Home समाचार म्यांमार में शांति के लिए हर संभव मदद करेगा भारत: पीएम मोदी

म्यांमार में शांति के लिए हर संभव मदद करेगा भारत: पीएम मोदी

315
SHARE

रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर म्यांमार में चल रहे संकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने म्यांमार को हर संभव मदद देने का भरोसा दिलाया है। पीएम मोदी ने कहा, “भारत म्यांमार की चुनौतियों को समझता है और शांति के लिए हर संभव मदद करेगा।“ पीएम मोदी ने स्टेट काउंसलर आंग सान सू की के साथ डेलिगेशन लेवल की वार्ता की। इस वार्ता में दोनों देशों के बीच कई समझौतों पर हस्ताक्षर हुए।

Modi3

पीएम मोदी ने आगे कहा कि जिस प्रकार से यहां पर स्वागत हुआ है ऐसा लग रहा है कि मैं अपने घर में ही हूं। पीएम मोदी ने कहा कि भविष्य में भी हमारे समझौते म्यांमार के हक में ही होंगे। इसके साथ ही पीएम मोदी ने म्यांमार के जो लोग भारत आने के इच्छुक हैं उन्हें ग्रैटिस वीजा देने की भी घोषणा की। भारत ने म्यामांर के 40 लोगों को भी छोड़ने का फैसला किया है जो भारत जेलों में बंद हैं। पीएम मोदी ने द्विपक्षीय संबंधों को और बल देनी की बात भी अपने उद्बोधन के दौरान कही। आज प्रधानमंत्री मोदी म्यांमार में कई ऐतिहासिक स्थलों का दौरा भी करेंगे।

 

म्यांमार में संयुक्त मीडिया वार्ता के दौरान प्रधानमंत्री के वक्तव्य का मूल पाठ (6 सितम्बर, 2017, ने पि टॉ)

2014 में ASEAN Summit के अवसर पर मेरा यहां आना हुआ था, परन्तु स्वर्णिम भूमि म्यांमार की यह मेरी पहलीद्विपक्षीय यात्रा है। लेकिन जिस गर्मजोशी से हमारा स्वागत हुआ है, मुझे ऐसा लग रहा है जैसे मैं अपने ही घर में हूं। इसके लिए मैं म्यांमार सरकार का आभारी हूं।

महामहिम,

Myanmar peace process का आपके द्वारा साहसिक नेतृत्व प्रशंसनीय है। जिन चुनौतियों का आप मुकाबला कररही हैं, हम उन्हें पूरी तरह समझते हैं। Rakhine State में चरमपंथी हिंसा के चलते खासकर security forces और मासूम जीवन की हानि को लेकर आपकीचिंताओं के हम भागीदार हैं। चाहे वह बड़ी शांति प्रक्रिया हो या किसी विशेष मुद्दे को सुलझाने की बात, हम आशा करते हैं कि सभी stakeholdersमिलकर ऐसा हल निकालने की दिशा में काम कर सकते हैं जिससे म्यांमार की एकता और भौगोलिक अखंडता का सम्मान करतेहुए सभी के लिए शांति, न्याय और सम्मान सुनिश्चित होंगे।

मित्रों,

मेरा मानना है कि भारत का लोकतांत्रिक अनुभव म्यांमार के लिए भी प्रासंगिक है। और इसलिए, म्यांमार के Executive, Legislature तथा Election Commission और Press Council जैसी संस्थाओं की Capacity Building में हमारे व्यापकसहयोग पर हमें गर्व है। पड़ोसी होने के नाते, सुरक्षा के क्षेत्र में हमारे हित एक जैसे ही हैं। यह ज़रूरी है कि हम अपनी लंबी ज़मीनी और समुद्री सीमा पर सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखने के लिए मिलकर काम करें। सड़कों और पुलों का निर्माण, उर्जा के links, और connectivity बढ़ाने के हमारे प्रयास, एक अच्छे भविष्य की ओर संकेतकरते हैं। Kaladan project में हमने Sittwe port तथा Paletwa Inland Waterways Terminal परकाम पूरा किया है। और Road component पर काम शुरू हो गया है। Upper Myanmar की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत से high speed diesel ट्रकों द्वारा आना शुरू हो चुका है। हमारी development partnership के तहत म्यांमार में उच्च कोटि की स्वास्थ्य, शिक्षा तथा अनुसंधान की सुविधाओं काविकास प्रसन्नता का विषय है। इस संबंध में Myanmar Institute of Information Technology और Advanced Centre for Agricultural Research and Education विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। ये दोनों शिक्षा के प्रमुख केंद्रों के रूप में तेजी से उभर रहे हैं। भविष्य में भी हमारे projects म्यांमार की आवश्यकताओं और प्राथमिकताओं के अनुरूप ही होंगे। हमारे दोनों देशों के बीच आज हुए समझौतों से हमारे बहुमुखी द्विपक्षीय सहयोग को और भी बल मिलेगा।

मित्रों,

मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि हमने भारत आने के इच्छुक म्यांमार के सभी नागरिकों को gratis visa देने कानिर्णय लिया है। मुझे यह बताते हुए भी खुशी हो रही है कि हमने म्यांमार के 40 नागरिकों को छोड़ने का निर्णय लिया है जो इस समयभारत की जेलों में हैं। हम आशा करते हैं कि वे जल्द ही म्यांमार में अपने परिवारों से फिर से मिल सकेंगे।

महामहिम,

Nay Pyi Taw में मेरा समय बहुत सार्थक रहा। म्यांमार में अपने शेष प्रवास को लेकर भी मेरे मन में उत्साहहै। आज मैं बागान में आनंद Temple जाऊंगा। आनंद Temple एवं अन्य ऐतिहासिक व सांस्कृतिक इमारतों में पिछले सालके भूकंप से हुए नुकसान के बाद भारत के सहयोग से renovation हो रहा है। Yangon में भारतीय मूल के समुदाय से मुलाकात के अलावा मैं धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व के स्मारकों पर भीअपनी श्रद्धा अर्पित करूंगा। मुझे विश्वास है कि आने वाले समय में हम पारस्परिक लाभ के लिए सशक्त और नज़दीकी साझेदारी बनाने के लिएमिलकर काम करेंगे।

धन्यवाद!

चेजू तिन बा दे!

LEAVE A REPLY