Home नरेंद्र मोदी विशेष होली के त्योहार पर प्रधानमंत्री मोदी के एकता और भाईचारा के विचार 

होली के त्योहार पर प्रधानमंत्री मोदी के एकता और भाईचारा के विचार 

275
SHARE

अपने लंबे अनुभवों के आधार पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का यह विश्वास है कि पर्व-त्योहार का आनंद व्यक्ति को तनाव से दूर ले जाकर उसके अंदर एक नई ऊर्जा और स्फूर्ति का संचार करता है। ऐसे में किसी भी उत्सव का मौका हो, प्रधानमंत्री मोदी देशवासियों में उत्साह भरने में हमेशा आगे रहते हैं। आइए एक नजर डालते हैं कि रंगों के त्योहार होली पर वे किस प्रकार से आपसी भाईचारा और सद्भावना का संदेश देते आए हैं।

सुख-आनंद में सहभागी बनने का अवसर है होली

होली पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की यही शुभकामना है कि यह पर्व सवा सौ करोड़ देशवासियों के जीवन में रंग-बिरंगी खुशियों से भरा हुआ रहे। बीती 25 फरवरी को अपने मन की बात में प्रधानमंत्री ने कहा:

‘‘होली सारे मनमुटाव भूल कर एक साथ मिल बैठने, एक-दूसरे के सुख-आनंद में सहभागी बनने का शुभ अवसर है जो प्रेम, एकता तथा भाईचारे का संदेश देता है। आप सभी देशवासियों को होली के रंगोत्सव की बहुत-बहुत शुभकामनाएं, रंग भरी शुभकामनाएं।

हर त्योहार में बुराई को परास्त करने का संदेश

पिछले वर्ष होली से ठीक दो दिन पहले उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव नतीजे आए थे। इन नतीजों से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जनता का विश्वास स्पष्ट रूप से उजागर हुआ था। 12 मार्च, 2017 को बीजेपी मुख्यालय में आयोजित सम्मान समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमारा प्रत्येक त्योहार हमें बुराई को परास्त करके आगे बढ़ने का संदेश देते हैं और होली के पर्व पर भी हमें बुराई को परास्त करते हुए आगे बढ़ने का संकल्प लेना चाहिए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा :

‘’होली के इस पावन पर्व पर भी, हमारे भीतर अगर कोई कमियां हैं, सामाजिक जीवन में अगर कोई कमियां हैं, राष्ट्र जीवन में अगर कोई कमियां हैं, उन्हें परास्त करते हुए आगे बढ़ने का संकल्प लेना चाहिए। हर त्योहार में इस संकल्प को दोहराना चाहिए। होली का यह पावन पर्व हम सबको वह शक्ति दे, सवा सौ करोड़ देशवासियों को वह शक्ति दे ताकि हम अच्छाइयों को लेकर के मानव जाति के कल्याण के काम के लिए आगे बढ़ते चलें।‘’

मुख्यमंत्री के रूप में भी राष्ट्रीय सद्भावना बढ़ाने के संदेश

होली के अवसर पर हर वर्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोगों का जोश जगाने के लिए आगे आते रहे हैं। 2015 में उन्होंने पहली बार प्रधानमंत्री के रूप में देशवासियों को होली की शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया कि रंगों का यह त्योहार आप सबके जीवन को खुशियों से भर दे। इससे पहले गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में भी नरेन्द्र मोदी होली पर आपसी सद्भावना बढ़ाने के संदेश देते रहे थे। 2014 की होली लोकसभा चुनाव  शुरू होने से तीन हफ्ते पहले मनाई गई थी। तब गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए नरेन्द्र मोदी बीजेपी की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार थे। 16 मार्च 2014 को उन्होंने अपने एक ऑडियो संदेश के जरिये देशवासियों को होली की शुभकामना दी और उनसे लोकसभा चुनावों में देश का भविष्य बदलने की अपील की थी। इस संदेश में उन्होंने कहा था:

‘’नमस्ते, भारत के भाग्य-विधाता मेरे भाइयो-बहनो, मैं नरेंद्र मोदी बोल रहा हूं। होली के पावन पर्व पर आपको बधाइयां देने के लिए आया हूं। मेरी बहुत शुभकामनाएं। होली का पर्व आनंद और उत्साह से आपके जीवन में भी खुशियां भरे। चुनाव के रंग से रंगा हुआ देश, वो भी लोकतंत्र का एक होली उत्सव है। आइए हम सब मिलकर के लोकतंत्र के उत्सव को भी मनाएं।‘’

होली में एक भारत श्रेष्ठ भारत के सपने का रंग

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में 26 मार्च 2013 को नरेन्द्र मोदी ने होलिका दहन नए रंग-रूप के साथ करने की सामाजिक आवश्यकता पर बल दिया था। उन्होंने कहा था कि होली के इस पर्व पर माता, बहन, बेटियों का सम्मान और गौरव बरकरार रहे और सामाजिक जीवन में मातृशक्ति की प्रतिष्ठा ऊंची रहे, इसके लिए हम सबको सामाजिक जागृति उजागर करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि समाज में कहीं भी विकृतियां या अनिष्ट हों तो उनको भी होलिका दहन के साथ जला दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि रंगों का उत्सव होली समाज में एकता लाने और समाज को जोड़ने के काम आए जिसमें एक भारत श्रेष्ठ भारत के सपने का रंग है।

 

LEAVE A REPLY