Home समाचार मनोज तिवारी ने केजरीवाल से पूछा- आपके साढ़ू माफिया थे क्या?

मनोज तिवारी ने केजरीवाल से पूछा- आपके साढ़ू माफिया थे क्या?

236
SHARE

दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने केजरीवाल सरकार पर जोरदार हमला बोला है। दिल्ली सरकार पर घोटाले को लेकर जारी एक चिट्ठी में मनोज तिवारी ने दिल्ली के विवादास्पद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से पूछा है कि क्या आपके साढ़ू माफिया थे? मनोज तिवारी ने आरोप लगाया है केजरीवाल के दिवंगत साढ़ू सुरेंद्र बंसल फर्जी बिल से पैसा कमाने के साथ अधिकारियों को डराते-धमकाते भी थे।

तिवारी ने आरोप लगाया कि केजरीवाल अपने साढ़ू को ठेका देते थे और साढ़ू बंसल की कंपनी बनी हुई नालियों को तोड़कर फिर उसी को रिपेयर करती थी। उन्होंने कहा कि काम हो या ना हो साढ़ू पैसे जरूर उठा लेते थे। इस बारे में जब एक अधिकारी ने इसकी शिकायत की तो उसे डराया- धमकाया गया।

तिवारी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल को इस्तीफा देकर अपने ऊपर लगे आरोपों की निष्पक्ष जांच करवानी चाहिए।

साढ़ू पर आरोप
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साढ़ू सुरेंद्र बंसल ने कई फर्जी कंपनियां बनाकर उनके फर्जी बिल से पीडब्ल्यूडी विभाग से करोड़ों रुपए की कमाई की। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा बंसल के खिलाफ शिकायत मिलने पर जांच भी कर रही थी। एक स्वयंसेवी संगठन के राहुल शार्मा ने इस बात की शिकायत पुलिस विभाग में की थी।

बंसल को 2014 से 2016 के बीच कई निर्माण कार्यों का सरकारी काम दिया। जिनमें कई डमी कंपनी बनाकर करोड़ों का काम दिखाया गया और फिर कागजों पर ही काम दिखलाकर पैसे हड़प लिए गए। उनके खिलाफ शिकायत में कहा गया है कि केजरीवाल ने नियमों को ताक पर रखकर बंसल को टेंडर जारी किए। बताया जाता है कि बंसल ने रेणू कंस्ट्रक्शन के नाम से कंपनी बनाई और फिर महादेव इम्पेक्स से सामान खरीदा हुआ दिखाया। जबकि महादेव इम्पेक्स ने सेल टैक्स विभाग को दी जानकारी में कोई कारोबार नहीं दिखाया है। यानी कंस्ट्रक्शन का सारा काम सिर्फ कागजों पर हुआ और पैसा सरकार के फंड से दिया गया।

आरोप है कि बंसल ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के संबंध का फायदा उठाते हुए अधिकारियों को प्रभावित किया। एनजीओ की शिकायत के बाद दिल्‍ली पुलिस ने अपनी आर्थिक अपराध शाखा को शुरुआती जांच के आदेश दिए। एनजीओ का कहना है कि जिन्होंने खुद अपने रिश्तेदारों को रेवड़ी बांटी हों उनसे किसी निष्पक्ष जांच और इंसाफ की उम्मीद कैसे की जा सकती है।

LEAVE A REPLY