Home चुनावी हलचल मोदी रंग में रंगकर ‘केसरिया’ हुआ उत्तर प्रदेश

मोदी रंग में रंगकर ‘केसरिया’ हुआ उत्तर प्रदेश

597
SHARE

उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनाव परिणामों ने एकबार फिर साबित कर दिया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी निर्विवाद रूप से भारतीय राजनीति के महारथी हैं। उनके सामने किसी भी पार्टी का दूसरा कोई राजनेता नहीं टिकता। यूपी में बीजेपी के पक्ष में आए नतीजों की सुनामी ने इस बात पर फिर से मुहर लगाई है कि उत्तप्रदेश की जनता के दिलो-दिमाग पर पीएम मोदी का जलवा न सिर्फ बरकरार है, बल्कि उसका लगातार विस्तार होता जा रहा है।

मतदाताओं को पीएम के काम पर भरोसा
नमो पर यूपी के मतदाताओं का भरोसा यूं ही नहीं बना है। पीएम मोदी ने जिस तरह से विकसित वडोदरा का प्रतिनिधित्व छोड़कर त्रिकालदर्शी भगवान भोले भंडारी की नगरी काशी समेत पूरे राज्य को बुलंदियों पर पहुंचाने का बीड़ा उठाया है…उसने भगवान राम की धरती के गौरवमयी इतिहास में फिर से चार चांद लगने का भरोसा, यकीन में बदल दिया है।

बीजेपी की मंदिर आंदोलन से भी बड़ी जीत
यूपी में मंदिर आंदोलन से भी बड़ी जीत हासिल करना बीजेपी के लिए इतना आसान नहीं था। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कड़ी मेहनत और लगन का जादू मतदाताओं के सिर चढ़कर बोल रहा है। तीन साल से भी कम के कार्यकाल में उन्होंने जिस तरह से देश को तरक्की की राह पर आगे बढ़ाया है, दुनिया में भारत की गरिमा और प्रतिष्ठा का परचम लहराया है, देश की बेहद सशक्त और ताकतवर छवि पेश की है, भ्रष्टाचार और कालेधन पर नकेल कसा है और सबसे खास गरीबों एवं महिलाओं के उत्थान के लिए काम किया है उसे झुठलाना विरोधियों के लिए भी हमेशा मुश्किल साबित हुआ है। आम जनता उस इंसान पर तहे दिल से यकीन करने को तैयार है, जो अपना संपूर्ण जीवन राष्ट्र को समर्पित करने का संकल्प लेकर आया है।

यूपी में बीजेपी का वनवास खत्म
यूपी में बीजेपी के वनवास को खत्म करने के लिए पीएम मोदी ने जिस कदर संघर्ष का बीड़ा उठाया, उससे पार्टी कार्यकर्ताओं में एक उत्साह का संचार हुआ। नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की तमाम जिम्मेदारियों बखूबी निभाते हुए भी 23 धुंआधार रैलियों से पार्टी के लिए यूपी की सत्ता में वापसी की गारंटी तय कर दी। पीएम मोदी रैलियों भर से इत्मिनान नहीं हुए, उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में दो दिन खुली जीप में रोडशो करके मतदाताओं-कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद किया और उनकी रगों में पार्टी के प्रति नई ऊर्जा का संचार कर दिया।

नोटबंदी पर गरीब मतदाताओं की मुहर
राज्यभर में प्रधानमंत्री जहां भी गए, वो लोगों से उसी आत्मीयता और अपनेपन से मिले, जिसके लिए वो जाने जाते हैं। इससे पूरे राज्य में यही संदेश गया कि पीएम मोदी जनता के नेता हैं और वह जाति और संप्रदाय के परे सभी की मदद करने के लिए ही काम करते हैं। सबका साथ, सबका विकास का उन्होंने जो नारा दिया है, वो पूरे भारत को उसी दिशा में ले जाने में जुटे हैं। यूपी का चुनाव परिणाम ये भी साबित करता है कि जनता ने नोटबंदी जैसे कड़े फैसले पर भी मुहर लगा दी है। जनता महसूस कर रही है कि उन्होंने जिस काम के लिए मोदी जी का साथ दिया, वो देश को उसी रास्ते पर आगे ले जाने के मिशन पर बिना कोई छुट्टी लिए दिन-रात जुटे हुए हैं। यही वजह है कि इस चुनाव में क्या गरीब, क्या अमीर, क्या दलित, क्या गैर-दलित सबने खुलकर मोदी जी का साथ दिया और आम चुनाव की तरह ही विधानसभा चुनावों में भी यूपी में बीजेपी के विजय पताका फहराने का रास्ता साफ कर दिया।

यूं कह लीजिए कि नरेंद्र मोदी की शख्सियत ही ऐसी है कि जिसने देश के गरीब से लेकर मध्यम वर्ग तक के लोगों में अपनी अमिट छाप छोड़ी है। आज हकीकत तो ये है कि एक गरीब के घर पैदा हुआ भारत माता का ये सपूत भारत ही नहीं पूरी दुनिया में एक विश्वनेता के तौर पर उभर कर सामने आ रहा है।

LEAVE A REPLY