’ वाला स्क्रीनशॉट भी शेयर किया, जिसे दूरदर्शन ने ट्वीट किया था। साथ ही उसने लिखा- ‘प्राथमिकताएं’। इसके जरिए जुबैर ये कहना चाह रहा था कि भारत में दूरदर्शन प्रधानमंत्री मोदी का भाषण दिखाता है जबकि मेक्सिको में टीवी से पढ़ाई हो रही है। इस दौरान उसने ‘कूल’ बनने के लिए ट्वीट तो कर दिया लेकिन उसे ये नहीं पता था कि भारत में ये अप्रैल 2020 से ही हो रहा है।

आइए आपको बताते हैं कि इस मामले में मोदी सरकार ने क्या किया है। विभिन्न सरकारी संस्थानों के साथ मिलकर दूरदर्शन और आकाशवाणी (एआईआर) देश भर में स्थित अपने क्षेत्रीय चैनलों के माध्यम से टीवी, रेडियो और यूट्यूब पर वर्चुअल कक्षाओं और अन्य शैक्षणिक सामग्रियों का प्रसारण कर रहे हैं। विद्यालयी कक्षाएं बंद होने की स्थिति में ये वर्चुअल कक्षाएं लाखों विद्यार्थियों विशेषकर 10वीं और 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों को उनकी बोर्ड और प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं की तैयारियों में खासी सहायक साबित हो रही हैं।

दूरदर्शन लगातार बच्चों की पढ़ाई में कई चैनलों के जरिए मदद कर रहा है, जिसमें छोटी कक्षाओं से लेकर स्नातक तक के छात्रों के लिए सामग्रियां प्रसारित की जा रही हैं। जुबैर द्वारा शेयर की गई मेक्सिको वाली खबर 26 अगस्त की है जबकि भारत में अप्रैल में ही ये खबर आ गई थी। यानि, भारत ने 4 महीने पहले ही वो काम कर दिया था।

कुछ राज्यों में माध्यमिक विद्यालय लीविंग सर्टिफिकेट विषय और 10वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए मॉडल प्रश्न पत्र भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इनमें से ज्यादातर कक्षाओं से विद्यार्थियों को अपनी इंजीनियरिंग और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं की तैयारियों में भी सहायता मिल रही है। पाठ्यक्रम से जुड़ी सामग्री से इतर पढ़ाई को दिलचस्प बनाने के लिए कुछ राज्यों में वर्चुअल कक्षाओं में प्रतिष्ठित शख्सियतों द्वारा कहानी सुनाए जाने और प्रश्नोत्तरी कार्यक्रमों (क्विज शो) को भी शामिल किया गया है। 

टीवी चैनलों के अलावा, कोविड-19 महामारी के बाद, एनआईओएस द्वारा स्वयं प्रभा डीटीएच चैनल पाणिणी (#27), एनआईओएस चैनल शारदा (#28) एवं एनसीईआरटी के चैनल किशोर मंच (#31), के माध्यम से केवीएस, एनवीएस और सीबीएसई तथा एनसीईआरटी के सहयोग से स्काइप के जरिए लाइव सेशन के प्रसारण की शानदार अनूठी पहल की है। अब विषयों के विशेषज्ञ भी अपने घरों से स्काईप के जरिए स्वयंप्रभा के लाइव प्रसारण के लिए कनेक्ट करने में सक्षम हैं। स्वयंप्रभा जीएसएटी-15 सैटेलाइट का उपयोग करके 24 घंटों के आधार पर उच्च गुणवत्तापूर्ण शैक्षणिक कार्यक्रमों के प्रसारण को समर्पित 32 डीटीएच चैनलों का एक समूह है।

जिनके पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है, उनके लिए भी विशेष व्यवस्था है। लर्नर्स इन डीटीएच चैनलों एवं 7 बजे सुबह से 1 बजे दोपहर तक रिर्काडेड ब्रॉडकास्ट के 6 घंटे एनआईओएस यूट्यूब चैनल पर पाठ आधारित शैक्षणिक कार्यक्रमों को देख सकते हैं, जिसके बाद चार विभिन्न विषय विशेषज्ञों के साथ प्रत्येक के लिए डेढ़ घंटे के लिए 1 बजे दोपहर से 7 बजे शाम तक लाइव सेशन के 6 घंटे देख सकते हैं। लर्नर्स लाइव सेशन के दौरान प्रदर्शित नंबर पर फोन कॉल के जरिए अपने घर से सीधे विषय के एक्सपर्ट से प्रश्न पूछ सकते हैं।

आइए देखते हैं किस तरह लोगों ने सोशल मीडिया में ‘ऑल्ट न्यूज़’ के मुहम्मद जुबैर की इस फैक्ट चेकिंग पर सवाल उठाया और जमकर लताड़ लगायी।  

Leave a Reply