Home समाचार ‘इंदु सरकार’ का सच सामने क्यों नहीं आने देना चाहती कांग्रेस?

‘इंदु सरकार’ का सच सामने क्यों नहीं आने देना चाहती कांग्रेस?

425
SHARE

इमरजेंसी(1975) की पृष्ठभूमि पर आधारित फिल्म इंदु सरकार पर कांग्रेस ने अघोषित आपातकाल लगा दिया है। कांग्रेस के गुंडों ने रविवार को मधुर भंडाकर की नागपुर में होने वाली प्रेस कांफ्रेंस नहीं होने दी। लेकिन अभिव्यक्ति की आजादी के तथाकथित पैरोकार आज चुप हैं। उनकी तरफ से कहीं से कोई आवाज मधुर भंडारकर के लिए नहीं उठ रही है। न तो कोई पुरस्कार वापसी हो रही और न ही असहिष्णुता का राग अलापा जा रहा है। बहरहाल पुणे के बाद जब नागपुर में मधुर भंडारकर को अपनी प्रेस कांफ्रेंस रद्द करनी पड़ी तो उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी के खिलाफ खुद अपनी आवाज उठाई और राहुल गांधी तक पहुंचाने की कोशिश की।

ट्रेलर से ही इतना क्यों डर गए कांग्रेसी?
दरअसल फिल्म के ट्रेलर लांच होने के बाद से ही फिल्म को देशभर में काफी विरोध झेलना पड़ रहा है। ये विरोध इतना ज्यादा है कि लीगल नोटिस से लेकर, पुतला फूंकने तक मधुर भंडारकर को काफी विरोध का सामना करना पड़ रहा है। कांग्रेसी तो उन्हें भाजपा और पीएम मोदी का आदमी करार दे रहे हैं। इतना ही नहीं इस फिल्म को भाजपा द्वारा प्रायोजित कह रहे हैं। लेकिन मधुर भंडारकर ने ऐसे आरोप लगाने वालों को साफ कहा है, ”अगर यह प्रायोजित होता तो तीन महीने पहले मैं चुनाव से पहले रिलीज करता, या फिर 2019 के चुनाव से पहले इसे रिलीज करता। कांग्रेस का दावा चिढ़ पैदा करती है।’ उन्होंने कांग्रेस की मांग कि फिल्म रिलीज होने से पहले उन्हें दिखाई जाए, पर करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा, ”सरकार की सेंसर बोर्ड की एक व्यवस्था है तो मैं किसी राजनीतिक दल को इसे क्यों दिखाऊं? मैं किसी अनुचित मांग के दबाव में नहीं आने वाला हूं।”

अभिव्यक्ति के पैरोकारों का ये कैसा ‘आपातकाल’?
बहरहाल, कांग्रेस की गुंडागर्दी और अभिव्यक्ति की आजादी की पैरोकार जमात की चुप्पी बता रही है कि इस देश में कैसे विरोधाभास हैं? मोदी विरोध की थोड़ी सी भी गुंजाइश देखकर हमलावर होने वाला तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग आज चुप है। उन्हें यहां Freedom of expression की चिंता नहीं सता रही है। यहां उन्हें कांग्रेस का कुत्सित प्रयास नहीं दिख रहा है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी नहीं दिख रही है। हालांकि समाज के कई वर्गों के लोग मधुर भंडारकर के साथ खड़े हैं। आइये हम आपको दिखाते हैं कुछ प्रतिक्रियाएं।

ट्विटर पर लोगों की आक्रामक प्रतिक्रियाएं सामने आने लगी है। लोग कांग्रेस को एक बार फिर निशाने पर ले रहे हैं। रविवार को #CongressDisruptsInduSarkar ट्विटर पर टॉप ट्रेंड करता रहा है।

LEAVE A REPLY