Home पोल खोल अपूर्वा ने अखिलेश से पूछा, जब दंगे हो रहे थे आप नाच...

अपूर्वा ने अखिलेश से पूछा, जब दंगे हो रहे थे आप नाच क्यूं करवा रहे थे?

620
SHARE

उत्तर प्रदेश के राजनीतिक माहौल ने लोगों को गंभीर चिंतन के लिए मजबूर कर दिया है। अखिलेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद राज्य दादरी कांड और मुजफ्फरनगर जैसे दंगों की आग में जलता रहा। बुलंदशहर गैंगरेप में मजबूर बाप के सामने उसकी पत्नी और बेटी से घंटों बलात्कार किया जाता रहा। राज्यभर में सपाई गुंडे राज्य में उत्पात मचाते रहे मगर अखिलेश सोते रहें। अब बाप-बेटे और चाचा- भतीजे की लड़ाई में वे हीरो बनने के कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में उन्हीं के एक समर्थक ने उन्हें जमकर लताड़ा है।

आगरा की एक लेखिका अपूर्वा प्रताप सिंह ने फेसबुक पर लिखा है कि हे अखिलेश, जब मुजफ्फरनगर में दंगा और सैफई में नाच हो रहा था तब आपने क्यों नहीं आवाज निकाली? अपूर्वा ने पूछा है कि आपने जिस ढंग से पार्टी ऑफिस पर कब्जा किया, उससे आप क्या जताना चाहते हैं? इससे आपने साबित किया कि आपको सपा की बैसाखी की जरूरत है। खुद को सिद्ध करना था तो पार्टी छोड़ते और करते संघर्ष। देखिए अपूर्वा ने फेसबुक वॉल पर क्या लिखा है-

प्रिय अखिलेश भैया,

जब 2012 में चुनाव था, तब मेरे पास वोट नही था। सपा नापसन्द होते हुए भी मैंने आपको सपोर्ट किया, दूसरों को कहा आपको वोट दें। ऐसा सुनने में आता रहा कि आप तो इस परिवारवाद से ऊपर आना चाहते हैं लेकिन आपके ही घर के लोग आपको फैसले नहीं करने देते, वगैरह!! तो मुझे आपसे यह कहना है कि फैसले कदम दर कदम लिए जाते हैं। आपने तब क्यों नहीं आवाज़ निकाली जब मुजफ्फरनगर दंगे हो रहे थे, और सैफई में नाच होता रहा।

जिस ढंग से पार्टी ऑफिस पर कब्ज़ा हुआ, उससे क्या जताना चाहते हैं? जैसे कि उत्तर प्रदेश आपकी सल्तनत है और आप इसके शहज़ादे जो तख़्तापलट करेंगे! नेता जो थे, वो आपके पिता श्री हैं । उनका संघर्ष है ये पार्टी । कांग्रेस के भक्ति काल में जब वो प्रचार के लिए गांव गांव जाते थे तब काले झंडे से ले कर जूते तक, सब उन्होंने सहा है और हिम्मत नहीं हारी है । आज इटावा में अहीरों को जो इज़्ज़त मिली है, उनकी देन है, भले इसका गलत फायदा उठाया जा रहा है तब भी । आपको उनकी बे इज़्ज़ती करने का कोई अधिकार नहीं है।

आपने पार्टी पर कब्ज़ा कर के ये सिद्ध किया कि आपको स.पा. की बैसाखी की जरूरत है, आपका अचानक से यह दुस्साहस आपकी बौखलाहट दिखा रहा है । आप परिवारवाद से निकले ही नहीं, एक चाचा छोड़ा तो दूसरे को लाद लिया !! आप को खुद को सिद्ध करना ही था तो छोड़ते पार्टी, और करते संघर्ष ! इस बार नहीं भी तो अगली बार बनते मुख्यमंत्री और तब कहलाते आप नेता, अपने पिता की तरह!

सपा को उसके हाल पर छोड़ते, पिता जी की जिंदगी भर की मेहनत थी वो ! आपके पिता में लाख़ कमी रही लेकिन इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि वो आपसे बेहतर देख पा रहे होंगे कि आप के पिछलग्गू क्या कर रहे हैं । आपको चने के झाड़ पर चढ़ाया जा रहा है और आप चढ़ रहे हैं! अगर आप चुनाव जीतते हैं तो उम्मीद है कि आप अपनी अक्ल चलाएंगे, सलाहकारों की नहीं!

इस बार एक वोटर!

अपूर्वा के इसी पोस्ट के कमेंट में उनके एक फ्रेंड ने एक वीडियो डाली है जिसमें अखिलेश अपने पिता से माइक छिनते दिख रहे हैं।


देखिए वीडियो

LEAVE A REPLY