Home समाचार चंद्रयान-2: प्रधानमंत्री मोदी ने दी वैज्ञानिकों और टीम इसरो को बधाई, कहा-...

चंद्रयान-2: प्रधानमंत्री मोदी ने दी वैज्ञानिकों और टीम इसरो को बधाई, कहा- देशवासियों के लिए गर्व का दिन

195
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीहरिकोटा से चन्द्रयान-2 के ऐतिहासिक प्रक्षेपण पर इसरो के सभी वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को बधाई दी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज हर भारतीय गर्व महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि चन्द्रयान-2 के लॉन्च से विज्ञान में नई ऊंचाइयां छूने के लिए हमारे वैज्ञानिकों की क्षमता और 130 करोड़ भारतीयों की प्रतिबद्धता प्रकट होती है।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्विटर संदेश में यह भी कहा कि हर भारतीय को इस बात से बहुत खुशी होगी कि चंद्रयान 2 पूरी तरह से स्वदेशी मिशन है। उन्होंने कहा कि चन्द्रयान-2 इसलिए विशिष्ट है, क्योंकि यह चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र का अध्ययन और जांच करेगा, जहां अभी तक कोई खोज नहीं हुई थी। यह मिशन चंद्रमा के बारे में नया ज्ञान प्रदान करेगा। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि चंद्रयान 2 से देश के युवाओं की रूचि विज्ञान की तरफ बढ़ेगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘विशेष पल जो हमारे गौरवशाली इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया है! चन्द्रयान-2 के लांच से विज्ञान में नई ऊंचाइयां छूने के लिए हमारे वैज्ञानिकों की क्षमता और 130 करोड़ भारतीयों की प्रतिबद्धता प्रकट होती है। आज हर भारतीय गर्व महसूस कर रहा है!’

उन्होंने कहा, ‘हृदय से भारतीय, भावना से भारतीय! हर भारतीय के लिये प्रसन्नता का विषय है कि चन्द्रयान-2 पूरी तरह से स्वदेशी मिशन है। चन्द्रमा के धरातल का विश्लेषण करने के लिए चन्द्रयान-2 में चन्द्रमा के संबंध में दूर संवेदन के लिए एक आर्बिटर तथा लैंडर – रोवर मॉड्यूल होगा।’

प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘चन्द्रयान-2 इसलिए विशिष्ट है, क्योंकि यह चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र का अध्ययन और जांच करेगा, जहां अभी तक कोई खोज नहीं हुई थी। इस क्षेत्र से पहले नमूने भी कभी नहीं लिये गए। इस मिशन से चन्द्रमा के बारे में नई जानकारियां मिलेंगी।’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘चन्द्रयान-2 जैसे प्रयासों से हमारे प्रतिभाशाली युवाओं को विज्ञान, उच्च गुणवत्ता वाले अनुसंधान और नवाचार के प्रति प्रोत्साहन मिलेगा। चन्द्रयान को धन्यवाद, भारत के चन्द्र कार्यक्रम को बहुत बढ़ावा मिलेगा। चन्द्रमा के बारे में हमारे मौजूदा ज्ञान में बहुत वृद्धि होगी।’

Leave a Reply