Home नरेंद्र मोदी विशेष पीएम मोदी से लोकप्रिय कोई नहीं- ऑस्ट्रेलियाई अखबार

पीएम मोदी से लोकप्रिय कोई नहीं- ऑस्ट्रेलियाई अखबार

302
SHARE

पिछले तीन साल से कुछ अधिक के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश और दुनिया के सामने जो छाप छोड़ी है वो अब अमिट हो चुकी है। उनका करिश्माई नेतृत्व और देश के लिये काम करने की उनकी निष्ठा कई बार उनके विरोधियों की भी जुबान बंद कर देती है। यही वजह है कि अब पीएम मोदी की लोकप्रियता और उनके प्रति दीवानगी देश में ही नहीं विश्व भर के लोगों में भी महसूस की जाने लगी है। ताजा उदाहरण ऑस्ट्रेलिया के अखबार The Sydney Morning Herald में छपा एक लेख है, जिसमें उनकी सफलता और देश की राजनीति पर उनकी पकड़ की गौरवगाथा लिख दी गई है।

The Sydney Morning Herald में क्या लिखा है ?
लेख के अनुसार वर्तमान समय में पीएम मोदी के कट्टर विरोधी भी ये नहीं कह सकते की उनकी राजनीति को किसी से खतरा है। विरोधी दल का कोई नेता उनके व्यक्तित्व के आसपास भी नहीं टिक सकता। विश्लेषक भी मानते हैं कि अगला आम चुनाव उनकी मुट्ठी में है। लेखक ने कई उदाहरण पेश कर ये बताया है कि उसके विश्लेषणों में क्यों दम है ?

नीतीश पर भी चल गया पीएम मोदी का जादू
ऑस्ट्रेलियाई अखबार के विश्लेषण के मुताबिक बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब तक विपक्षी खेमे में थे, तब तक उसमें सजीवता के लक्षण नजर आते थे। नीतीश में ही वो दम लगता था जो 2019 में विपक्षी दलों की अगुवाई कर पीएम मोदी के सामने खड़े होने की कोशिश कर सकते थे। लेकिन उसी नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री मोदी की पार्टी बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली है। यानि विपक्ष का जो सबसे सशक्त चेहरा था, अब वही कहने लगा है कि 2019 में पीएम मोदी का मुकाबला कोई कर ही नहीं सकता। जाहिर है कि नीतीश के पाला बदलते ही, पीएम मोदी की तय मानी जा रही अगली जीत की बात और अधिक जोर से की जाने लगी है।

अखबार में उमर अब्दुल्ला के बयान का भी हवाला
अखबार ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के उस बयान का भी हवाला दिया है, जिसमें उन्होंने विपक्ष को 2019 नहीं 2024 की तैयारी करने की सलाह दी थी। यूपी के चुनाव परिणाम देखकर उन्होंने कहा था कि विपक्ष अभी पीएम मोदी को टक्कर देने की स्थिति में नहीं है। यही नहीं उमर अब्दुल्ला ने बौखलाहट में लगभग यही बात फिर दोहराते हुए विपक्षी एकता के मंसूबों को कोरी कल्पना करार दे दिया है।

आलोचक भी पीएम मोदी को Unstoppable मानते हैं
ऑस्ट्रेलियाई अखबार ने लिखा है कि भारत के 29 राज्यों में से 18 में आज बीजेपी की सरकारें हैं। बीजेपी पैन-इंडिया पार्टी बन चुकी है। कांग्रेस की लाज सिर्फ 6 राज्यों में ही बची हुई है और बाकी में क्षेत्रीय दलों की सरकार है। यही वो कारण है कि पीएम मोदी के घोर आलोचक भी मानते हैं कि उन्हें रोक पाना अब असंभव लगता है। उन्हें झुका सके विपक्ष के पास ऐसा कोई मुद्दा ही नहीं बचा है। उसपर से कांग्रेस के युवराज (राहुल गांधी) की गति बरकरार है। 11 साल की सक्रिय राजनीति के बाद भी वो जहां से शुरू हुए थे वहां से भी नीचे आ चुके हैं। यूपी की 403 सीटों में 7 सीटें जीतने के बाद भी वो कांग्रेस उपाध्यक्ष पद पर बने हुए हैं। क्योंकि उन्हें नेहरू-गांधी परिवार के सियासी वंश को आगे बढ़ाने की जन्मजात जिम्मेदारी मिली हुई है।

आम जनता को पीएम मोदी पर भरोसा
अखबार लिखता है कि भारत की आम जनता में प्रधानमंत्री के प्रति विश्वास बरकरार है। वो मानती है कि पीएम मोदी देश के लिये कुछ करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्हें भरोसा है कि पीएम मोदी की ऊर्जा से देश को नई तरक्की मिलेगी, देश का कल्याण होगा, उसका भाग्य अच्छा होगा। वो देश के लिये अच्छा से अच्छा करने की कोशिशों में लगे हुए हैं। यही वो भरोसा है जो तीन साल बाद भी प्रधानमंत्री की छवि को और भी चमका रहा है, उनकी लोकप्रियता नित्य नई ऊंचाइयों को छूते जा रही है।

OECD की रिपोर्ट का भी जिक्र
ऑस्ट्रेलियाई अखबार के लेख में The Organisation for Economic Co-operation and Development की रिपोर्ट का भी जिक्र है। सरकारों पर भरोसे के मामले पर जुलाई में आई OECD की एक रिपोर्ट बताती है कि 73 प्रतिशत भारतीयों को पीएम मोदी के नेतृत्व में भरोसा है। ये भरोसा तब भी बना हुआ है जब आलोचक बीफ पर मुस्लिमों की lynchings, cow vigilantism, नाकाफी रोजगार सृजन और कश्मीर की अशांति जैसे मुद्दों के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराने के लिये तरह-तरह की कोशिशें करते आ रहे हैं।

LEAVE A REPLY