Home उपलब्धियां 2017 उपलब्धियां 2017: सरकारी योजनाओं पर जागरूकता के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय...

उपलब्धियां 2017: सरकारी योजनाओं पर जागरूकता के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने की कई पहल

841
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ना सिर्फ सुधारवादी और परिवर्तनकारी योजनाएं निरंतर सामने आ रही हैं बल्कि सरकार की प्राथमिकता उन्हें जमीन पर लागू करने की भी रही है। तमाम योजनाओं पर अपडेट जहां विभिन्न मंत्रालयों की वेबसाइटों पर उपलब्ध है वहीं सूचना और प्रसारण मंत्रालय की ओर से भी इसके लिए अलग-अलग कदम उठाये गए हैं। लोगों को सूचना देने, शिक्षित करने और मनोरंजन का दायित्व संभालने वाले सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने अपने उद्देश्यों को हासिल करने के लिए वर्ष 2017 के दौरान कई प्रकार की पहल की है। आइए देखते हैं ऐसी 10 बड़ी पहल:

1. सरकार की योजनाओं पर लघु फिल्मों का प्रसारण         

सरकार की विभिन्न प्रमुख योजनाओं की सफलता की कहानियों पर दूरदर्शन द्वारा 14 लघु फिल्मों का निर्माण किया गया। ये वैसी योजनाएं हैं जिनका लोगों के जीवन पर सकारात्मक असर पड़ा और जिनसे देश में व्यापक बदलाव सुनिश्चित हुआ।

2. योजनाओं पर मल्टीमीडिया अभियान से जागरूकता

सरकार द्वारा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस, स्वच्छ भारत, मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया, राष्ट्रीय एकता दिवस जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर 360 डिग्री मल्टीमीडिया अभियानों की शुरुआत की गई। इसमें मल्टीमीडिया प्रदर्शनियां, इन्फोग्राफिक्स, एनिमेशन, ग्राफिक प्लेट्स, लघु वीडियो के इस्तेमाल से सोशल मीडिया अभियान, कार्यक्रमों व सम्मेलनों का सीधा प्रसारण शामिल है।

3. सरकार की योजनाओं से जुड़ी प्रदर्शनियों का आयोजन

‘साथ है विश्वास है, हो रहा विकास है’ प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। विविध क्षेत्रों में सरकार की बीते 3 वर्ष की उपलब्धियों के प्रदर्शन के लिए विभिन्न राज्यों की राजधानियों में 5-7 दिन की प्रदर्शनियां लगाई गईं।

4. झारखंड के लिए अलग डीडी चैनल

झारखंड के लिए एक अलग 24×7 डीडी चैनल की घोषणा की गई। इस 24×7 चैनल के शुभारंभ तक डीडी बिहार पर डीडी रांची के कार्यक्रमों का प्रसारण होगा। इसके साथ ही डीडी न्यूज की नई वेबसाइट की शुरुआत की गई।

5. सीमा पार प्रसारण के लिए दो नए डिजिटल ट्रांसमीटर आकाशवाणी की ओर से अफगानिस्तान-पाकिस्तान क्षेत्र के लिए सीमा पार कंटेंट के प्रसारण हेतु 100–100 किलोवाट के दो नए शॉर्टवेव सॉलिड स्टेट डिजिटल ट्रांसमीटर लगाए जाने की घोषणा की गई। ये ट्रांसमीटर दिल्ली में लगाये जाएंगे।

6. युवा पीढ़ी के लिए प्रेरक पुस्तकों का प्रकाशन

युवा पीढ़ी को भारत की संपन्न और विविधतापूर्ण संस्कृति एवं इतिहास से अवगत कराने के लिए मंत्रालय ने विशेष पहल की है। किताबों के प्रकाशन के लिए प्रकाशन विभाग और सस्ता साहित्य मंडल के बीच समझौता (MoU) हुआ। इससे विभिन्न विषयों पर लोगों के बीच अच्छे साहित्य की उपलब्धता बढ़ेगी।

7. महात्मा गांधी के संकलित कार्यों का विमोचन

महात्मा गांधी के संकलित कार्यों के 100 संस्करणों का विमोचन किया गया। महात्मा गांधी के संकलित कार्य (CWMG) गांधी के विचारों के धरोहर दस्तावेज हैं। इन्हें लिखने की शुरुआत उन्होंने वर्ष 1884 में की थी जब उनकी उम्र महज 15 साल थी। इनका लेखन महात्मा गांधी ने 30 जनवरी, 1948 तक किया था जिस दिन उनकी हत्या कर दी गई थी।

8. फिल्म शिक्षा के लिए शॉर्ट टर्म कोर्स

भारतीय फिल्म एवं टेलीविज़न संस्थान (FTII) , पुणे और कैनन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के बीच एक समझौता हुआ। यह समझौता देश भर के विभिन्न कस्बों और शहरों में लघु अवधि के पाठ्यक्रमों के माध्यम से फिल्म शिक्षा को बढ़ावा देगा।

9. पूर्वोत्तर फिल्म महोत्सव का आयोजन

भारतीय राष्ट्रीय फिल्म संग्रहालय, पुणे में पूर्वोत्तर फिल्म महोत्सव का आयोजन  किया गया। गोवा में हुए IFFI में भाग लेने के लिए पहली बार पूर्वोत्तर के 10 फिल्म निर्माताओं को प्रायोजित किया गया।

10. विदेशी निर्माताओं के लिए वीजा की नई कैटेगरी

विदेशी फिल्म निर्माताओं के लिए वीजा की नई श्रेणी बनाई गई, जिससे देश में आने के लिए उन्हें आसानी से वीजा जारी हो सकें। फिल्म वीजा और फिल्म फैसिलिटेशन ऑफिस (FFO) दोनों का उद्देश्य भारत को दुनिया के प्रमुख फिल्म निर्माण स्थल के रूप में बढ़ावा देना है।

LEAVE A REPLY