Home समाचार गुजरात और हिमाचल ने विकास के रास्ते को चुना है – प्रधानमंत्री...

गुजरात और हिमाचल ने विकास के रास्ते को चुना है – प्रधानमंत्री मोदी

325
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों में भाजपा को मिली शादनदार जीत के लिए दोनों राज्यों की जनता को धन्यवाद दिया है। सोमवार शाम बीजेपी मुख्यालय मे पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश ने विकास के रास्ते को चुना है और इसी मार्ग से जन समस्याओं का समाधान भी होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि वैश्विक प्रतिस्पर्धा के युग में भारत को भी आगे जाने के लिए विकास की नई ऊंचाइयों को पार करना होगा। पीएम मोदी ने कहा कि कहा जा रहा था कि जीएसटी के कारण बीजेपी खत्म हो जाएगी। लेकिन, हाल के चुनावों ने इन अफवाहों को गलत साबित कर दिया है।

रिफॉर्म, परफॉर्म से ट्रांसफॉर्म का भरोसा
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज मिडिल क्लास की उम्मीदें काफी बढ़ गई हैं। वह जल्दी से अपनी अपेक्षाएं पूरी होने की उम्मीद रखता है। आज हर पल आम नागरिक नई आशाएं, नई अपेक्षाएं, नई आकांक्षाएं और नए सपने लेकर चल रहा है। पहले सामान्य आदमी ऐसी अपेक्षाएं नहीं रखता था, जैसा है वैसा चलाने का युग था। उन्होंने कहा कि इन नतीजों ने एक बात सिद्ध की है कि देश रिफॉर्म के लिए तैयार है, परफॉर्म करने वाली हर बात को सकारात्मक रूप से देख रहा है और उसे ट्रांसफॉर्म होने के प्रति भरपूर विश्वास है।

2014 के बाद देश में विकास का माहौल बना है
प्रधानमंत्री ने कहा है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद देश में विकास का माहौल बना है। देश में विकास की भूख जगी है। सरकार की प्राथमिकता विकास हो गया है। देश में एक ऐसी सरकार है जिसमें निर्णय लेने की ताकत है। क्योंकि उसकी नीयत में कोई खोट नहीं है, नीतियां साफ-सुथरी हैं। वह कलेक्टिव लीडरशिप को लेकर चलती है, जो भारत में को-ऑपरेटिव और कंपिटिटिव फेडरिलिज्म को ताकत देने में लगी है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इन चुनाव परिणामों से ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मंत्र पर जनता की मुहर लग गई है।

विकास का मजाक न बनाएं
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हिमाचल प्रदेश की जनता ने बता दिया है कि विकास नहीं होने पर जनता 5 साल में ही सरकार को चलता कर देती है। हिमाचल के मतदाताओं ने विकास के लिए पॉजिटिव वोटिंग की है। वहीं उन्होंने गुजरात में बीजेपी की जीत को अभूतपूर्व बताया। उन्होंने कहा कि अखबारों में तो 5 साल बाद चुनाव जीतने पर ही संपादकीय लिखे जाते हैं। लेकिन गुजरात की जीत तो विश्लेषकों के लिए 30 साल में बड़ी घटना है। उन्होंने कहा कि उनके लिए निजी तौर पर गुजरात की जीत डबल खुशी लेकर आई है। उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद साढ़े तीन साल से पार्टी कार्यकर्ताओं ने गुजरात को संभाला है और विकास की गति कम नहीं होने दी है। श्री मोदी ने कहा कि विकास को लेकर नाराजी हो सकती है, लेकिन इसका मजाक नहीं उड़ाया जाना चाहिए।

गुजरात में सारे षड़यंत्र रचे गए
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गुजरात में चारों तरफ से बीजेपी पर हमले किए जा रहे थे। वहां कांग्रेस के अलावा भी कई ताकतें लगी थीं कि एकबार गुजरात में बीजेपी सरकार को गिरा दो। इसके लिए षड़यंत्र किए गए, चालाकियां की गईं। जब से एग्जिट पोल आया तब कुछ लोग बहुत परेशान हो गए। बीजेपी की जीत के आनंद को कम करने के लिए भरपूर तैयारियां की गईं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वे आशा करते हैं कि लोकतांत्रिक तरीके से लगातार जीतने वाले एक दल की सच्चाई को भी ऐसे लोग कभी न कभी जरूर स्वीकार करेंगे।

एकता और भाइचारे का आह्वान
प्रधानमंत्री ने कहा कि साढ़े 6 करोड़ गुजराती एक हैं, नेक हैं, आगे बढ़ने का विश्वास लेकर चलने वाले लोग हैं। उन्होंने कहा कि गुजरात की जनता को पहले से अधिक जागरूक होना होगा। उन्होंने एकता का मंत्र लेकर भाईचारा को और मजबूत करने का आह्वान किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात के विकास का लाभ पूरे देश को मिलता है। ऐसे में गुजरात जैसे राज्य की जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ जाती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 2022 में आजादी के 75वें साल में महापुरुषों के सपनों को पूरा करने के लिए जनता को अपनी जिंदगी खपानी है। हम आजादी के बाद पैदा हुए, आजाद भारत को भव्य भारत बनाने के लिए हमें जी जान से जुटने का अवसर मिला है, उसे खोना नहीं चाहिए। आखिर में उन्होंने कहा कि विकास ही हमारा मंत्र है। देश को विकास के लिए आगे ले जाना है। इस अवसर पर उन्होंने एक नया नारा भी दिया – “जीतेगा भाई जीतेगा, विकास ही जीतेगा।”

LEAVE A REPLY