Home समाचार बेनकाब हुए विपक्षी नेता, दफ्तर में चल रहा था ब्लैकमनी को सफेद...

बेनकाब हुए विपक्षी नेता, दफ्तर में चल रहा था ब्लैकमनी को सफेद करने का खेल

1025
SHARE

नोटबंदी का विरोध करने वाले कांग्रेस और दूसरे दल के नेता अपने ही जाल में फंस गए हैं। आम आदमी के नाम पर नोटबंदी के खिलाफ अभियान चलाने वाले ये नेता अब पूरी तरह से बेनकाब हो चुके हैं।

कैश माफिया बने इन नेताओं के नकाब को एक निजी न्यूज चैनल ने उतार कर रख दिया है। आजतक/ इंडियाटुडे के स्टिंग ऑपरेशन में साफ दिखाया गया है कि कैसे कुछ राजनीतिक दलों के नेताओं ने अपने पार्टी दफ्तरों को काला धन छुपाने के लिए अंडरग्राउंड बैंक में तब्दील कर दिया.

नोटबंदी के ऐलान के बाद शुरू हुए इस गोरखधंधे के खुलासे के बाद साफ हो गया है कि किस तरह से कांग्रेस दूसरी पार्टियों के साथ मिलकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अभियान को बर्बाद करने में लगी है।

देश को कतार में खड़ा करने की बात करने वाले नेताओं के दफ्तर में कालेधन को सफेद किया जा रहा है। लोग इन नेताओं पर भला भरोसा कैसे करेंगे।
काली कमाई को सफेद बनाने में देश की कुछ प्रमुख पार्टियों के प्रतिनिधियों को देखना लोगों के लिए हैरान करने वाला है। जो लोग भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ होने का दावा करते थे मोदी सरकार के इस अभियान के बाद उनकी पोल खुल चुकी है। हकीकत अब लोगों के सामने है।

स्टिंग ऑपरेशन में लोगों ने देखा कि किस तरह से कांग्रेस, बीएसपी, एसपी, जेडीयू और एनसीपी के सफेदपोश नेता अघोषित कमाई को कमीशन वसूल कर वैध नोटों में बदलने वाले एजेंट के तौर पर काम करने के लिए तैयार थे।

न्यूज चैनल की विशेष जांच टीम के अंडरकवर रिपोर्टर्स ने बहुजन समाज पार्टी के गाजियाबाद जिला अध्यक्ष वीरेंद्र जाटव से जब 10 करोड़ रुपए की रकम को नए नोटों में बदलवाने के लिए कहा तो वीरेंद्र ने बिना पलक झपकाए मोटी कमीशन की मांग की.

बीएसपी नेता ने साफ कहा कि ये 35-40 फीसदी की कीमत पर बदला जाएगा. 40 फीसदी से कम कुछ भी नहीं. वीरेंद्र ने किसी भी तरह के मोलभाव से इनकार किया. साथ ही कैश में ही नए नोट देने का वादा किया. वीरेंद्र ने कहा कि ये एक हाथ दे, एक हाथ ले वाली बात होगी. पैसा कैश में ही दिया जाएगा. वीरेंद्र ने 10 करोड़ रुपए को गारंटी के साथ बदलने का वादा किया.

समाजवादी पार्टी की नोएडा यूनिट के सदस्य टीटू यादव ने भी इतने ही कमीशन लेने की बात कही.

नई दिल्ली में ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी मुख्यालय में कांग्रेस पार्टी के सदस्य तारिक सिद्दीकी ने एक एनजीओ से मिलवाने की बात कही जिसके जरिए अवैध पैसे को बदलवाया जा सकता है.

सिद्दीकी ने भी रकम को ब्लैक मार्केट के जरिए बदलवाने का वादा किया।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी दिल्ली ब्रांच के महासचिव रवि कुमार भी 30 फीसदी की कमीशन पर एक करोड़ रुपए को बदलने के लिए तैयार दिखे. उन्होंने तत्काल रकम बदलने का भरोसा देते हुए रकम का 70 फीसदी हिस्से का जिम्मेदार होने की बात कही. रकम का चेक में भुगतान होगा.

जब रवि कुमार से पूछा गया कि चेक से मिली रकम को खातों में कैसे दिखाया जाएगा तो रवि कुमार ने फर्जी जनसंपर्क कंपनी बनाने की बात कहते हुए कहा कि उसकी पार्टी की ओर से इस फर्जी कंपनी को हायर किया जाएगा।

रवि कुमार के मुताबिक एक करोड़ के बदले 70 लाख रुपए की रकम को बाद में फर्जी कंपनी के खाते में भेज दिया जाएगा। ये रकम निगम चुनाव में जनसंपर्क मुहिम को चलाने की फीस के तौर पर दिखाई जाएगी।

जनता दल यूनाईटेड के दिल्ली दफ्तर में स्थानीय उपाध्यक्ष सतीश सैनी भी 10 करोड़ रुपए बदलने के लिए तैयार दिखे। सैनी ने अपनी कमीशन 30 फीसदी बताई.

संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा है कि कांग्रेस और विपक्ष की पोल खुल गई है। कांग्रेस, एसपी, बीएसपी के दफ्तर में जो यह हो रहा है उसकी निंदा की जानी चाहिए। इस पर चर्चा होनी चाहिए। इसकी जड़ तक जांच होनी चाहिए।

पत्रकार राहुल कंवल ने ट्वीट किया कि आज संसद में नेता बने कैश माफिया के स्टिंग को बीजेपी संसद में उठा सकती है।

अभिनेता और बीजेपी सांसद परेल रावल ने ट्वीट किया कि स्टिंग ने राजनीति के गिद्धों का खुलासा किया।

एक ने ट्वीट किया कि तारीक सिद्धिकी जो हमेशा सोनिया और राहुल के साथ रहते हैं, कांग्रेस मुख्यालय में खुलेआम कर रहे नोट बदलने की बात।

आप नेता आशुतोष ने ट्वीट किया ये साफ हो गया है, कि नेता ही पैसा सफेद करने में लगे हैं।

एक ने ट्वीट किया कांग्रेस, एनसीपी, जेडीयू, एसपी और बीएसपी के चेहरे से नकाब हटा। मैं इन्हें कभी वोट नहीं दूंगा।

एक ने कहा कि ये साबित हो गया कि किस तरह से राहुल, माया और मुलायम नोटबंदी का पलीता लगाने में लगे हैं।

एक ने ट्वीट किया लोग अपने पैसे निकालने के लिए लोग कतार में खड़े है और ये नेता पैसा सफेद करने में लगे है।

पुराने नोटों को बदलने के विपक्षी दलों के नेताओं के खेल पर स्टिंग ऑपरेशन ने इनके दोहरे चरित्र को आम लोगों सामने ला दिया है कि कालेधन को बचाने के लिए ये कुछ भी कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY