Home समाचार फेक न्यूज पेडलर और ‘द प्रिंट’ के स्तंभकार वेरलेमैन ने फिर फैलाई...

फेक न्यूज पेडलर और ‘द प्रिंट’ के स्तंभकार वेरलेमैन ने फिर फैलाई नफरत, मुस्लिमों को बचाने के लिए भारतीय उत्पादों के बहिष्कार की अपील

217
SHARE

वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता की द प्रिंट न्यूज बेवसाइट हिन्दुओं, मोदी सरकार और भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा करने वालों का प्रमुख प्लेटफॉर्म बन गयी है। इस वेबसाइट के सीजे वेरलेमैन जैसे स्तंभकार फेक न्यूज के जरिए नफरत फैलाने में लगे हैं। खुद को पत्रकार, स्तंभकार और इस्लामोफोबिया के खिलाफ लड़ने वाला प्रमुख योद्धा बताने वाला सीजे वेरलेमैन मुस्लिमों की उत्पीड़न के बारे में झूठी खबरें फैलाने का काम करता है। मंगलवार (23 नवंबर 2021) को भी वेरलेमैन ने भारत खासकर जम्मू-कश्मीर में मुस्लिमों को बचाने के लिए भारतीय उत्पादों की एक लंबी सूची जारी की और अपने फॉलोअर्स से इनके बहिष्कार की अपील की। 

सीजे वेरलेमैन अपने ट्विटर हैंडल से भारत में मुस्लिमों के अवैध कृत्यों पर पर्दा डालते हुए उनके खिलाफ की गई कार्रवाई को आधार बनाकर अफवाह फैलाने की कोशिश करता है। आतंकी और अन्य गतिविधियों में शामिल मुस्लिमों को उत्पीड़न का शिकार बताकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मुहिम चलाता है। वेरलेमैन दावा करता है कि भारत और जम्मू-कश्मीर में रहने वाले मुस्लिमों के उत्पीड़न के खिलाफ बढ़ता अंतरराष्ट्रीय दबाव और बहिष्कार भारत में अब कैंपेन का रूप ले चुका है। वेरलेमैन पश्चिमी लोकतंत्र और मुस्लिम बहुल देशों पर भी उसके प्रोपेगैंडा को बढ़ावा नहीं देने और मुकदर्शक बने रहने का आरोप लगाता है।

वेरलेमैन विदेशी मीडिया में प्रकाशित खबरों को अपने एजेंडे के मुताबिक पेश कर भारत को बदनाम करने की कोशिश करता है। द सियासत डेली के एक लेख का हवाला देते हुए वेरलेमैन ने कहा कि कुवैत ने ‘भारतीय अधिकारियों और हिंदू चरमपंथियों’ द्वारा मुस्लिमों के खिलाफ किए गए कथित अत्याचारों की निंदा की थी। उसने फिर दावा किया कि भारतीय उत्पादों के बहिष्कार का वैश्विक अभियान चल रहा है।

आइए देखते हैं द प्रिंट और इस्लामिक विचारधारा से प्रभावित सीजे वेरलेमैन इससे पहले कब-कब फर्जी खबरें प्रकाशित कर चुका है…

श्री रमा सेने के प्रमुख प्रमोद मुतालिक पर झूठा आरोप

वेरलेमैन ने 21 अक्टूबर, 2021 को श्री रमा सेने के प्रमुख प्रमोद मुतालिक का एक वीडियो ट्वीट किया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उन्होंने मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा और कर्नाटक में एक मस्जिद को गिराने की अपील की थी। वेरलेमैन लिखा था, “हिंदुत्व समूह श्री राम सेना के नेता ने मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा और कर्नाटक में जामा मस्जिद को गिराने का आह्वान किया।” दरअसल मुतालिक ने ऐसा कोई भी दावा नहीं किया था।

मुस्लिमों का कब्रिस्तान तबाह करने का लगाया झूठा आरोप

सीजे वेरलेमैन ने 1 सितंबर, 2021 को ट्विटर पर बिना तारीख वाली वीडियो साझा की। साथ ही दावा किया कि हिंदुओं के एक समूह ने हिमाचल के नाथन में मुस्लिमों के कब्रिस्तान को बर्बाद कर दिया। उसने लिखा, “कट्टरपंथी हिंदुओं ने भारत के नाथन में एक मुस्लिम कब्रिस्तान को तबाह कर दिया।” जब इस वायरल हो रहे वीडियो और सीजे वेरलेमन के दावे की सच्चाई पता की गई, तो वो झूठा निकला। दरअसल वीडियो में दिखाई दे रहा स्थान कब्रिस्तान ना होकर मजार था, जिसे जीमन पर अवैध कब्जा कर बनाया गया था। हिमाचल प्रदेश में हिंदू जागरण मंच के महासचिव कमल गौतम ने भी इसी वीडियो को ट्विटर पर शेयर किया था। 

Leave a Reply