Home समाचार साइबर अटैक लोकतांत्रिक देशों के लिए बड़ा खतरा- पीएम मोदी

साइबर अटैक लोकतांत्रिक देशों के लिए बड़ा खतरा- पीएम मोदी

326
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि साइबर स्पेस ने लोगों का जीवन बहुत आसान कर दिया है, लेकिन इसके गंभीर खतरे भी उभर कर के सामने आए हैं। पीएम मोदी ने ‘ग्लोबल कॉन्फ्रेंस ऑन साइबर स्पेस’ को संबोधित करने के दौरान ये बातें कही हैं। इस अवसर पर उन्होंने मौजूदा समय में डिजिटल दुनिया की आवश्यकताओं पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने बताया कि उनकी सरकार ने किस तरह से डिजिटल इंडिया के माध्यम से आम लोगों का जीवन बेहतर बनाने का प्रयास किया है।

आतंकवाद और कट्टरपंथी ताकतों को डिजिटल वर्ल्ड से दूर रखना सभी देशों की जिम्मेदारी
प्रधानमंत्री मोदी ने हैकिंग और साइबर हमले को लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा बताया है। उन्होंने दुनिया के सभी देशों का आह्वान किया कि समाज साइबर अपराधियों की गिरफ्त में न आने पाए, इस दिशा में कोशिश करें। पीएम के अनुसार सजगता इसका एक बेहतर उपाय हो सकता है। साइबर खतरों से बचने के लिए पेशेवरों की बेहतर ट्रेनिंग की आवश्यकता है। साइबर वॉरियर्स को किसी भी तरह के साइबर हमलों से बचने के लिए हमेशा सचेत रहना होगा। पीएम ने इस बात पर जोर दिया कि साइबर सुरक्षा युवाओं के करियर का एक बेहतर विकल्प बने। पीएम ने जोर देकर कहा कि सभी राष्ट्रों को सोचना होगा कि किसी भी स्थिति में डिजिटल स्पेस आतंकवादी और कट्टरपंथी ताकतों की मददगार साबित न हो। इसके लिए आपसी सूचनाओं का आदान-प्रदान और सुरक्षा एजेंसियों के बीच समन्वय बहुत ही आवश्यक है। उन्होंने कहा कि बहुत ही सूझबूझ से निजता एवं स्वतंत्र विचारों और राष्ट्रीय सुरक्षा के अंतर को समझना पड़ेगा। डिजिटल टेक्नोलॉजी के माध्यम से मानवता की बहुत बड़ी सेवा हो सकती है। सुरक्षित साइबर स्पेस से आम लोगों के जीवन स्तर को और बेहतर बनाया जा सकता है।

साइबर स्पेस ‘ईज ऑफ लिविंग’ में मददगार
पीएम मोदी ने कहा है कि साइबर स्पेस आम लोगों के ‘ईज ऑफ लिविंग’ में मददगार साबित हुई है और यह लोकतंत्र के लिए एक बहुत बड़ी ताकत है। उन्होंने डिजिटल इंडिया के माध्यम से भारत में उठाए गए कदमों का जिक्र कर बताया कि इसने किस तरह से करोड़ों गरीबों, महिलाओं और किसानों का सशक्तिकरण किया है। उन्होंने जनधन,आधार और मोबाइल का उदाहरण देकर बताया कि इन साधनों से उनकी सरकार ने किस तरह से जनता के खजाने का लगभग 10 बिलियन डॉलर बचाया है। उन्होंने कहा कि डिजिटल टेक्नोलॉजी से किसानों की आय बढ़ रही है और महिलाओं का भी सशक्तिकरण हो रहा है। उन्होंने बताया कि डिजिटल टेक्नोलॉजी के सहारे ही भारत आज भ्रष्टाचार मुक्त और लेस कैश अर्थव्यवस्था की ओर तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने MyGov और ‘PRAGATI’ का हवाला देकर बताया कि इन सबकी वजह से कैसे भारतीय लोकतंत्र सशक्त हुआ है और सरकारी निर्णयों में जन भागीदारी बढ़ी है।

पीएम ने कहा कि भारतीय आईटी टैलेंट को विश्व में महत्त्व मिला है। भारतीय आईटी कंपनियां वैश्विक पहचान बन गई हैं। उन्होंने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि उनके लिए साइबर स्पेस के क्षेत्र में क्रिएटिविटी, कैपेबलिटी और कैपिसिटी दिखाने का बहुत बड़ा अवसर पड़ा है। इस अवसर पर उन्होंने वैश्विक निवेशकों का आह्वान किया कि वे भारत में निवेश करके भारतीय स्टार्टअप की सफलता के भागीदार बनें और नई खोजों को बढ़ावा देकर मौजूदा और आने वाली पीढ़ी की राह आसान करें।

पीएम मोदी की और तस्वीरें देखें:

LEAVE A REPLY