Home नरेंद्र मोदी विशेष कछुए की चाल से नहीं हो सकता विकास, इसके लिए बालासोर के...

कछुए की चाल से नहीं हो सकता विकास, इसके लिए बालासोर के रॉकेट जैसी तेजी चाहिए- प्रधानमंत्री मोदी

186
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज ओडिशा और पश्चिम बंगाल के चुनावी दौरे पर हैं। उन्होंने ओडिशा के केंद्रपाड़ा और बालासोर में जनसभाओं को संबोधित किया। अपने संबोधन के दौरान एक ओर उन्होंने केंद्र और राज्य में बीजेपी की सरकार बनाने के लिए वोट करने की अपील की तो दूसरी ओर कांग्रेस और महागठबंधन में शामिल दलों पर जमकर निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा कि ओडिशा में विकास कछुए की गति से चल रहा है। विकास कछुए की चाल से नहीं चल सकता, इसके लिए बालाकोट के रॉकेट जैसी तेजी चाहिए।  

केंद्रपाड़ा में पीएम मोदी ने कहा, “मैं केंद्रपाड़ा को गौरवान्वित करने वाले हर महान व्यक्ति को नमन करता हूं। भगवान जगन्नाथ के आशीर्वाद से आप इस बार नए भारत की दिशा तय करने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हैं। मैं भी आज सुबह गुजरात के अहमदाबाद में अपना वोट डालने गया था। अभी आपके पास वोट डालकर पहुंचा हूं। कितना भी काम हो, कितनी ही जिम्मेवारी हो, कैसी भी परिस्थिति हो, लेकिन वोट डालना एक कर्तव्य भी है और सौभाग्य भी है। दो चरणों के चुनाव के बाद यह जो लहर है, यह लहर अब विरोधियों के लिए ललकार बन गई है। यह लहर नहीं ललकार है, फिर एक बार मोदी सरकार है।”

पीएम मोदी ने कहा, “2014 में भी इतना प्यार, इतना स्नेह मुझे नसीब नहीं हुआ था, जो इस बार हुआ है। ओडिशा में आज चुनाव अभियान का मेरा आखिरी दिन है। सरकारें आपने भी पहले बहुत देखी हैं, केंद्र में भी और राज्य में भी। लेकिन, यह वो सरकार है जिस पर 5 साल में भ्रष्टाचार का एक भी दाग नहीं लगा है, और जो झूठे आरोप लगाने की कोशिश भी कर रहे हैं, वे आज खुद कठघरे में खड़े हैं।”

लोकसभा चुनाव और ओडिशा विधानसभा चुनावों में लोगों से भाजपा को वोट देने की अपील करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ओडिशा में इसलिए बदलाव जरूरी है, क्योंकि जनता-जनार्दन को सिर्फ सत्ता बदलने के लिए नहीं बल्कि बेहतर विकल्प और अपने बेहतर भविष्य के लिए वोट करना है। ओडिशा का बड़ा हिस्सा समुद्री तट से घिरा है, वहां विकास की अनेक संभावनाएं हैं, उद्योग की संभावनाएं हैं। ओडिशा के पूरे तटीय इलाके को नए भारत के विकास का अहम केंद्र बनाने के लिए वे एक बड़े विजन के साथ काम कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “सागरमाला परियोजना के माध्यम से तटीय इलाकों में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। हमारे बंदरगाहों को अच्छी सड़कों और रेलवे नेटवर्क से जोड़ा जा रहा है। हमने नदी जलमार्गों को विकसित करने का बीड़ा उठाया है। यहां भी ब्राह्मणी नदी पर वाटरवे बनाया जा रहा है। यह वाटरवे तालचेर को धामरा और पारादीप बंदरगाहों से जोड़ रहा है। इसका एक बड़ा फायदा यह होगा कि तालचेर से निकला कोयला अब कम लागत में पोर्ट तक पहुंच जाएगा। हम जिस दिशा की तरफ बढ़ रहे हैं, उसके अनेक फायदे हैं। नदियों के रास्ते माल ढुलाई बहुत सस्ती पड़ती है। अच्छी कनेक्टिविटी का मतलब है टूरिजम की अच्छी संभावनाएं। इससे किसानों को भी लाभ होगा। किसानों की उपज समय पर देश के दूसरे हिस्सों तक पहुंच जाएगी। कोस्टल इकोनॉमी का एक महत्वपूर्ण अंग है ब्लू इकोनॉमी।  मछलीपालन को बढ़ावा देने के लिए एक अलग डिपार्टमेंट बनाया जा रहा है।”

बालासोर की जनसभा में पीएम मोदी ने कहा, “कुछ दिन पहले आप सभी ने देखा कि कैसे बालासोर का नाम इतिहास में दर्ज हो गया है। ‘मिशन शक्ति’ यानि सिर्फ 3 मिनट में स्पेस में सैटेलाइट को नष्ट करने की क्षमता भारत ने हासिल की है। यहीं, बालासोर से यह टेस्ट किया गया था। यहां से मिसाइल निकला और तीन मिनट में अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराया। इसके कारण भारत ऐसी ताकत हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया है। नए भारत के लिए हमारी सोच स्पष्ट है- जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान।” प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ओडिशा के एक-एक साथी ने तय कर लिया है कि कछुए की चाल से विकास नहीं चल सकता, इसके लिए रॉकेट जैसी तेजी चाहिए। वैसी ही तेजी जैसे बालासोर के रॉकेटों में होती है।  

Leave a Reply