Home चुनावी हलचल गांधी परिवार पर मोदी ‘वार’, नोटबंदी के चलते सोनिया-राहुल को लेनी...

गांधी परिवार पर मोदी ‘वार’, नोटबंदी के चलते सोनिया-राहुल को लेनी पड़ी जमानत

216
SHARE

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के दौरान बिलासपुर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने परिवारवाद, नक्सलवाद और बंटवारे की राजनीति के खिलाफ तीखा हमला बोला। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां पर नेशनल हेराल्ड मामले में जमानत पर होने का जिक्र किया और कहा कि रुपये की हेराफेरी में लिप्त ये लोग उनसे हिसाब मांगने की जुर्रत कर रहे है।

नोटबंदी पर सवाल उठाने वालों को करारा जवाब

महिलाओं की भारी भीड़ वाली इस रैली में प्रधानमंत्री ने नोटबंदी पर सवाल खड़ा करने वालों को भी करारा जवाब दिया। पीएम मोदी ने कहा कि नोटबंदी के चलते फर्जी कंपनियों पर ताला लग गया है। लोगों के घरों-बिस्तरों-अलमारियों में रखा काला धन बाहर आ गया है और इन काले धन वाले लोगों की मदद करने वाले चेहरे उजागर हो गये हैं। उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी की ही वजह से देशभर में विकास कार्यों की झड़ी लग गई है।  उन्होंने आरोप लगाया कि जो मां बेटे रुपये की हेराफेरी में जमानत पर घूम रहे हैं वो मोदी को प्रमाण पत्र दे रहे हैं। उन्होंने नोटबंदी का हिसाब मांगने वालों से कहा कि इसी के चलते फर्जी कंपनियां पकड़ी गई, उसी से आपका कारोबार पकड़ा गया और आपको जमानत पर निकलना पड़ा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पहले भी सरकार थी लेकिन इस सरकार में जितनी तेज गति से से विकास के चौतरफा कार्य हो रहे हैं और फंड की कोई कमी नहीं है। पहले ये रुपये किसी के बोरे में, बिस्तर में, अलमारियों में पड़े थे जो नोटबंदी से बाहर आ गए और उससे विकास के काम हो रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में शक्ति, संकल्प और आत्म विश्वास की कमी नहीं हैं। आम आदमी के सपने में कमी नहीं हैं। लेकिन नीति, नीयत और नेतृत्व में दूरदर्शिता की कमी से ये सपने पूरे नहीं हो सके।  

भ्रष्टाचार का ‘पंजा’ !

कांग्रेस के जमाने के भ्रष्टाचार को याद करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि राजीव गांधी ने खुद माना था कि सरकारी योजनाओं का 85 फीसदी बिचौलिये खा जाते थे। पीएम ने पूछा कि ये कौन सा पंजा था जो 85 पैसे मार लेता था? वो कौन सा पंजा था जो रुपया घिस घिसकर 15 पैसा बना देता था? ये नोटबंदी ने उन 85 पैसे को बाहर निकाला है।

नक्सलवाद को कौन पाल पोस रहा है ?

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस के नक्सलवादियों पर नरम रुख पर हमला भी किया। उन्होंने दावा किया कि छत्तीसगढ़ में नक्सलियों से मुकाबला बीजेपी की सरकार ही कर सकती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता जिस तरह से नक्सलवादियों को क्रांतिकारी बता रहे हैं उससे साफ जाहिर है कि कांग्रेस के इरादे क्या है?  उन्होंने बस्तर में लोगों के मतदान को लेकर उत्साह और चुनाव आयोग के कार्यक्रमों की तारीफ भी की।

परिवारवाद और बंटवारे की राजनीति को जवाब

प्रधानमंत्री ने परिवारवाद और जात-पांत की राजनीति करने वालों को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि 1952 से लेकर हर चुनाव चुनाव जांति-बिरादरी ,परिवार, मेरे-तेरे, गांव-शहर, और अमीर और गरीब की खाई पैदा कर लड़ा गया, इसमें विचारशील लोग भी बह जाते थे लेकिन बीजेपी ने आजादी के मतवालों का सपना पूरा करने का संकल्प लिया और राजनीति में एक नई धारा लेकर आई। भाजपा का एक ही मंत्र रहा है विकास, विकास और विकास। तेज गति, सब तरफ और सबका विकास भाजपा का मूल मंत्र है। इसलिए विपक्ष को इसकी कोई काट नहीं सूझ रही है और वो अनर्गल आरोप लगा रहा है। अब देश का गरीब से गरीब आदमी भी अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा, बेहतर माहौल, बेहतर घर देने का सपना देख रहा है। इन सपनों को साकार करने के लिए हम संकल्प लेकर चल पढ़े हैं।

भाजपा मतलब विकास

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने छत्तीसगढ़ में हुए विकास कार्यों का जिक्र करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की स्थापना के बाद हर तरफ विकास देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमारे पास विकास का मजबूत इतिहास है जिसे हर पैमाने, मानदंड और कसौटी पर कसा जा सकता है। इससे देश में उज्जवल भविष्य का विश्वास पैदा हुआ है।

प्रधानमंत्री ने अलग राज्य बनने से पहले छत्तीसगढ़ की स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि पहले एमपी भी बीमारू राज्य में गिना जाता था। छत्तीसगढ़ की स्थिति तो और भी खराब थी। उन्होंने कहा कि पहले एक परिवार तक राजनीति सीमित थी जबकि भाजपा की तो राजनीति ही गरीब की झोपड़ी से शुरू होती है और गरीब की जिंदगी को बदलने का लक्ष्य लेकर चलती है। मोदी ने परिवार के गुलाम नेताओं पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये लोग आम आदमी की आशा आकांक्षाओं से कट गए थे और न कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व उन्हें कोई दिशा दे सकता था।

कांग्रेस के 30 साल बनाम मोदीजी के 4 साल

उन्होंने अपनी और कांग्रेस सरकार के कामकाज करने की गति का भी हवाला दिया। पीएम आवास योजना का उदाहरण देते हुए पीएम ने कहा कि उनकी सरकार ने पीएम आवास योजना के तहत बीते चार साल में जो काम किया है उसे कांग्रेस की सरकार की गति से करने में कम से कमतीस साल लग जाते। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के हर इंसान की बेहतरी को अपनी सरकार का मूल मंत्र बताया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार सब बच्चों को पढ़ाई, युवा को कमाई, किसान को सिंचाई और बुजुर्गों को दवाई का पूरा प्रबंध करना चाहती है।

गरीबों को सेहत का वरदान ‘आयुष्मान’

गरीबों के इलाज की सबसे बड़ी बाधा को दूर करने के लिए केंद्र सरकार आयुष्मान भारत योजना लेकर आई है। पीएम मोदी ने कहा कि अकेले छत्तीसगढ़ में 42 लाख परिवार को इसका सीधे सीधे फायदा मिलने वाला है। इसके बाद गरीब आदमी के इलाज की चिंता केंद्र सरकार कर रही है। उन्होंने खुशी जताते हुए कहा कि देश में लाखों परिवार, जो अब तक पैसे के अभाव में इलाज कराने नहीं जाते थे , उन्होंने इस योजना का फायदा उठाकर इलाज कराया है। पीएम ने कहा कि देशभर में करीब दो लाख लोगों का उपचार 30-40 दिन में हो गया है। ये बहुत बड़ा काम है। ये वो लोग हैं जो शायद मरना पसंद करते लेकिन अस्पताल जाना पसंद नहीं करते। अगर जाते तो भी कर्जदार हो जाते, कर्ज लेना पड़ता और कर्ज बेटे के बेटे को चुकाना पड़ता। लेकिन ये काम इस बेटे ने कर दिया है।

खनिज संपदा वाले इलाकों का विकास

पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार की नीतियों से खनन संपदा से भरपूर छत्तीसगढ़ को उसके हिस्से की रकम मिल रही है। केंद्र सरकार ने प्रचुर खनन संपदा वाले जिलों के विकास के लिए डिस्ट्रिक्ट मिनरल फंड बनाया है, जिससे छत्तीसगढ़ के जिलों को विकास कार्यों के लिए करीब तीन हजार करोड़ रुपये का फंड मिला है।   

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार एक नया छत्तीसगढ़ बनाने के संकल्प के साथ काम कर रही है। उन्होंने लोगों से अपील की अब छत्तीसगढ़ की उम्र 18 साल हो गई है, इसलिए आम जनता को छत्तीसगढ़ के भविष्य का फैसला बहुत सोच समझकर लेना होगा, ताकि छत्तीसगढ़ के विकास का पहिया ना रुके।

LEAVE A REPLY