Home नरेंद्र मोदी विशेष उत्सव के आनंद को गरीबों का आर्थिक त्योहार बनाएं- पीएम मोदी

उत्सव के आनंद को गरीबों का आर्थिक त्योहार बनाएं- पीएम मोदी

262
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30 जुलाई को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में त्योहारों के माध्यम से गरीबों की आर्थिक उन्नति का प्रयास करने की अपील की। उन्होंने कहा कि हमारे देश के त्योहार ऐसे हैं जिसमें गरीबों को आर्थिक उपार्जन के अवसर मिल जाते हैं। प्रधानमंत्री मोदी की इन बातों को उनका स्वदेशी वस्तुओं की ओर लोगों को प्रेरित करने की तरह से भी देखा जा रहा है। ऐसे में जब चीन डोकलाम में चालबाजियां कर रहा है, पीएम का संदेश उससे भी जोड़कर देखा जाने लगा है।

स्वदेशी को बढ़ावा
पीएम मोदी ने कहा कि आजकल लोग घरों में बनी राखियां पसंद करने लगे हैं। इनमें खादी और रेशम के धागों से बनी राखियां ज्यादा पसंद की जाती हैं। ये राखियां छोटे-छोटे गरीब परिवार ही बनाते हैं। उसी तरह दिवाली में छोटे-छोटे मिट्टी के दिये बनाने वाले और गणेश की प्रतिमा बनाने वाले गरीब परिवारों की रोजी-रोटी भी इसी पर टिकी रहती है। इसका सीधा संबंध उनके आर्थिक उपार्जन से जुड़ा है। पीएम ने लोगों से ऐसे ही गरीबों के हाथों से बनी चीजों के उपयोग का आह्वान किया है।

त्योहारों का गरीबों की जिंदगी से सीधा संबंध
प्रधानमंत्री मोदी के अनुसार, हमारे त्योहार, हमारे उत्सव, सिर्फ आनंद के ही अवसर ही नहीं हैं, ये त्योहार सामाजिक सुधार का भी एक अभियान है। पीएम मोदी के मुताबिक हमारे हर त्योहार, हर गरीब की आर्थिक जिंदगी के साथ सीधा सम्बन्ध रखते हैं। पीएम ने हाल में आने वाले त्योहारों के लिये देशवासियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि, इस समय गरीबों को आर्थिक उपार्जन का बड़ा अवसर मिल जाता है।

Eco-Friendly प्रतिमाओं का उपयोग करें
इस अवसर पर पीएम मोदी ने स्वदेशी के साथ-साथ पर्यावरण के महत्त्व पर भी बहुत अधिक बल दिया। उन्होंने कहा कि देश के नागरिकों ने उन्हें चिट्ठी लिखकर आने वाले गणेशोत्सव में eco-friendly मूर्तियों को अपनाने की अपील करने का अनुरोध किया है। पीएम ने कहा कि सार्वजनिक गणेशोत्सव का ये सवा सौ साल है, इसीलिये पर्यावरण की रक्षा के लिए लोग इस बात का संकल्प लें कि वो eco-friendly या मिट्टी से बने हुए ही गणेश की प्रतिमा स्थापित करें। पीएम मोदी ने उम्मीद जताई कि लोग इन बातों पर ध्यान देंगे, जिससे गरीब कारीगरों, कलाकारों और मूर्तिकारों को रोजगार भी मिलेगा और पर्यावरण की भी रक्षा हो सकेगी।

पीएम मोदी ने लोगों का आह्वान किया कि उत्सवों को गरीबों के साथ जोड़ें, उनकी अर्थव्यवस्था के साथ जोड़ें। इससे त्योहार का आनंद गरीब के घर का आर्थिक त्योहार बन सकेगा।

LEAVE A REPLY