Home नरेंद्र मोदी विशेष ऊर्जा और संकल्प से भरे यशस्वी युवाओं को ‘न्यू इंडिया यूथ’ मानता...

ऊर्जा और संकल्प से भरे यशस्वी युवाओं को ‘न्यू इंडिया यूथ’ मानता हूं- प्रधानमंत्री मोदी

401
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक जनवरी, 2018 को एक खास दिवस बताया है। प्रधानमंत्री ने नये साल के पहले दिन को विशेष इसलिए बताया है क्योंकि 2000 या उसके बाद जन्म लेने वाले युवा इस दिन से 21वीं सदी के वोटर बनने शुरू हो जाएंगे। 2017 के अपने आखिरी मन की बात कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि भारतीय लोकतंत्र, 21वीं सदी के वोटर्स का या ‘न्यू इंडिया वोटर्स’ का स्वागत करता है। उन्होंने अगले साल 15 अगस्त के आसपास न्यू इंडिया यूथ से नये भारत के निर्माण पर मंथन के लिए मॉक पार्लियामेंट आयोजित करने का भी आह्वान किया।

वोट की शक्ति, लोकतंत्र की सबसे बड़ी शक्ति है- प्रधानमंत्री मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने 21वीं सदी के वोटरों को वोटर के रूप में रजिस्टर्ड कराने का आह्वान करते हुए उन्हें बधाई दी। उन्होंने कहा कि, “आपका वोट ‘न्यू इंडिया’ का आधार बनेगा। वोट की शक्ति, लोकतंत्र में सबसे बड़ी शक्ति है। लाखों लोगों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए ‘वोट’ सबसे प्रभावी साधन है।” प्रधानमंत्री ने 21वीं सदी में मतदाता बनने जा रहे युवाओं से कहा है कि, “आप केवल मत देने के अधिकारी नहीं बन रहे हैं। आप 21वीं सदी का भारत कैसा हो? 21वीं सदी के भारत के आपके सपने क्या हों? आप भी तो भारत की 21वीं सदी के निर्माता बन सकते हैं।”

युवाओं के कौशल से नये भारत का सपना सच होगा- प्रधानमंत्री मोदी
इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि वे उमंग, उत्साह और ऊर्जा से भरे 18 से 25 वर्ष के युवाओं को ‘न्यू इंडिया यूथ’ मानते हैं। प्रधानमंत्री के मुताबिक ऊर्जावान युवाओं के कौशल और ताकत से ही ‘न्यू इंडिया’ का सपना सच होगा। उन्होंने कहा कि, ” जब हम नए भारत की बात करते हैं तो नया भारत; जो जातिवाद, संप्रदायवाद, आतंकवाद, भ्रष्टाचार के जहर से मुक्त हो। गंदगी और गरीबी से मुक्त हो। ‘न्यू इंडिया’ – जहां सभी के लिए समान अवसर हों, जहां सभी की आशा–आकांक्षाएं पूरी हों। नया भारत, जहां शांति, एकता और सद्भावना ही हमारा गाइडिंग फोर्स हो।”

न्यू इंडिया पर युवाओं का मॉक पार्लियामेंट आयोजित हो- प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने युवाओं का आह्वान किया कि वे नये भारत के निर्माण के लिए मंथन करें। उन्होंने कहा कि युवा अपने लिए भी एक मार्ग तय करे, जिनसे वह जुड़ा हुआ है उनको भी जोड़े, जिससे कारवां बढ़ता चले और देश भी आगे बढ़े। प्रधानमंत्री के अनुसार, ” मेरे नौजवान साथियो, समय की मांग है कि हम 21वीं सदी के भव्य-दिव्य भारत के लिए एक जन-आन्दोलन खड़ा करें। विकास का जन-आन्दोलन। प्रगति का जन-आन्दोलन। सामर्थ्यवान-शक्तिशाली भारत का जन-आन्दोलन।” प्रधानमंत्री ने ये भी कहा कि, ” मैं चाहता हूं कि 15 अगस्त के आस-पास दिल्ली में एक मॉक पार्लियामेंट का आयोजन हो, जहां प्रत्येक जिले से चुना गया एक युवा, इस विषय पर चर्चा करे कि कैसे अगले पांच सालों में एक न्यू इंडिया का निर्माण किया जा सकता है? संकल्प से सिद्धि कैसे प्राप्त की जा सकती है? क्योंकि आज युवाओं के लिए कई अवसर पैदा हुए हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्किल डेवलपमेंट से लेकर इनोवेशन और आंत्रप्रेन्योरशिप में हमारे युवा आगे आ रहे हैं और सफल हो रहे हैं। इसलिए वे इन अवसरों की, योजनाओं की जानकारी न्यू इंडिया यूथ तक आसानी से पहुंचाना चाहते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि 18 वर्ष होते ही युवाओं को सभी बातों की सही जानकारी का लाभ मिलना आवश्यक है।

LEAVE A REPLY