Home नरेंद्र मोदी विशेष हमारी सरकार आस्था को संवैधानिक संरक्षण देने के लिए कोर्ट से लेकर...

हमारी सरकार आस्था को संवैधानिक संरक्षण देने के लिए कोर्ट से लेकर संसद तक लड़ेगी- प्रधानमंत्री मोदी

415
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को केरल के तिरुवनंतपुरम में एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि जिस प्रकार आपने मोबाइल फोन का दीप प्रज्वलन कर इस पूरी जनसभा को रोशन कर दिया है, उसी तरह आपके पवित्र वोट से पूरा हिन्दुस्तान रोशन होने वाला है। पिछले पांच वर्षों में भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर जो भरोसा आपने दिखाया, उसके कारण आज भारत तेज गति से आगे बढ़ रहा है। जल में, थल में, नभ में और अंतरिक्ष में भी भारत सुरक्षित है। आज मोबाइल फोन से लेकर मिसाइल तक जीवन का ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है, जो स्पेस से कंट्रोल नहीं होता है। कल्पना कीजिए, अगर कोई गलत ताकत कभी स्पेस में हमारे संसाधनों पर हमला कर दे, तो क्या होगा! लेकिन, हमारे देश को चिंता करने की जरूरत नहीं है। आपके इस चौकीदार ने हर क्षेत्र में सुरक्षा की चाकचौबंद व्यवस्था की है।  

पीएम मोदी ने कहा, “इस बार का चुनाव सिर्फ एक सरकार बनाने के लिए नहीं है। आने वाले वर्षों में भारत एक विकसित देश कैसे बने, यह चुनाव इस बात के लिए है। भारत दुनिया की टॉप-3 इकोनॉमी के क्लब में कितनी जल्दी पहुंचेगा, आपके एक वोट से यह तय होना है। यह देश की आकांक्षाओं का चुनाव है। ऐसे में, तिरुवनंतपुरम और केरल के हर वोटर पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी है।”    

केंद्र सरकार द्वारा गांव-गरीब, किसान-मजदूर के लिए किए गए विकास-कार्यों की चर्चा करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “मछुआरा भाइयों को सशक्त करने के लिए केंद्र की एनडीए सरकार ने अनेक कदम उठाए। समय पर उन्हें खतरे का अलर्ट मिले, इसके लिए मछुआरों को नाविक डिवाइस दिए जा रहे हैं। बजट में हमने फिशरी के लिए अलग डिपार्टमेंट बनाने की घोषणा की है। मछुआरों को किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा दी गई है। डीप-सी फीशिंग और बोट के आधुनिकीकरण के लिए भी मदद दी जा रही है। इस चौकीदार की सरकार ने ‘सबका साथ सबका विकास’ के सिद्धांत पर काम किया है।”

देश की परंपरा और संस्कृति के प्रति भारतीय जनता पार्टी की कटिबद्धता को स्पष्ट करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “भारत में हजारों सालों से जो परंपराएं विकसित हुई हैं, उस पर राजनीति के लिए किसी भी प्रकार का प्रहार हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। केरल का बच्चा-बच्चा इसका विरोध करेगा, आस्था का चौकीदार बनकर खड़ा होगा। आप सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि 23 मई के बाद जब एक बार फिर मोदी सरकार बनेगी तो कोर्ट से लेकर संसद तक हम आपकी आस्था के लिए लड़ेंगे। हम आस्था को संवैधानिक संरक्षण देने का काम करेंगे।”   

Leave a Reply