Home समाचार ‘खिसियानी केजरी, दिल्ली नोचे’

‘खिसियानी केजरी, दिल्ली नोचे’

768
SHARE

गोवा और पंजाब में मिली करारी हार के बाद अब अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली एमसीडी चुनाव में ताल ठोकी है। ‘चिट भी मेरी और पट भी मेरी’ की राजनीति में विश्वास रखने वाले केजरीवाल ने गोवा और पंजाब की हार पर खीज उतारते हुए कहा कि, वो इलाकों पर कब्जा करने वाले नेपोलियन थोड़े ही हैं लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि किस तरह से आपकी कार्यशैली में नेपोलियन की झलक दिखती है।

नेपोलियन केजरीवाल!

दिल्ली की सत्ता हाथ में आते ही आप के संस्थापक सदस्य योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को अलोकतांत्रिक तरीके से पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। दोनों को अपनी सफाई देने का एक मौका भी नहीं दिया गया क्या ये तानाशाही नहीं है।

केजरीवाल का लोकपाल बना जोकपाल!

लोकपाल पर दिल्ली में इतना बड़ा जन-आंदोलन खड़ा करने वाले अन्ना के सहयोगी अरविंद केजरीवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री ही लोकपाल बनाना ही भूल गए और जब लोकपाल बनाया गया तो वो एकदम बेअसर, यही नहीं पार्टी के अंदर के अंदर ही लोकतंत्र की शुरू से कमी रही है। केजरीवाल के दो पूर्व विधायक तिमारपुर से हरीश खन्ना और रोहिणी से राजेश गर्ग ने केजरीवाल पर बात नहीं सुनने का आरोप लगाकर आप पार्टी से चुनाव लड़ने से ही मना कर दिया था।

चुनाव आयोग पर सवाल उठाया

केजरीवाल संवेधानिक संस्थानों को भी कुछ नही समझते। पंजाब और गोवा का चुनाव क्या हारे उन्होंने चुनाव आयोग की निष्ठा पर ही सवाल खड़े कर दिए। सेना की सर्जिकल स्ट्राइक भी इनके लिए कोई मायने नहीं रखती।

दिल्ली को लंदन-पेरिस बनाने का शगूफा

दो साल पहले सत्ता में आए अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली से जो भी वादे किए आजतक उसमें से एक भी पूरा नहीं किया ये बात और है कि उनके ज्यादातर विधायक और मंत्री विवादों और कानूनी पचड़ों में ही उलझे रहे। गोवा और पंजाब में बुरी तरह हारने के बाद अब दिल्ली के एमसीडी चुनावों के लिए अरविंद केजरीवाल ने नया शगूफा छोड़ा है कि वो दिल्ली को लंदन-पेरिस की तरह बेदाग और सुंदर बना देंगे।

झांसेबाज केजरीवाल

ये वही केजरीवाल है, जिन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान गोवा और पंजाब में आप की बंपर जीत का दावा किया था हालाकि पंजाब में केजरीवाल को कुछ सीटें मिल भी गई लेकिन गोवा में तो आप के सभी उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हो गई। अब दिल्ली के एमसीडी चुनाव में जनता का क्या फैसला होगा ये चुनाव के बाद पता चलेगा लेकिन इतना तय है कि केजरीवाल के झांसे में अब दिल्ली के लोग आने वाले नहीं।

LEAVE A REPLY