Home समाचार मेड इन इंडिया ने दी मेड इन चाइना को शिकस्त

मेड इन इंडिया ने दी मेड इन चाइना को शिकस्त

609
SHARE

उत्पादों की साख के मामले में भारत ने चीन को पीछे छोड़ दिया है। सोमवार को जारी मेड इन कंट्री इंडेक्स (MICI-2017) में भारत ने उत्पादों के गुणवत्ता के मामले में चीन को सात स्थान पीछे धकेल दिया है। यूरोपीय यूनियन और दुनिया के 49 देशों को लेकर जारी इस इंडेक्स में चीन आखिर से दूसरे 49वें स्थान पर है। 50 देशों की इस सूची में भारत 42वें स्थान पर है। साफ है कि भारत धीरे-धीरे उत्पादों के गुणवत्ता के मामले में दुनिया भर में अपनी पहचान बनाने लगा है।

इंडेक्स में भारत को जहां 36 अंक मिले हैं वहीं चीन को सिर्फ 28 अंक प्राप्त हुए हैं। इसमें पूरे सौ अंक के साथ जर्मनी पहले और 98 अंक के साथ स्विट्जरलैंड दूसरे नंबर पर है।स्टैटिस्टा ने डालिया रिसर्च के साथ मिलकर 52 देशों के 43,034 लोगों की संतुष्टि के आधार पर यह अध्ययन किया है। इस अध्ययन में उत्पादों की गुणवत्ता, सुरक्षा मानक, कीमत की वसूली, विशिष्टता, डिजायन, एडवांस्ड टेक्नोलॉजी, भरोसेमंद, टिकाऊपन, सही तरीके से उत्पादन और प्रतिष्ठा को शामिल किया गया है। हर देश के बारे में कम के कम ढाई हजार लोगों ने अपनी राय दी है।

मेड इन कंट्री इंडेक्स से साफ है कि घटिया और सस्ते उत्पादों के दम पर चीन भले ही दुनियाभर में अपनी बादशाहत दिखाता हो, लेकिन साख और क्वालिटी के मामले में वह भारत से काफी पीछे है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 25 सितंबर 2014 को मेक इन इंडिया मुहिम की शुरुआत की थी। इस अभियान के तहत विदेशी निवेशकों को भारत में निवेश के लिए बेहतर अवसर उपलब्ध कराया जा रहा है। अभियान के बाद भारतीय उत्पादों की साख दुनियाभर में मजबूत हुई है।

 

LEAVE A REPLY